BREAKING NEWS

Asia Cup 2022: रोमांचक मुकाबले में टीम इंडिया का शानदार प्रदर्शन, जापान को 2-1 से दी मात ◾ नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल मॉडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾ पंजाब में AAP ने राज्यसभा की सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए इन 2 नामों पर लगाई मुहर◾ हिजाब पहनकर कॉलेज आई छात्राओं को भेजा गया वापस, CM बोम्मई बोले- हर कोई करें कोर्ट के निर्देश का पालन ◾DGCA ने इंडिगो पर लगाया पांच लाख का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को नहीं दी थी विमान में सवार होने की अनुमति ◾J&K : सुरक्षाबलों ने आतंकवादी मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, एक महिला सहित 3 गिरफ्तार, IED बरामद ◾ नवनीत राणा और रवि राणा का आज नागपुर में हनुमान चालीसा पाठ, क्या राज्य में फिर हो सकता है बवाल◾एलन मस्क ने दिया बयान- भारत में मिले बिक्री की मंजूरी, फिर टेस्ला का संयत्र लगाने का लेंगे फैसला◾ कथावाचक देवकी नंदन ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट के खिलाफ SC में दायर की याचिका, अब तक कुल 7 अर्जी दाखिल◾ WEATHER UPDATE: दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में बारिश के आसार, यहां जानें मौसम का मिजाज◾ जमीयत की बैठक में भावुक हुए मुस्लिम धर्मगुरू मदनी, बोले- जुल्म सह लेंगे लेकिन वतन पर आंच नहीं आने देंगे...◾श्रीलंका में 50वें दिन भी जारी है प्रदर्शन, राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर बैठे हैं लोग ◾ऐसा काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए, देश सेवा में नहीं छोड़ी कोई कसर : PM मोदी ◾म्यांमार की मौजूदा स्थिति को लेकर हुई बैठक, रूस और चीन ने जारी नहीं होने दिया UN का बयान ◾BSF ने पाकिस्तानी तस्करों की साजिश को किया नाकाम, ड्रोन पर की गोलीबारी, भागने पर हुआ मजबूर ◾पंजाब : CM मान ने वापस ली 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा, जानिए क्यों लिया यह फैसला ◾कर्नाटक : शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश ने हिजाब विवाद पर दिया बयान, केवल यूनिफॉर्म की है अनुमति◾उत्तराखंड : CM धामी के लिए आज चुनाव प्रचार करेंगे मुख्यमंत्री योगी, टनकपुर में जनता से मांगेगे वोट ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,685 नए केस, 33 मरीजों की हुई मौत◾

शी जिनपिंग का माओ अवतार

चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी अपने इतिहास के सौ साल पूरे कर चुकी है। यद्यपि पार्टी शताब्दी समारोह पहले ही मना चुकी थी लेकिन केन्द्रीय समिति के अधिवेशन में जो ऐतिहासिक प्रस्ताव पारित किए गए उसमें साफ है कि राष्ट्रपति शी जि​नपिंग माओ त्से तुंग का अवतार ले चुके हैं। केन्द्रीय समिति ने शी जिनपिंग को पार्टी के कोर लीडर के रूप में स्वीकार किया। ऐसा दर्जा 1945 में माओ त्से तुंग और 1978 में देंग शियाओपिंग को दिया गया था। पीपुल्स रि​पब्लिक ऑफ चाइना की स्थापना के बाद चीन में जन्मे राजनेताओं में यह दर्जा पाने वाले शी जिनपिंग अकेले हैं। 

पिछले दिनों ग्लासगो में हुए जलवायु सम्मेलन में भी शी जिनपिंग शामिल नहीं हुए थे। शी इसलिए शामिल नहीं हुए क्योंकि चीन खुद सबसे बड़ा प्रदूषण फैलाने वाला देश है। पूरी दुनिया की आलोचना का सामना करने की बजाय उन्होंने देश में रहकर अपनी राजनीतिक शक्ति और बढ़ाने में लगे रहना ही उचित समझा। चीन कम्युनिस्ट पार्टी ने 1945 में जो प्रस्ताव पारित ​कराया गया था, जिसका उद्देश्य यह था कि माओ अपने आलोचकों का सफाया करना चाहते थे। इस प्रस्ताव के जरिये पार्टी ने माओवादी विचारधारा को ही पार्टी के लिए सही रास्ता मानते हुए उन्हें पार्ट का निविर्वारदी नेता स्वीकार कर लिया गया था। माओ ने इसके बाद अपने हजारों विरोधियों को खत्म कर दिया था। हैरानी इस बात की है ​की बुद्धिजीवियों की हत्याएं, विरोधियों को जेलों में डालना, अराजकता और बदहाली के बावजूद माओ को निर्विवाद नेता कैसे बना दिया गया। इस सबके लिए माओ को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार नहीं ठहराया गया बल्कि चीन की क्रांति में उनके योगदान को देखते हुए उनका महिमामंडन किया गया। एक प्रस्ताव देंग शियाओ​पिंग द्वारा पारित कराया गया था, जिसका उद्देश्य उदारीकरण और सुधारों की नीति को पक्का करना था। इसलिए माओ की दिवालिया करने वाली नीतियों को खत्म करना और माओ के ग्रेट लीप और सांस्कृतिक क्रांति को भूलों में स्वीकार भी किया गया था। अब शी जि​नपिंग जो प्रस्ताव लाए जिसका उद्देश्य चीन को और शक्तिशाली बनाना और हर तरफ खुशहाली लाना है। जिनपिंग के प्रस्ताव में अतीत की भूलों का कोई जिक्र नहीं किया गया, बल्कि उनका सम्मान करने और देश को नए युग का प्रवर्तन करने की बातें कहीं गईं। शी जि​नपिंग ने आजीवन पद पर रहने का पूरा इंतजाम कर लिया है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि चीन का दुनया में टकराव बढ़ा है। शी जि​नपिंग के दूसरे कार्यकाल में दुनिया के साथ कई बिन्दुओं पर टकराव बढ़ा। कोरोना महामारी हो या पर्यावरण और आतंकवाद की खेती करने वाले पाकिस्तान की मदद करना हो या अफगानिस्तान को लेकर उसकी भूमिका को लेकर चीन दुनिया में काफी अलग-थलग पड़ा है लेकिन शी जि​नपिंग पहले से कहीं अधिक मजबूत हो रहे हैं। इसके एक नहीं अनेक कारण हैं। हर क्षेत्र में चीन दुनिया में या तो टॉप पर है या फिर दूसरे नम्बर पर। चीन की अर्थव्यवस्था अमेरिका को टक्कर दे रही है। 

चीन लगातार सकल घरेलु बाजार के विकास पर ज्यादा ध्यान दे रहा है। विज्ञान और तकनीक में भी वह काफी आगे है। कम्युनिस्ट पार्टी की विचारधारा में चीन को दूसरी शताब्दी में आधुनिक समाजवादी देश बनाने का संकल्प निहित है। कम्युनिस्ट देश की बंदिशों के बावजूद अधिकांश लोगों ने इस संकल्प को स्वीकार कर लिया है। देश को 2049 तक पूर्ण विकसित, अमीर और ताकतवर देश बनने की चीन के नेतृत्व की बेकरारी दुनिया के बड़े देशों के लिए चिंता का ​कारण बनी हुई है। दुनिया का अतिश​क्तिशाली देश बनने की नीति से चीन पहले से कहीं अधिक आक्रामक हो रहा है।

भारत के साथ सीमा विवाद, दक्षिण चाइना सी में कृत्रिम द्वीपों के जरिये सागर को कब्जाने की कोशिश, हांगकांग में लोगों के लोकतांत्रिक प्रतिरोध को दबाना और ताइवान को लेकर अमेरिका से टकराव इसी आक्रामकता के अलग-अलग रूप हैं। यही कारण है कि चीन के खिलाफ नई तरह की गोलबंदी हो रही है और विदेश मामलों के ​विशेषज्ञ इसे एक नए शीत युद्ध की शुरूआत मान रहे हैं। शी जि​नपिंग के प्रस्ताव एक तरह से उनकी सत्ता और विरासत को ही पक्का नहीं कर रहे बल्कि चीनी जनता को ताइवान, हांगकांग, तिब्बत और भारत से हो रहे विवाद जैसे मुद्दों पर जनता को समर्थन देने के लिए तैयार कर रहे हैं। शी का सपना चीन को एक बलशाली और स्वाभिमानी राष्ट्र के रूप में तैयार करना है। दुनिया के सामने चुनौती यह है कि चीन की आक्रामकता कैसे कम हो। फिलहाल शी का माओकरण हो चुका है।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]