BREAKING NEWS

आज का राशिफल (26 सितम्बर 2020)◾बिहार चुनाव में NDA को जीत का अनुमान : सर्वे ◾बिहार विधानसभा चुनाव में NDA ने सेट किया तीन चौथाई बहुमत का टारगेट◾UN में भाषण के दौरान पाक PM इमरान खान ने RSS और कश्मीर का मुद्दा उठाया, भारत ने किया बायकॉट◾CSK vs DC (IPL 2020) : दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स को 44 रन से हराया◾UP में विधानसभा उपचुनाव के लिये राजनीतिक दलों ने कसी कमर◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट, संक्रमितों का आंकड़ा 13 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 17,794 नए केस◾IPL-13: पृथ्वी शॉ का तूफानी अर्धशतक, दिल्ली ने चेन्नई के सामने रखा 176 रनों का लक्ष्य◾कोविड-19 : हर्षवर्धन ने बोले- देश की स्वास्थ्य सेवा से मृत्यु दर न्यूनतम और ठीक होने की दर अधिकतम रही◾राहुल गांधी ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- सरकार पर रत्ती भर भी भरोसा नहीं ◾IPL 2020 CSK vs DC: चेन्नई सुपर किंग्स ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का किया फैसला◾यस बैंक केस : ED ने राणा कपूर की लंदन में स्थित 127 करोड़ की संपत्ति को किया जब्त◾बिहार चुनाव घमासान : महागठबंधन में बदले 'निजाम', सीटों के बंटवारे को लेकर NDA में तकरार ◾भारत की कोई मांग नहीं होगी स्वीकार, कुलभूषण की किस्मत पाकिस्तानी अदालतों के हाथों में : पाक ◾मशहूर गायक एसपी बालासुब्रमण्यम का निधन, महेश बाबू, एआर रहमान व लता मंगेशकर ने व्यक्त किया दुःख ◾कोरोना के साये में कुछ ऐसा होगा बिहार चुनाव, कोविड-19 रोगियों के लिए विशेष प्रोटोकॉल हुआ तैयार◾बिहार में तीन चरणों में होगा विधानसभा चुनाव, 10 नवंबर को होगा नतीजे का ऐलान : चुनाव आयोग ◾कृषि बिल पर विपक्ष बोल रहा है झूठ, किसानों के कंधे पर रखकर चला रहे हैं बंदूक : पीएम मोदी ◾पीएम मोदी , अमित शाह और जेपी नड्डा ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय को जयंती पर किया नमन◾कृषि बिल को लेकर राहुल और प्रियंका का केंद्र पर वार- नए कानून किसानों को गुलाम बनाएंगे ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

विनाश की राह पर महाशक्तियां

पिछली सदी के मध्य यानी सन् 1947 से 1991 तक दुनिया के राष्ट्र दो गुटों में विभाजित रहे। एक तरफ अमेरिका और उसके यूरोपीय सहयोगी लोकतांत्रिक देशों का गुट था तो दूसरी तरफ सोवियत संघ और उसके सहयोगी साम्यवादी देशों का गुट था। यह शीतयुद्ध का काल माना जाता है क्योंकि इन गुटों में कभी आमने-सामने की लड़ाई नहीं हुई किन्तु परोक्ष रूप से कई युद्धों में गुट विरोधी पक्षों को समर्थन देते रहे। इस काल में विश्व के युद्ध दो गुटों में बंटकर एक-दूसरे के सामने भृकुटियां ताने खड़े थे और कई राष्ट्र दो महाशक्तियों की आपसी जोर-आजमाईश में मोहरा बने बैठे थे। परमाणु अस्त्र बनाने की होड़ मची थी और इनके अम्बार खड़े कर लिए थे। उसी काल में भारत, मिस्र, इंडोनेशिया आदि देशों ने गुटनिरपेक्ष देशों का एक संगठन खड़ा करने की कोशिश तो की किन्तु यह संगठन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विशेष प्रभावी नहीं हो पाया। गुटनिरपेक्ष आंदोलन का एक संस्थापक सदस्य होने के बावजूद भारत का झुकाव सोवियत संघ की तरफ रहा। इसका कारण यह था कि सोवियत संघ ने हमेशा हमारा साथ दिया जबकि अमेरिका ने हमेशा भारत विरोधी रुख अपनाकर पाकिस्तान की हर सम्भव मदद की।

विश्व शांति की जितनी बातें अमेरिका ने कीं उतनी बातें आज तक ​किसी दूसरे देश ने नहीं कीं। सारी दुनिया में आवाजें उठने लगीं कि एटम बम के आविष्कार के बाद कोई समस्या जंग से हल नहीं हो सकती। हिरोशिमा, नागासाकी पर परमाणु बम के हमले के बाद परमाणु हथियारों को विश्व मानवता के प्रति सबसे बड़े षड्यंत्र के रूप में परिभाषित किया गया। 12 जून, 1968 को सर्वप्रथम न्यूक्लियर नान प्रोटिक्रेशन ट्रीटी पर विचार-विमर्श के लिए बैठक हुई और विश्व के संयुक्त राष्ट्र संघ के 95 देशों ने वोट डालकर इस संंधि का समर्थन किया और 5 देशों ने विरोध किया। 21 देश अनुपस्थित रहे। यह सब संयुक्त राष्ट्र संघ की आम सभा में हुआ। 1 जुलाई, 1972 को एंटी मिसाइल बैन ट्रीटी पर हस्ताक्षर हुए। इसके तहत यह तय किया गया कि न तो अमेरिका और न ही सोवियत संघ भविष्य में आईसीवीएम की संख्या बढ़ाने के लिए और उपक्रम करेंगे। एक तरफ परमाणु ऊर्जा बढ़ती चली गई। दूसरी तरफ संधियों की संख्या भी बढ़ती चली गई। सांप और सीढ़ी का खेल तब भी चल रहा था और यह आज भी चल रहा है।

11-12 अक्तूबर, 1988 को अमेरिका के राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन और सोवियत नेता रोक्कयाविक की बैठक हुई। वहां भी करीब-करीब समझौता हो जाता परन्तु अमेरिका ने कुछ अपरिहार्य कारणों से स्टारवार के क्षेत्र में शोध करने को बन्द करने से इन्कार कर दिया। यहां मैं ​दिल्ली घोषणा पत्र की बात न करूं तो बात अधूरी ही रह जाएगी। 27 नवम्बर, 1988 के दिन सोवियत संघ के नेता मिखाइल गोर्वाच्योब आैर भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव भांधी ने निरस्त्रीकरण के प्रति अपनी वचनबद्धता दोहराई। राजीव गांधी ने तब अपने भाषण में कहा थाः-

‘‘आज सारी विश्व मानवता इतिहास के उस चौराहे पर खड़ी है, जहां वह उपलब्धियां, जो मानव ने सदियों की मेहनत से प्राप्त की हैं केवल वह ही परमाणु विनाश से समाप्त नहीं हो जाएंगी अपितु सारी मानवता का भविष्य आज खतरे में पड़ गया है और मनुष्य मात्र के भी चिन्तित होने की संभावनाएं भी काफी बढ़ गई हैं। इस परमाणु युग में सारी मानवता को यह मिलकर फैसला करना होगा कि उसे भविष्य में क्या करना है। वक्त आ गया है कि विश्व स्तर पर पूरी गम्भीरता से विचार हो कि हम आने वाली नस्लों को एक शांतिपूर्ण दुनिया दे सकेंगे कि नहीं।’’ परमाणु मुक्त विश्व की कल्पना को साकार करने के लिए कई घोषणाएं की गईं।

तब से लेकर आज तक हुआ यही कि महाशक्तियों के रक्षा बजट बढ़ते गए। सोवियत संघ बिखर गया फिर रूस आज भी बहुत बड़ी शक्ति है। अब रूस अपने पुराने वैभव में लौट चुका है। अब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शीतयुद्ध के समय की महत्वपूर्ण मिसाइल संधि से अलग होने की घोषणा कर दी तो रूस ने भी इस संधि में अपनी भागीदारी को स्थगित कर दिया। रूस ने भी स्पष्ट कर दिया है कि वह अब निरस्त्रीकरण पर अमेरिका के साथ बातचीत की पहल नहीं करेगा। अमेरिका ने आरोप लगाया कि रूस मिसाइल संधि का उल्लंघन कर प्रतिबंधित परमाणु मिसाइल विकसित कर रहा है और उसने मध्यम दूरी की मिसाइल प्रणाली से संधि को तोड़ा है। रूसी राष्ट्रपति पहले ही कह चुके हैं कि संधि तोड़ने के बाद अमेरिका यूरोप में अधिक मिसाइलें तैनात करता है तो रूस भी उसी तरह से जवाब देगा। यूरोप का कोई देश अपने यहां अमेरिकी मिसाइलें लगाने की सहमति देता है तो उस पर रूसी हमले का खतरा मंडराएगा।

अमेरिका और रूस में तनातनी बढ़ चुकी है। दुनिया के कई देश अमेरिका और रूस का अखाड़ा बन चुके हैं। अगर आप किसी पहलवान को रिंग से बाहर करने की कोशिश करेंगे तो वह पूरी शक्ति से प्रति आक्रमण करेगा। अगर अमेरिका रूस पर अधिक दबाव डालता है तो डर इस बात का है कि रूस भी सहनशक्ति खोकर उलटवार कर सकता है। यदि ऐसा होता है तो दुनिया का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जाएगा। संधि के चलते परमाणु हथियार सम्पन्न मिसाइलें दागने पर रोक थी लेकिन अब 310 से लेकर 3100 मील की दूरी तक ही मिसाइलों का रास्ता खुल गया है। अब यूरोप में परमाणु हथियारों की होड़ बढ़ेगी। चीन जैसे देश तो पहले से ही रक्षा तैयारियों में काफी आगे बढ़ चुके हैं। महाशक्तियां फिर विनाश की राह पर चल पड़ी हैं।