BREAKING NEWS

राज्य में कोई भी डिटेंशन सेंटर स्थापित नहीं होगा : CM ममता ◾TOP 20 NEWS 22 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या मामला : सुप्रीम कोर्ट ने ‘निर्वाणी अखाड़ा’ को लिखित नोट दाखिल करने की दी इजाजत ◾राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- किसी भी आतंकवादी या नौकरशाह ने अपना बच्चा आतंकवाद में नहीं खोया◾PMC बैंक घोटाला : 24 अक्टूबर तक बढ़ी आरोपी राकेश वधावन और सारंग वधावन की हिरासत◾सोशल मीडिया अकाउंट को आधार से जोड़ने के सभी मामले सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर◾मोदी से मिले नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी, PM ने मुलाकात के बाद किया ये ट्वीट ◾J&K और लद्दाख के सरकारी कर्मचारियों को केंद्र का दिवाली तोहफा, 31 अक्टूबर से मिलेगा 7th पेय कमीशन का लाभ ◾राजनाथ सिंह बोले- नौसेना ने यह सुनिश्चित करने के लिए सतर्कता बरती कि 26/11 दोबारा न होने पाए◾राज्यपाल जगदीप धनखड़ का बयान, बोले-ऐसा लगता है कि पश्चिम बंगाल में किसी प्रकार की सेंसरशिप है◾भारतीय सेना ने पुंछ में LoC के पास मोर्टार के तीन गोलों को किया निष्क्रिय◾INX मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पी.चिदंबरम को मिली जमानत◾गृहमंत्री अमित शाह का आज जन्मदिन, PM मोदी सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट करेगा तय, समझौता या फैसला !◾पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में भर्ती◾Exit Poll : महाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा की प्रचंड जीत के आसार◾अनुच्छेद 370 हटाने के भारत के उद्देश्य का करते हैं समर्थन, पर कश्मीर में हालात पर हैं चिंतित : अमेरिका◾चुनाव के बाद एग्जिट पोल के नतीजे, भाजपा ने राहुल को मारा ताना ◾पकिस्तान द्वारा डाक मेल सेवा पर रोक लगाने के लिए रवि शंकर प्रसाद ने की आलोचना ◾सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने जापान पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ◾

संपादकीय

बोलो संविधान की जय!

भारत का जो लोकतान्त्रिक ढांचा बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर ने आजाद भारत के लोगों को सौंपा है वह केवल कानून की किताब नहीं है बल्कि जीवन के हर क्षेत्र में बराबरी की हिस्सेदारी तय करने वाला ऐसा शाहकार है जिसमें आम आदमी स्वयं कह उठे कि उसका ही शासन उस पर लागू है इसीलिए संविधान को स्वीकार करने वाले कोई और नहीं बल्कि ‘हम भारत के लोग’ हैं। इसी शासन को स्थापित करने की पहली जिम्मेदारी बाबा साहेब ने चुनाव आयोग को दी और तय किया कि हर पांच साल बाद होने वाले चुनावों में उसकी भूमिका सर्वाधिकार सम्पन्न ऐसी संस्था की होगी जिसके समक्ष राजा और रंक बराबरी पर तुलेंगे अर्थात चुनाव प्रक्रिया चालू होने पर वह सत्तारूढ़ दल से लेकर विपक्ष के हरेक दल को एक नजर से देखते हुए उनके उतारे गये सभी प्रत्याशियों के लिए एक समान वातावरण देगा और प्रधानमन्त्री पद पर काम करने वाला व्यक्ति भी उसी पलड़े पर तोला जायेगा जिस पर एक निर्दलीय उम्मीदवार तुलता है।

चुनावी रण में प्रधानमन्त्री से लेकर मुख्यमन्त्री तक अपने सरकारी औहदों को एक तरफ रखकर ही राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के रूप में चुनाव प्रचार करेंगे और सभी के लिए एक जैसा पैमाना होगा परन्तु इसके साथ इस निदेशक सिद्धान्त के तहत ऐसे व्यावहारिक नियम समाहित थे जो स्वयमेव ही इस तरह लागू होंगे कि चुनावी रणक्षेत्र में प्रत्येक राजनैतिक दल और प्रत्याशी खुद को बराबरी पर खड़ा समझे। जिस तरह भारतीय परंपरा के अनुसार युद्ध में सूर्य छिपने के बाद सेनाएं अपनी बैरकों में लाैट जाती थीं और आमने-सामने युद्ध होने पर पीठ पर वार करना युद्ध नियमों के खिलाफ समझा जाता था उसी प्रकार लोकतान्त्रिक भारत के चुनावी युद्ध के समय यह नियम सख्ती से लागू था कि सत्ता में रहने वाले किसी भी राजनैतिक दल की सरकार की निगरानी में काम करने वाला कोई भी सरकारी संस्थान या विभाग ऐसा कोई नया काम नहीं करेगा जिसका प्रभाव राजनैतिक विरोधियों पर पड़े। इसकी व्यवस्था इस प्रकार की गई कि चुनाव आयोग को चुनावी समय में ऐसी खुद मुख्तारी दी गई जिससे सामान्य प्रशासन के सभी अंग उसके मातहत काबिज सरकारों के जरिये काम करें। मध्य प्रदेश और दिल्ली में मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों पर आयकर छापों को लेकर मुख्य चुनाव आयुक्त श्री सुनील अरोड़ा ने इस बारे में इस विभाग के मुखिया और वित्त सचिव को तलब करके उनसे इस बाबत सफाई मांगी। यह उनका संवैधानिक कर्तव्य था जिसका उन्होंने बेबाकी से पालन किया।

संविधान में चुनाव आयोग के अधिकारों की बाबत यह धारा बाबा साहेब ने बेवजह ही नहीं जोड़ी थी कि चुनावी समय में भारत का सर्वोच्च न्यायालय भी कोई दखल नहीं दे सकता और आयोग का फैसला ही अन्तिम होगा मगर स्वतन्त्र न्यायपालिका अपना काम करती रहेगी और अपना धर्म निभाती रहेगी। अतः आज राफेल लड़ाकू जहाज खरीदी मामले पर देश की सबसे बड़ी अदालत ने साफ कह दिया है कि इस सम्बन्ध में दायर पुनर्विचार याचिका पर नये सबूतों की रोशनी में आगे विचार होगा। न्यायालय ने सरकार के इस तर्क को खारिज कर दिया है कि जो नये सबूत उसके सामने पेश किये गये हैं वे रक्षा मन्त्रालय से चोरी हुई एक फाइल से लिए गये हैं।

विद्वान न्यायाधीशों ने कहा है कि सबूत केवल सबूत होते हैं। सवाल यह है कि वे सच्चे हैं या नहीं। इसके साथ ही चुनाव आयोग ने आज उस फिल्म के रिलीज होने पर भी रोक लगा दी है जिसे लेकर फिल्म अभिनेता विवेक ओबेराय राजनैतिक धमाचौकड़ी मचाये हुए थे और अपनी कला की स्वतन्त्रता की दुहाई दे रहे थे। यह फिल्म प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के जीवन पर बनाई गई है। यह बात गौर करने वाली है कि इसके चुनावी विवाद से जुड़े होने की वजह से ही सर्वोच्च न्यायालय ने यह फैसला चुनाव आयोग पर छोड़ दिया था। आज चुनाव आयोग ने इसे आदर्श चुनाव आचार संहिता के विरुद्ध मानते हुए चुनाव समाप्त होने तक जारी करने पर रोक लगा दी है और इसके साथ ही नमो टीवी पर भी रोक लगा दी है। यह है बाबा साहेब का वह संविधान जो हमें हमारी सरकार बनाने के लिए एक बराबर और एक समान अवसर उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी चुनाव आयोग को सौंपता है।

श्री सुनील अरोड़ा इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई अन्य नेताओं के बयानों की भी जांच कर रहे हैं। यह है चुनाव आयोग जो हमें बाबा साहेब ने दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने सरकारी प्रचार माध्यम दूरदर्शन को भी उल्टे हाथों लेते हुए निर्देश जारी किया है कि प्रत्येक राजनैतिक दल को निर्धारित नियमों के तहत ही अपने प्रचार में जगह दे मगर यह इस देश के राजनैतिक दलों की भी जिम्मेदारी है कि वे अपनी सत्ता लिप्सा के लिए आयोग को इस कदर परेशान न करें कि उसके पास शिकायतों का अम्बार ही लगा रहे। सबसे पहले उन्हें ही उस लोकतन्त्र का सम्मान करना चाहिए जिसके माध्यम से वे सत्ता पाने में सफल हो पाते हैं। इसलिए संविधान का पालन करते हुए हम जो विजय प्राप्त करेंगे वही लोगों की विजय होगी वरना छल से चक्रव्यूह बनाकर अभिमन्यु की हत्या करने की विजय को हम जानते हैं कि आज भी भारत के गांवों में क्या कहा जाता है। इसलिये सभी को सबसे पहले संविधान की जय बोलनी चाहिए और चुनाव आयोग का आदर व सत्कार करना चाहिए।