BREAKING NEWS

PM मोदी ने जगन्नाथ के साथ भारतीय सहयोग से मॉरीशस में बनी सामाजिक आवास परियोजना का किया उद्घाटन ◾गोवा चुनाव : कांग्रेस के उम्मीदवारों की नयी सूची में भाजपा, आप के पूर्व नेताओं के नाम शामिल ◾PM मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ में भाग लेने की समय सीमा 27 जनवरी तक बढ़ाई गई ◾दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾

दालों पर स्टॉक की सीमा

कोरोना काल में लगातार बढ़ती महंगाई लोगों की परेशानी का कारण बन गई है। पैट्रोल-डीजल की रोजाना बढ़ती कीमतों के चलते हर चीज महंगी हो गई है। सब्जी, दालें, दूध, अंडे, खाद्य तेल, रसोई गैस और अनाज की कीमतें आसमान को छू रही हैं। पिछले एक साल से ज्यादा वक्त से चल रही महामारी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को बुरी तरह नुक्सान पहुंचाया है। अर्थव्यवस्था पर मैडिकल खर्च की मार पड़ी है। देश की बाकी बड़ी आबादी को फ्री वैक्सीन देने से भी बोझ काफी बढ़ गया है। महंगाई बढ़ने के दो कारण हैं, एक तो कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी और दूसरा विनिर्माण यानी मैन्यूफैक्चरिंग। तेल की कीमतें बढ़ने से उपभोक्ता वस्तुओं की उत्पादन लागत से लेकर ढुलाई का खर्च बढ़ जाता है। दूसरी तरफ कोरोना काल में सरकार को अर्थव्यवस्था के लिए दूसरा राहत पैकेज देना पड़ा है। पैकेज में कुछ नई योजनाएं हैं और कुछ पुरानी योजनाओं का विस्तार ​किया गया है। राहत राशि कुल 6,28,993 करोड़ है। सरकार को महंगाई से भी जूझना पड़ रहा है।

सरकार ने दालों की महंगाई रोकने के लिए दालों की स्टाक लिमिट तय कर दी है। इसे थोक विक्रेताओं, रिटेलर्स, मिल मालिकों और आयातकों पर लागू किया गया है। यद्यपि नए कृषि कानूनों में अरहर, उड़द और मूंग मामले में आयात नीति को प्रतिबंधों से मुक्त करने के लिए संशोधन भी शामिल है लेकिन सरकार को दालों की जमाखोरी रोकने के लिए कदम उठाना पड़ा। खुदरा विक्रेताओं के लिए यह स्टॉक सीमा पांच टन की होगी, मिल मालिकों के मामले में स्टॉक की सीमा उत्पादन के अंतिम तीन महीने या वार्षिक स्थापित क्षमता का 25 प्रतिशत, जो भी अधिक है उसके मुताबिक होगी। आयातकों के मामले में दालों की स्टॉक सीमा 15 मई 2021 से पहले रखे या आयात किए गए स्टॉक के लिए थोक विक्रेताओं के बराबर की स्टॉक सीमा होगी।

इस वर्ष जनवरी से जून के दौरान दालों की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हुई है। अरहर, उड़द, मसूर दाल के खुदरा दामों में 10 से 20 प्रतिशत तक वृद्धि दर्ज की गई है। जो दालें जनवरी में 100 रुपए किलो थी वह अब 110-120 रुपए किलो हो गई हैं। मसूर दाल की कीमत 21 फीसदी बढ़कर 85 रुपए किलो हो गई, जो पहले 70 रुपए किलो थी। चना दाल की कीमत भी पहले से कहीं अधिक ज्यादा हो गई है। पंजाबी में एक कहावत है : -

खाओ दाल जेहड़ी निभे नाल

लेकिन आजकल दाल के साथ ही लोगों की निभ नहीं रही। इसलिए बाजार को सही संकेत देने के लिए तत्काल नीतिगत निर्णय की आवश्यकता महसूस की गई। दालों की कीमतों की वास्तविक समय पर निगरानी के लिए केन्द्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने जमाखोरी की अवांछित प्रवृत्ति पर नजर रखने के लिए एक वेब पोर्टल भी विकसित किया है। समाज में अनेक लोग ऐसे भी देखे गए जिन्होंने आपदा को कमाई का जरिया बना लिया। जब दवाओं से लेकर ऑक्सीजन तक की ब्लैक हो सकती है तो दालों का कृत्रिम संकट पैदा कर इनकी कीमतें क्यों नहीं बढ़ाई जा सकती। फसली वर्ष 2020-21 में देश का दलहन उत्पादन (जुलाई से जून तक) 2 करोड़ 50 लाख टन था। सरकार ने खाद्य तेलों की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए भी कई उपाय किए हैं। दालों और खाद्य तेलों के दामों में बढ़ोतरी का कारण इसका आयात भी है। वैश्वीकरण के दौर में यह समझा जाना भी जरूरी है कि गरीब आदमी को आवश्यक भोजन उपलब्ध करना अंततः सरकार की जिम्मेदारी है।

भारतीय दलहन एवं अनाज संघ को सरकार द्वारा दोनों पर स्टाक की सीमा लगाये जाने का फैसला नागवार गुजर रहा है। संघ का कहना है कि किसानों की आय को दोगुना करने के सरकार के प्रयासों का हमने हमेशा स्वागत और समर्थन किया है जिसमें अरहर, उड़द, मांगू के मामले में आयात नीति  प्रतिबंंधित मुक्त करने के लिए संशो​धन भी शामिल है। एक आयातक 3 से 5 हजार टन एक किस्म की दाल का आयात करता है लेकिन हर किस्म की दाल के लिए केवल सौ टन की सीमा लगाने से सप्लाई नियंत्रित हो जाएगी। व्यापारी वर्ग के अपने तर्क हैं लेकिन सरकार ने ऐसा कई बार देखा है कि राज्य सरकारों द्वारा जमाखोरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई से गोदामों से बाहर माल निकला और दालों की कीमत कुछ कम हुई। परेशानी तब होती है जब​ किसान अपनी अरहर, चना, मूंग, उड़द या तो न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेचता है तो उसकी दाल बनने और खुदरा दुकानों पर आने तक उसकी कीमत में दोगुनी से भी अधिक बढ़ोतरी हो जाती है। इस तथ्य को भी ध्यान में रखना होगा कि किसानों को उसकी उपज का सही मूल्य मिले, क्युकी इससे उसकी क्रय शाक्ति बढ़ेगी और भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी। किसी भी सरकार को महंगाई का बेलगाम होना स्वीकार्य नहीं हो सकता क्योंकि इससे आम आदमी काफी परेशान होता है।  समय और परिस्थितियों को देखते हुए नीतिगति निर्णय लेना सरकारों का दायित्व है। सरकार के कदम परिस्थितियों को देखते हुए उठाये गये हैं। अभी हम सबको सतर्क रहकर अपनी गतिविधियों को सामान्य बनाना है। अर्थव्यवस्था तभी पटरी पर दौड़ेगी अगर हम कोरोना बचाव के सभी उपाय कर तीसरी लहर को आने से रोक पाएंगे। 

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]