BREAKING NEWS

कोरोना से जंग के बीच टीकाकरण अभियान जारी, राज्यों के पास कोरोना की 2.75 करोड़ खुराक उपलब्ध : केंद्र◾शिवराज का ऐलान- MP में जहरीली शराब बेचने वालों को होगा आजीवन कारावास या मौत की सजा◾दिल्ली सरकार ने विधायकों के वेतन में बढ़ोतरी को दी मंजूरी, अब 54 की जगह 90 हजार होगी सैलरी◾दिवंगत बाला साहेब ठाकरे से काफी प्रभावित है राहुल, वे जल्द महाराष्ट्र दौरे पर आएंगे: संजय राउत◾गरीबों का सशक्तीकरण है सर्वोच्च प्राथमिकता, लाखों परिवारों को फ्री राशन दे रही सरकार : PM मोदी◾CBSE 10th रिजल्ट : त्रिवेंद्रम क्षेत्र ने 99.99 फीसदी के साथ मारी बाजी, TOP-10 में सबसे नीचे दिल्ली◾संसद में पेगासस और कई मुद्दों को लेकर विपक्ष का हंगमा, राज्यसभा की बैठक स्थगित◾पेगासस पर नीतीश के बाद अब मांझी के भी विरोधी सुर- देश को पता चले कि कौन करवा रहा है जासूसी ◾जम्मू-कश्मीर : कठुआ में रणजीत सागर बांध के पास क्रैश हुआ भारतीय सेना का हेलीकॉप्टर◾CBSE बोर्ड 10वीं का रिजल्ट जारी, स्टूडेंट्स ऐसे कर सकेंगे चेक◾विपक्ष पर बरसे PM- संसद बाधित करना लोकतंत्र और संविधान का अपमान, माफी नहीं मांगना दर्शाता है अहंकार◾नीतीश की पेगासस मामले में जांच की मांग पर शिवसेना ने जताया आभार, राउत बोले-PM को अब सुन लेना चाहिए◾त्रिपुरा में उग्रवादियों का BSF पर हमला, सब इंस्पेक्टर सहित दो जवान शहीद◾भारत में कोरोना के मामलों में मिली बड़ी राहत, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 30,549 नए केस की हुई पुष्टि ◾राहुल की अगुवाई में संसद तक विपक्ष का साइकिल मार्च, ब्रेकफास्ट मीटिंग से दूर रहीं 'आप' और BSP◾अगस्त-सितंबर में हो सकती है सामान्य से अधिक बारिश, जानें कहां कैसा रहेगा मौसम◾ Tokyo Olympics : हॉकी में हार के बाद रेसलिंग में भी निराशा, भारतीय पहलवान सोनम पहले दौर में ही हारी◾World Corona Update : विश्व में संक्रमितों की संख्या 19.88 करोड़ के पार, 42.3 लाख लोगों ने गंवाई जान ◾ सेमीफाइनल में हॉकी टीम की हार पर बोले PM मोदी-हार जीत जीवन का हिस्सा, टीम ने किया सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन ◾Tokyo Olympics : भारत को हॉकी सेमीफाइनल में बेल्जियम से 2-5 से मिली हार, अब कांस्य पदक की आस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जिंदा है तानाशाह

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के स्वास्थ्य को लेकर पिछले लगभग 20 दिनों से दुनिया भर का मीडिया अटकलें लगा रहा था। मीडिया समय-समय पर किम जोंग के बारे में कुछ न कुछ लिखता रहा है। टीवी चैनल धड़ाधड़ कहानियां चलाते हैं लेकिन किम जोंग फिर जीवित हो जाते हैं। पूरी दुनिया में उत्तर कोरिया के बारे में ज्ञान हासिल करने की जिज्ञासा है और इस जिज्ञासा में भारत भी पीछे नहीं। अब की बार तो किम की मौत की खबरें बड़े ही रोचक ढंग से पेश की गईं और उनकी बहन को उत्तराधिकारी भी घोषित कर दिया गया। उत्तर कोरिया में उनके खिलाफ जनविद्रोह की खबरें उछाली गईं। तमाम अटकलों को झूठा साबित करते हुए किम जोंग एक बार फिर सामने आए। उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग के निकट सुनचोन में वह फर्टिलाइजर फैक्टरी का उद्घाटन करते नजर आए। किम 15 अप्रैल को अपने दादा के जन्मदिन के समारोह में शामिल नहीं हुए। यह देश के लिए साल के सबसे बड़े आयोजनों में से एक होता है। किम जोंग के दादा उत्तर कोरिया के संस्थापक थे। इसके बाद से ही अटकलों  का बाजार गर्म हो गया था। यह पहली बार नहीं था कि जब किम जोंग के गायब होने की खबरें आई थीं। वर्ष 2014 में भी वह 40 दिनों तक गायब रहे थे और ऐसी ही अफवाहें तब भी उड़ी थीं।

तानाशाह कोई भी हो, वह हमेशा अपने इर्दगिर्द तिलिस्मी संसार की रचना कर लेता है। इंटरनेट और सोशल मीडिया की इस दुनिया में हैरानी इस बात की भी है कि रहस्यमयी देश उत्तर कोरिया की कोई खबर बाहर नहीं आती। सारी दुनिया सवाल कर रही थी कि किम जोंग कहां है और किस हाल में है लेकिन इसका सही जवाब देने की स्थिति में कोई नहीं था। उत्तर कोरिया के बाहर की दु​निया में किम जाेंग उन को एक राक्षस के रूप में पेश किया जाता है या एक मसखरे के रूप में जो लंदन के एक नाई के पास अपने भाड़े के गुंडे भेजता है जो उसके बालों की कटाई का मजाक उड़ाता है। उसे एक मोटे प्लेब्वाय के रूप में देखा जाता है जिसे स्विस चीजें, तेज कारें और तेज-तर्रार महिलाएं पसंद हैं लेकिन वह उत्तर कोरिया का सम्राट है, सर्वोच्च नेता जिसका आभा मंडल देवता जैसा है। हैरानी तो इस बात की है कि किम जोंग ने स्विट्जरलैंड में पढ़ाई की है, फिर वह एक सनकी तानाशाह कैसे बन गया। जिस तरह से किम ने अपने संरक्षक और चाचा चांग सोंग और रक्षा मंत्री की निर्ममता से हत्या की उसके बाद तो उनके आसपास के लोग ही आतंकित हो उठे हैं कि अगला नंबर उनका हो सकता है।

तानाशाहों का इतिहास काफी क्रूर रहा है। दरअसल तानाशाह जितना ताकतवर होता है उतना ही डरपोक भी होता है। हिटलर ने भी अपने खिलाफ षड्यंत्रकारियों को एक-एक करके मार दिया था। स्टालिन ने भी अपने सभी सम्भावित विरो​धियों को खत्म कर दिया था। तानाशाह को हर समय लगता है कि कोई न कोई उसके खिलाफ षड्यंत्र रच सकता है, कभी भी उसको मारा जा सकता है। किम कभी विमान में यात्रा नहीं करता, वह चीन भी जाता है तो अपनी विशेष ट्रेन से।

किम जोंग ने बहुत कुछ अप्रत्याशित  भी किया। टकराव के बावजूद उत्तर को​िरया और दक्षिण कोरिया नजदीक आए। 27 अप्रैल, 2018 को दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति  मून जेइन की किम जोंग से मुलाकात उसी गांव में हुई जहां कोरिया युद्ध का संघर्ष हुआ था। दक्षिण कोरिया ने अपने रक्षा दस्तावेज में उत्तर कोरिया के लिए दुश्मन शब्द हटा दिया था। उत्तर कोरिया लगातार मिसाइल परीक्षण कर रहा था, अमेरिका उसे तबाह करने की धमकियां दे रहा था। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और किम की मुलाकात हुई तो उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच परमाणु युद्ध का खतरा टला। अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय हमेशा उनके खिलाफ रहा है और उत्तर कोरिया के लोग किस तरह का जीवन जीते हैं यह भी दुनिया जानती है। उनका हेयर कट कैसा होगा, उन्हें कौन से कपड़े पहनने हैं यह भी तानाशाह का प्रशासन बताता है। अब सवाल यह है कि दुनिया भर के देशों में तानाशाहों के खिलाफ जनता विद्रोह करती आई है लेकिन उत्तर कोरिया की जनता किम की तानाशाही को क्यों सहन कर रही है। क्या उत्तर कोरिया के लोग प्रबुद्ध नहीं हैं या फिर उन्हें तानाशाही में जीवन जीने की आदत हो गई है। हैरानी की बात तो यह भी है कि उत्तर कोरिया में कोरोना वायरस का कोई भी केस सामने नहीं आया। सरकार ऐसा दावा कर रही है लेकिन ऐसी खबरें भी आईं कि वहां दस हजार से अधिक नागरिकों को आइसोलेशन में रखा गया है। हो सकता है कि डरपोक किम कोरोना वायरस से बचने के लिए अलग रहे हों। उत्तर कोरिया में संक्रमित लोगों की गोली मार कर हत्याओं की खबरें भी आती रही हैं। जिस किम ने अपने जनरल को दुनिया की सबसे खतरनाक मछली पिरान्हा से भरे तालाब में फैंक ​कर मरवा ​दिया हो तो संक्रमित व्यक्ति की हत्या की खबर भी सच हो सकती है। फिलहाल तानाशाह जीवित है और वह क्या करता है क्या नहीं, यह रहस्य बना ही हुआ है।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]