BREAKING NEWS

पश्चिम बंगाल के नदिया जिले में ट्रक से टकराया वाहन, 18 लोगों की मौत◾दिल्ली की बी के दत्त कॉलोनी के लोगों को हर महीने मिलेगा 20,000 लीटर मुफ्त पानी : केजरीवाल◾भारत, मालदीव व श्रीलंका ने किया समुद्री अभ्यास ◾ठाणे में दक्षिण अफ्रीका से लौटे यात्री कोरोना वायरस संक्रमित , ओमीक्रोन स्वरूप की नहीं हुई पुष्टि◾TET परीक्षा : सरकार अभ्यर्थियों के साथ-योगी, विपक्ष ने लगाया युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ का आरोप◾संसद में स्वस्थ चर्चा चाहती है सरकार, बैठक में महत्वपूर्ण मुद्दों को हरी झंडी दिखाई गई: राजनाथ सिंह ◾त्रिपुरा के लोगों ने स्पष्ट संदेश दिया है कि वे सुशासन की राजनीति को तरजीह देते हैं : PM मोदी◾कांग्रेस ने हमेशा लोगों के मुद्दों की लड़ाई लड़ी, BJP ब्रिटिश शासकों की तरह जनता को बांट रही है: भूपेश बघेल ◾आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾

सुशान्त, मीडिया और लोकतंत्र

भारत में मीडिया या स्वतंत्र प्रेस की भूमिका लोकतन्त्र के चौथे खम्भे की तरह समाजवादी चिन्तक डा. राम मनोहर लोहिया ने इसलिए बताई थी कि यह उस आम आदमी के लिए न्याय पाने का अन्तिम दरवाजा था जिसे लोकतन्त्र के तीनों खम्भों विधायिका, न्यायपालिका और कार्यपालिका से भी न्याय न मिल पाया हो।

बेशक भारत की न्यायपालिका की प्रतिष्ठा बहुत ऊंची रही है और आम लोगों को इस पर पूर्ण भरोसा और निष्ठा भी है परन्तु कभी-कभी भारी खर्च उठाने में नाकाबिल आदमी इसका दरवाजा खटखटाने से महरूम रह जाता है। अतः वह मीडिया या अखबार के दरवाजे पर जाकर अपनी गुहार लगा देता था जिससे उसकी आवाज सत्ता के गलियारों में गूंज जाती थी और एेसे भी अवसर भारत में सैकड़ों बार आये जब मीडिया द्वारा उठाये गये मुद्दे संसद में बहस का विषय बने।

इसमें सबसे बड़ा मामला भ्रष्टाचार से ही जुड़ा था। प्रथम प्रधानमन्त्री पं. जवाहर लाल नेहरू के दामाद स्व. फिरोज गांधी ने जब लोकसभा में अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में छपी इस खबर का हवाला पचास के दशक में  दिया था  कि तत्कालीन वित्त मन्त्री टी.टी. कृष्णमंचारी ने देश के उद्योगपति हरिदास मूंदड़ा को सरकारी ऋण देने में घपला किया है तो पं. नेहरू ने तुरन्त कार्रवाई करते हुए उनके खिलाफ स्व. एम.सी. छागला के नेतृत्व में जांच कमीशन बैठा दिया था जिसने अपनी रिपोर्ट रिकार्ड 22 दिनों में ही दे दी थी।

इस रिपोर्ट में श्री कृष्णमंचारी पर शक जाहिर किया गया था कि उन्होंने हरिदास मूंदड़ा की कम्पनी ‘मूंदड़ा-साहू एयरवेज’ के बहुत कम मूल्य के शेयरों की एवज में भारतीय जीवन बीमा निगम से सवा करोड़ रु. का ऋण दिलाने में मदद की। बाद में यह मामला उच्च न्यायालय में गया जहां से श्री कृष्णमंचारी बेदाग छूटे और बाद में पुनः वित्त मन्त्री भी बने। इसी प्रकार अखबारों ने न जाने कितने कांडों का भंडाफोड़ अब तक किया है और सामान्य आदमी को न्याय दिलाने का कार्य भी किया है।

इस सन्दर्भ में जिला व तहसील स्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक कई मामले गिनाये जा सकते हैं परन्तु भारत मंे उदारीकरण का दौर शुरू होने के बाद इलैक्ट्रानिक मीडिया क्रान्ति होने से इस क्षेत्र में एेसा बदलाव आया है जिससे बाजार की शक्तियां इस क्षेत्र में प्रभावी हो रही हैं।

धीरे-धीरे इलैक्ट्रानिक मीडिया में प्रतियोगिता के बढ़ने से जनचेतना जागृत करने का स्थान जनता को भरमाने के तरीकों ने ले लिया है जिसकी वजह से जनता के वे मुद्दे गायब हो रहे हैं जिन्हें लोकतन्त्र और संविधान उन्हें देकर सक्षम और अधिकार संपन्न बनाता है। यह सब बाजार की शक्तियों के कारण ही हो रहा है। इसमें कोई दो राय इसलिए नहीं हो सकती क्योंकि बाजार का धर्म केवल अधिक से अधिक मुनाफा कमाना होता है।

जबकि लोकतन्त्र इस बात की ताईद करता है कि किसी नागरिक के अधिकारों की सुरक्षा इस प्रकार होनी चाहिए कि भावनात्मक कथ्यों के स्थान पर केवल तथ्यपरक और वस्तुगत दृष्टिकोण ही प्रभावी रहे मगर क्या गजब का तमाशा हो रहा है कि सुशान्त सिंह राजपूत मृत्यु कांड को लेकर पूरे इलैक्ट्रानिक मीडिया ने ऐसा तूफान मचाया हुआ है जैसे भारत में इसके अलावा कोई दूसरी समस्या ही नहीं है और इस मामले के सुलझ जाने से देश की सभी समस्याएं सुलझ जाएंगी। जबकि हकीकत यह है कि भारत कोराेना संक्रमण के मामले में दुनिया का दूसरे नम्बर का देश बन चुका है। 

लाॅकडाऊन और कोराेना के चलते 17 करोड़ लोग अपना रोजगार खो बैठे हैं और देश की अर्थ व्यवस्था बुरी तरह गिर चुकी है और 40 करोड़ लोग गरीबी की सीमा रेखा से नीचे की ओर जा रहे हैं। मीडिया का धर्म देश की समस्याओं से दो-चार होना और उनका सकारात्मक हल सुझाना होता है।

सुशान्त सिंह राजपूत मामले में उसकी प्रेमिका रिया चक्रवर्ती को लेकर जो सनसनी फैलाई जा रही है और पूरा मामला अदालत में जाने से पहले ही जिस तरह प्रचारित किया जा रहा है उससे मीडिया की भूमिका पर सन्देह उठना लाजिमी हो गया है क्योंकि किसी व्यक्तिगत हत्या या आत्महत्या के मामले को इस तरह प्रचारित करने के पीछे केवल मुनाफा कमाने का लक्ष्य हो सकता है।

समाज और देश को इससे कोई सरोकार नहीं है कि सुशान्त सिंह अपने व्यक्तिगत जीवन में किस प्रकार की जीवन शैली का अनुसरण करता था और उसकी प्रेमिका रिया चक्रवर्ती से उसके संबंधों का आधार क्या था। इसका मतलब सुशान्त सिंह के परिवार व रिया चक्रवर्ती के परिवार से है।

सर्वोच्च न्यायालय ने आदेश देकर जब यह मामला सीबीआई को सौंप दिया है तो उसके बाद इसमें क्या बचता है? सीबीआई देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी है और वह सुशान्त मामले की जांच करके अपनी चार्जशीट न्यायालय में दायर करके दोषी को सजा दिलाने की कोशिश करेगी।

तब तक सुशान्त के परिवार वालों को इन्तजार ही करना पड़ेगा मगर क्या कयामत है कि मीडिया चैनलों से सब्र नहीं हो रहा है और वे अब एक के बाद एक सुशान्त कांड की परत दर परत खोल कर दर्शकों को जांच का ही आंखों देखा हाल बता रहे हैं, इस पूरे मामले में न तो रिया को न्याय दिलाने की मुहीम चलाने की जरूरत है और न ही सुशान्त को, जरूरत है तो पूरे प्रकरण की निष्पक्ष जांच होने की। यह निष्पक्ष जांच तभी हो पायेगी जब जांच एजेंसियों पर भावनात्मक दबाव बनाने के कृत्य बन्द होंगे।

मीडिया को धर्म न्याय के पक्ष में खड़ा हाेना होता है और न्याय दिलाने के लिए लड़ना होता है। जब सुशान्त की मृत्यु को लेकर शक पैदा हो रहा था तभी तो सर्वोच्च न्यायालय ने इसे सीबीआई को सौंपा। इससे आगे तो अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता का ही ‘नजरबन्द’ होना है। अपराध विज्ञान के विशेषज्ञों को अपना काम करने देना चाहिए और मीडिया को आम देशवासी की सुध लेनी चाहिए।

लोकतन्त्र में यही उसका धर्म है। और हकीकत यह है कि देश में दैनिक मजदूरी करके अपना पेट भरने वाले मजदूरों की आत्महत्याओं में पिछले वर्षों में बेतहाशा वृद्धि हुई है। सवाल यह भी है कि अर्द्ध सैनिक बलों में तैनात सिपाही आत्महत्या क्यों करते हैं? ये सभी ऐसे सवाल हैं जिनका समाज से प्रत्यक्ष लेना-देना है और जो हमारी समूची व्यवस्था की दशा बताते हैं। इस दशा को सुधारना मीडिया का पहला कर्त्तव्य होता है।

लोकतन्त्र हमें यही तो सिखाता है कि सत्ता के शिखर से लेकर नीचे तक सार्वजनिक कार्य में जुटा प्रत्येक व्यक्ति इस देश की सम्पत्ति है। इसकी सुरक्षा करना मीडिया का ईमान होता है।

-आदित्य नारायण चोपड़ा