BREAKING NEWS

भारत में कोरोना टेस्टिंग का आंकड़ा पहुंचा 1 करोड़ के पार, मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम : स्वास्थ्य मंत्रालय◾राहुल के आरोपों पर AgVa कंपनी का जवाब, कहा- वह डॉक्टर नहीं है, दावा करने से पहले करनी चाहिए थी पड़ताल◾यथास्थिति बहाल होने तक LAC से भारत को एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : कांग्रेस◾राहुल का केंद्र सरकार से सवाल, कहा- भारतीय जमीन पर निहत्थे जवानों की हत्या को कैसे सही ठहरा रहा चीन?◾भारत-चीन बॉर्डर पर IAF ने दिखाया अपना दम, चिनूक और अपाचे हेलीकॉप्टर ने रात में भरी उड़ान◾विकास दुबे की तलाश में जुटी पुलिस की 50 टीमें, चौबेपुर थाने में 10 कॉन्स्टेबल का हुआ तबादला◾कोरोना वायरस : देश में मृतकों का आंकड़ा 20 हजार के पार, संक्रमितों की संख्या सवा सात लाख के करीब ◾पुलवामा में एनकाउंटर के दौरान सुरक्षा बलों ने 1 आतंकी मार गिराया, सेना का एक जवान भी हुआ शहीद ◾चीन मुद्दे पर US ने एक बार फिर किया भारत का समर्थन, कहा- अमेरिकी सेना साथ खड़ी रहेगी◾विश्वभर में कोविड-19 मरीजों की संख्या 1 करोड़ 15 लाख से अधिक, मरने वालों का आंकड़ा 5 लाख 3 हजार के पार ◾US में कोरोना संक्रमितों की संख्या 29 लाख के पार, अब तक 1 लाख 30 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾गृह मंत्रालय से विश्वविद्यालयों को मिली हरी झंडी, परीक्षाएं कराने की मिली अनुमति◾महाराष्ट्र में कोरोना के 5,368 नए मामले आये सामने, 204 और मरीजों की मौत◾वांग - डोभाल बातचीत के बाद बोला चीन - LAC पर सैनिकों को पीछे हटाने का काम जल्द से जल्द किया जाना चाहिए ◾दिल्ली में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 1 लाख के पार, देशभर में 7 लाख से ऊपर पहुंची संक्रमितों की संख्या◾कांग्रेस का पलटवार - चीन के खिलाफ मजबूत होती सरकार तो नड्डा को ‘झूठ’ नहीं बोलना पड़ता◾निलंबित DSP देविंदर सिंह समेत छह लोगों खिलाफआतंकी गतिविधियों के लिये NIA द्वारा चार्जशीट दायर ◾चीन के पीछे हटने से एक दिन पहले NSA डोभाल और चीनी विदेश मंत्री के बीच हुई थी बातचीत◾सेना के पीछे हटने पर बोला चीन- दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के लिए उठाया गया कदम◾CM केजरीवाल बोले-दिल्ली में अब रोज 20 से 24 हजार हो रहे है कोरोना टेस्ट, मृत्यु दर में आई कमी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कश्मीर पर तालिबान का बदला रुख

कश्मीर के मसले पर अफगानिस्तान के ​तालिबान ने पाकिस्तान को बड़ा झटका दिया है। तालिबान ने दो टूक शब्दों में कह दिया है कि कश्मीर भारत का आंतरिक मसला है और तालिबान किसी दूसरे देश के मसलों में हस्तक्षेप नहीं करता। तालिबान की राजनीतिक शाखा इस्लामिक अमीरात के प्रवक्ता सुहेल शाहीन ने यह भी साफ कर दिया है कि वह कश्मीर में जारी कथित जिहाद मूवमेंट का हिस्सा नहीं है।

तालिबान का यह रुख उसके पूर्व के रुख से काफी बदला हुआ है। तालिबान छोटे-छोटे समूहों का एक गुट है। उसके कई गुट कश्मीर पाकिस्तान को दिए जाने या फिर आजाद किए जाने का समर्थन करते रहे। हालांकि इस्लामिक अमीरात के इस बयान से पाकिस्तान के हक्कानी नेटवर्क को काफी बड़ा आघात लगा है। इससे पहले अफगानिस्तान सरकार ने कहा था ​कि युद्ध से जर्जर देश के पुनर्निर्माण में और शांति प्रक्रिया में मदद करने में भारत महत्वपूर्ण योगदान देने वाले देशों में से है।

अफगानिस्तान विदेश मंत्रालय ने यह बयान तालिबान के इस आरोप के बाद जारी किया है कि भारत लम्बे समय तक अफगानिस्तान में नकारात्मक भूमिका अदा करता रहा है। अफगानिस्तान सरकार ने यह भी कहा है कि अफगानिस्तान में शांति और सुलह में भारत पक्षकारों में से एक रहा है। भारत ने अफगान नीत और अफगान नियंत्रित राष्ट्रीय शांति एवं सुलह-सफाई प्रक्रिया का समर्थन किया है।

भारत ने अफगानिस्तान में काफी धन दान के तौर पर भी दिया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि भारत अफगानिस्तान के पुनर्निर्माण  में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। सड़कें, रेलवे लाइन तो भारत बना ही रहा है, साथ ही अफगानिस्तान की संसद तक भारत ने बना कर दी है। अन्य कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर भी भारत काम कर रहा है।

सुखद बात यह है कि अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी और उनके प्रतिद्वंद्वी अब्दुल्ला अब्दुल्ला के बीच एक बड़ा सियासी करार हो गया है। दोनों ने सत्ता में सांझेदारी को लेकर एक अहम करार किया है। वर्ष 2014 में भी दोनों सत्ता में सांझेदारी कर चुके हैं। नए सियासी समझौते के तहत अशरफ गनी राष्ट्रपति बने रहे जबकि अब्दुल्ला अब्दुल्ला राष्ट्रीय सुलह के लिए गठित परिषद के प्रमुख होंगे और उनके पास मंत्रिमंडल में 50 फीसदी की हिस्सेदारी होगी।

अब्दुल्ला अब्दुल्ला से समझौते के बाद उम्मीद है कि अफगानिस्तान में तालिबान से बातचीत की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाएगा। पिछले वर्ष सितम्बर में अफगानिस्तान में राष्ट्रपति चुनाव हुए थे और चुनावों में राष्ट्रपति अशरफ गनी को विजयी घोषित किया गया था लेकिन अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने मतगणना में धांधली के आरोप लगाते हुए चुनाव परिणामों को मानने से इंकार कर दिया था और समानांतर सरकार बनाने का ऐलान कर खुद को राष्ट्रपति घोषित कर दिया था। दोनों में समझौता हो जाने के बाद सियासी संकट हल हो गया है।

अमेरिका-तालिबान समझौते में पाकिस्तान की भी भूमिका रही है। पाकिस्तान अफगानिस्तान में भारत की मौजूदगी देखना नहीं चाहता। उसने हक्कानी नेटवर्क का सहारा लेकर अफगानिस्तान में भारतीय ठिकानों पर हमले भी करवाए। कौन नहीं जानता कि अफगानिस्तान में शांति और स्थिरता कायम रखने के अमेरिकी प्रयासों के खिलाफ पाकिस्तान ने अफगान तालिबान को लगभग दो दशकों तक पोषित, समर्थित और सशक्त किया, नतीजतन अफगानिस्तान एक विफल राष्ट्र बन गया। कौन नहीं जानता कि पाकिस्तान ने तालिबान को खुले तौर पर शरण दी। पाकिस्तान ने अफगान लोगों के बीच अमेरिका विरोधी भावनाएं पैदा करने के लिए धार्मिक संगठनों के माध्यम से अभियान चलाया।

पाकिस्तान की मदद से तालिबान का जिहाद एक व्यापक अमेरिका विरोधी अभियान बन गया था। अमेरिका और मित्र देशों की सेनाओं ने तालिबान पर कई बड़े हमले किए, इसके बावजूद तालिबान लड़ाकों की तुलना में पश्चिमी देशों के जवान ज्यादा मारे गए।

अफगानिस्तान की मौजूदा स्थिति में पाकिस्तान पिछड़ता जा रहा है। आतंकवाद को लेकर अफगानिस्तान पाकिस्तान को कई बार चेतावनियां देता रहा है। दरअसल जिस तालिबान को पाकिस्तान ने खड़ा किया इसमें कोई बात छिपी हुई नहीं है। दरअसल पाकिस्तान तालिबान के जरिये अफगानिस्तान की सत्ता को नियंत्रित करना चाहता था लेकिन अब उसे लगातार झटके मिल रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाए जाने और राज्य के पुनर्गठन से बौ​खलाए पाकिस्तान ने जब अफगानिस्तान और कश्मीर मुद्दे को जोड़ना चाहा तो तालिबान के प्रवक्ता ने यही कहा था कि कश्मीर मसले का अफगानिस्तान से कोई लेना-देना नहीं है। पाकिस्तान ऐसा उद्दंड देश है जिसने हमेशा आतंकी हिंसा को अपना हथियार बनाया।

पाकिस्तान ने अफगानिस्तान को एक रणनीतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल करने की कोशिश की लेकिन अफगा​न का अवाम पाकिस्तान का सच जानती है। पाकिस्तान ने उपद्रवों का हमेशा लाभ उठाया। अफगानिस्तान में आतंकवाद विरोधी अभियान में अमेरिका का मित्र बनकर उससे करोड़ों डालर लिए और अमेरिका को धोखा भी दिया। अमेरिका ने साथ छोड़ा तो पाकिस्तान चीन की झोली में जा गिरा। एक दिन पाकिस्तान की हालत ऐसी होने वाली है कि वह न घर का रहेगा न घाट का।

--आदित्य नारायण चोपड़ा