BREAKING NEWS

Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾BJP ने उत्तराखंड चुनाव के लिए 59 उम्मीदवारों के नामों पर लगाई मोहर, खटीमा से चुनाव लड़ेंगे CM धामी◾संगरूर जिले की धुरी सीट से भगवंत मान लड़ सकते हैं चुनाव, राघव चड्डा बोले आज हो जाएगा ऐलान ◾यमन के हूती विद्रोहियों को फिर से आतंकवादी समूह घोषित करने पर विचार कर रहा है अमेरिका : बाइडन◾गोवा चुनाव के लिए BJP की पहली लिस्ट, मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल को नहीं दिया गया टिकट◾UP चुनाव में आमने-सामने होंगे योगी और चंद्रशेखर, गोरखपुर सदर सीट से मैदान में उतरने का किया ऐलान ◾कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका BJP में शामिल, कहा-'लड़की हूं लड़ने का हुनर रखती हूं'◾लापता लड़के का पता लगाने के लिए भारतीय सेना ने हॉटलाइन पर चीन से किया संपर्क, PLA से मांगी मदद ◾UP विधानसभा चुनाव : कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट, महिलाओं को 40% टिकट ◾BJP की बड़ी सेंधमारी, मुलायम के साढू प्रमोद गुप्ता ने थामा कमल, बोले- अखिलेश ने नेताजी को बना रखा बंधक◾NEET Case: SC ने कहा- पिछड़ेपन को दूर करने के लिए आरक्षण जरूरी, हाई स्‍कोर योग्‍यता का मानदंड नहीं ◾दिल्ली में सर्दी-बारिश का डबल अटैक, 21 से 23 जनवरी तक हल्की बारिश की संभावना, दृश्यता में आई कमी ◾नीलाम हुई गरीब किसान की जमीन..., राकेश टिकैत ने की परिवार से मुलाकात, प्रशासन ने उठाया यह कदम ◾BJP सांसद वरुण गांधी ने विकास के दावों पर उठाए सवाल, कहा-चुनावी राज्यों में बढ़ी बेरोजगारी ◾'सुरक्षा जहां, बेटीयां वहां', BJP ने अपर्णा यादव और संघमित्रा मौर्य को बनाया नई पोस्टर गर्ल◾चीनी सेना ने सीमा से भारतीय युवक को किया अगवा, राहुल बोले-PM की बुज़दिल चुप्पी ही उनका बयान◾कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका आज ज्वाइन कर सकती हैं BJP, टिकट नहीं मिलने से हैं नाराज◾Today's Corona Update : कोरोना के नए मामलों ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा मामले हुए दर्ज◾वैश्विक स्तर पर नहीं थम रहा कोरोना का कहर, 33.71 करोड़ पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा◾असम-मेघालय सीमा विवाद को लेकर अमित शाह से आज मिलेंगे मेघालय CM संगमा और असम सीएम हिमंत◾

स्टूडेंट्स सोशल मीडिया संस्कार और हम लोग...

आज के जमाने में सीखना-सिखाना और पढ़ना-पढ़ाना बहुत जरूरी है। यह एक ऐसा सिलसिला है जो कभी खत्म नहीं हो सकता परंतु फिर भी हमारी नई पीढ़ी यानी कि स्टूडेंट्स जिस तरह से आज नई टेक्नोलॉजी को एडोप्ट कर आगे बढ़ रहे हैं उससे हमारे सामाजिक रिश्ते बुरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं। नई पीढ़ी के लिए मां-बाप सब कुछ करते हैं और हम समझते हैं कि नई पीढ़ी को सबसे ज्यादा जरूरत उन संस्कारों की है जो आगे चलकर जिंदगी में मिठास पैदा कर सकें। बच्चों को मोबाइल मिला तो उसके साथ ही व्हाट्सएप, ईमेल, फेसबुक और इंस्टाग्राम की सुविधा उन्हें अपने आप मिल गई। 

एक अमरीकी सर्वे के अनुसार इस समय पूरी दुनिया में 70 प्रतिशत लोग मोबाइल से 18 घंटे जुड़े हुए हैं। भारत में तो यह आंकड़ा 95 प्रतिशत तक पहुंच रहा है अर्थात देश का एक बड़ा हिस्सा विशेषकर यूथ 18 घंटे तक मोबाइल से जुड़ा हुआ है। यहां तक कि सड़क पार करने से लेकर टू-व्हीलर चलाते हुए भी सब कुछ मोबाइल से चल रहा है, यह एक बहुत घातक ट्रेंड है हमें इससे बचना चाहिए। हमारा मानना है कि बच्चों को परिवारों के बारे में बताने के साथ-साथ जिम्मेदारियों का अहसास भी कराना चाहिए। ऐसा लगता है कि जिस शिक्षा की सबसे ज्यादा उन्हें जरूरत है वे उन्हें एक किताबी बोझ समझकर उसे आगे ढोए जा रहे हैं। 

उन्हें तो लगता है कि सब कुछ मोबाइल ही है और इसी से ही सब कुछ हो जाना चाहिए। यहां तक कि बाजार जाकर कुछ खरीदो-फरोख्त करने की बजाय सब कुछ ऑनलाइन चल रहा है। यही अमरीकी रिपोर्ट बताती है कि अकेले भारत में बड़े-बड़े बाजारों में अगर ऑडियो-वीडियो कैसेट, सीडी, ग्रोसरी, क्रोकरी और कास्मेटिक्स के साथ-साथ वूमैन साजो-सजावट की दुकानें बड़े-बड़े माल्स आदि में सिमट रही हैं तो इसके पीछे वजह ऑनलाइन का ट्रेंड है। ऑनलाइन के धुआंधार प्रचार ने सब कुछ खत्म कर दिया है। 

एक्सपर्ट लोग सोशल मीडिया पर इस ट्रेंड को घातक मान रहे हैं और अर्थव्यवस्था के लिए एक खतरे की घंटी। रही बात भारत की तो यहां तो आर्थिक मंदी और आर्थिक सुस्ती को लेकर खुद सरकार बहुत तेजी से नए-नए पग उठा रही है और बराबर सोशल मीडिया पर इसका जिक्र भी हो रहा है तो इसलिए हमें ज्यादा सतर्क होने की जरूरत है। हम फिर से उसी बिंदु पर आते हैं जिसे हम बच्चों के साथ जोड़कर आगे बढ़ रहे हैं कि बच्चे अत्यधिक मोबाइल यूज कर रहे हैं। आधुनिक शिक्षा टेक्नोलॉजी के साथ आगे बढ़ रही है। 

इस प्वाइंट को हम घातक तो नहीं कहते लेकिन सोशल मीडिया पर जिस तरह से ट्रेंड चल रहा है उससे यह जरूर पता चलता है कि हमारे बच्चे पढ़ने-पढ़ाने के सिलसिले से दूर हो रहे हैं। शिक्षा कोई बोझ नहीं लेकिन हमारे यूथ, हमारे स्टूडेंट्स, हमारे पैरेट्स और हमारे संस्कारों के बीच एक कन्फ्यूजन जरूर पैदा कर रही है। इस सब का उल्लेख भी सोशल मीडिया पर नियमित रूप से एक्सपर्ट लोग कर रहे हैं। परिवारों में बढ़ रहे कलेश और विवाद के पीछे मोबाइल का अत्यधिक प्रयोग बताया जा रहा है। 

बच्चे स्टूडेट्स लाइफ से ही अपने माता-पिता को नजरंदाज करने लगे हैं। संस्कार एक जिम्मेवारी है, यह प्यार पर आधारित है। यही हमारी संस्कृति है इसे जीवित रखना ही होगा। नई पीढ़ी की भावनाओं को संस्कारों के रूप में समझकर इसे स्थापित करना ही होगा। अब भी समय है वरना बहुत देर हो जायेगी।