BREAKING NEWS

2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे पर गृह मंत्रालय का एक्शन - कोविड प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स 31 दिसंबर तक बढा़ई ◾निलंबन वापसी पर केंद्र करेगी विपक्ष से बात, विधायी कामकाज कल तक टालने का रखा गया प्रस्ताव, जानें वजह ◾राहुल के ट्वीट पर पीयूष गोयल ने निशाना साधते हुए पूछा तीखा सवाल, खड़गे द्वारा लगाए गए आरोपों की कड़ी निंदा की ◾कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला◾स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने बताया - भारत में अब तक ओमिक्रॉन वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के लिए नेताओं के विवादित बयान ◾UP: विधानसभा Election को सियासी धार देने के लिए BJP करेगी छह चुनावी यात्राएं, ये वरिष्ठ नेता होंगे सम्मिलित ◾UP चुनाव को लेकर मायावती खेल रही जातिवाद का दांव, BJP पर लगाए मुसलमानों के उत्पीड़न जैसे कई आरोप ◾12 सांसदों के निलंबन पर राहुल का ट्वीट, 'किस बात की माफी, संसद में जनता की बात उठाने की' ◾ओमीक्रॉन को लेकर केंद्र ने अपनाया सख्त रवैया, सभी राज्यों को दिए जांच बढ़ाने समेत कई निर्देश, जानें क्या कहा ◾राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडू ने ठुकराया 12 सांसदों का निलंबन रद्द करने का अनुरोध ◾ओमीक्रॉन के बढ़ते कहर के बीच अफ्रीकी देशों से 15 दिन में मुंबई पहुंचे 1,000 यात्री, 100 लोगों की हुई जांच ◾

फिर आया जासूसी का ‘जिन्न’

2019 में राज्यसभा में तीखी बहस की वजह रहा पेगासस साफ्टवेयर एक बार फिर सुर्खियों में है। एक रिपोर्ट में दावा ​किया गया है कि 2017 से 2019 के दौरान करीब 300 भारतीयों की जासूसी की है जिनमें पत्रकार, वकील, सामाजिक कार्यकर्ता, विपक्ष के नेता और बिजनेसमैन शामिल हैं। यह भी कहा जा रहा है कि उसने मोदी सरकार के मंत्री, संघ के नेता, सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश की भी जासूसी की। इससे पहले भी कई सुर्खियों में रहा है। 2019 में व्हाट्सएप ने पेगासस को बनाने वाली कंपनी पर मुकद्दमा किया था। पेगासस साफ्टवेयर इस्राइली कंपनी द्वारा बनाया गया है। 2019 में हंगामा उस समय हुआ था जब व्हाट्सएप ने आरोप लगाया था कि पेगासस के जरिए करीब 1400 पत्रकारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी की गई। सरकारों पर जासूसी और फोन टेपिंग के आरोप कोई नए नहीं हैं। ऐसा पहले भी कई बार हुआ है। पाठक जानते ही होंगे कि 1988 में कर्नाटक में फोन टेपिंग विवाद छा गया था। उस समय जनता पार्टी के करिश्माई नेता रामकृष्ण हेगड़े मुख्यमंत्री हुआ करते थे। गैर कांग्रेसी खेमे में उन्हें संभावित पी.एम. पद के उम्मीदवार के रूप में देखा जा रहा था। उन पर इस तरह के आरोप लगे थे कि उन्होंने 51 राजनेताओं के फोन टेपिंग के आदेश दिए थे। यह मामला संसद तक पहुंचा तो हेगड़े को इस्तीफा देना पड़ा था।

प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी पर भी विपक्षी नेताओं की जासूसी के आरोप लगे थे। प्रधानमंत्री स्वर्गीय चन्द्रशेखर पर भी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जासूसी करने के आरोप लगे थे। 2007 में जनता दल (यू) नेता नीतीश कुमार का फोन टेप किया गया था। 2008 में सीपीएम नेता प्रकाश करात का फोन टेप किया गया था, ऐसा भारतीय अमेरिका परमाणु समझौते और संसद में अविश्वास प्रस्ताव पर विपक्षी नेताओं की रणनीति का पता लगाने के लिए किया गया था। 2009 में समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव और अमर सिंह के बीच एक कथित वार्ता सामने आई थी। मनमोहन सिंह सरकार के दौरान भाजपा नेता लालकृष्ण अडवाणी ने अपने फोन का टेप किए जाने का मामला उठाया था। मनमोहन सिंह शासनकाल में ही पी.सी. चिदम्बरम पर प्रणव मुखर्जी समेत अन्य मंत्रियों की जासूसी कराने का आरोप लगा था।  2013 में भाजपा नेता स्वर्गीय अरुण जेटली के फोन टेपिंग मामले में 4 लोगों पर मुकद्दमा चला। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तक अपने ही मंत्रियों और विधायकों के फोन टेप कराने के आरोप लग रहे हैं।

केन्द्र की मोदी सरकार ने जासूसी कराने के सभी आरोपों को निराधार बताया है और संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा है कि भारत एक मजबूत लोकतंत्र है जो अपने सभी नागरिकों को मौलिक अधिकार के रूप में निजता के ​अधिकार को सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। इस प्रतिबद्धता को आगे बढ़ाते हुए व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक 2019 और सूचना प्रौद्योगिकी नियम 2021 को भी पेश किया गया है ताकि व्यक्तिगत डाटा की रक्षा की जा सके। सरकार का कहना है कि गार्जियन अखबार में प्रकाशित न्यूज आर्टिकल से कुछ भी साबित नहीं होता। वास्तव में पेगासस को सरकार के साथ जोड़ने के पहले भी प्रयास हुए हैं जो कि विफल रहे हैं। इसमें कोई संदेह नहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की छवि को खराब करने के लिए देश विरोधी ताकतें विदेशी तत्वों से मिलकर साजिशें रचते रहते हैं। हाल ही में किसान आंदोलन और सीसीए के खिलाफ आंदोलन को जिस ढंग से अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर प्रचारित किया गया, उसमें प्रधानमंत्री को बदनाम करने की साजिशें भी शामिल थी।

वैसे भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार काफी मजबूत है, उसे किसी सहारे की जरूरत नहीं है तो फिर अपनों या दूसरों की जासूसी कराने या फोन हेक कराने का आरोप एक फेक न्यूज ही लगता है। जब-जब भी ऐसे विवाद होते हैं तब-तब नियमों और इसके उद्देश्य को लेकर बहस भी होती रही है। इसे मुख्य तौर पर निजता के अधिकार के हनन के तौर पर देखा जाता है, वहीं दूसरी ओर इसे राष्ट्रीय सुरक्षा पर जन सुरक्षा की दृष्टि से जरूरी बताया जाता है। अंग्रेजों के जमाने में बने 1885 के टेलीग्राफ कानून में कई बार संशोधन हुए। केन्द्र और राज्य सरकारों को इंडियन टेलीग्राफ संशोधन नियम 2007 के तहत फोन टैपिंग कराने का अधिकार मिला है। इसके तहत कहा गया है कि अगर किसी लॉ एनफोर्समैंट एजैंसी को लगता है कि जन सुरक्षा या राष्ट्रीय हित में फोन टैप करने की जरूरत है तो उस हालात में फोन कॉल रिकार्ड की जा सकती है। फोन टैपिंग या जासूसी करवाने के लिए अब केन्द्र या राज्य सरकार के गृह सचिव स्तर के अधिकारी से इजाजत लेनी होती है। यह स्वीकृति 60 दिनों के लिए मान्य होती है और विशेष परिस्थितियों में 180 दिन से अधिक नहीं बढ़ाया जा सकता। फिलहाल एक बार फिर जासूसी और फोन टैपिंग का ‘जिन्न’ बोतल से बाहर आ गया है। हंगामा तो जरूर होगा लेकिन कुछ दिन बाद जिन्न फिर बोतल के भीतर चला जायेगा। क्योंकि ऐसे शगूफों का कोई असर सरकार पर नहीं पड़ने वाला।

आदित्य नारायण चोपड़ा

[email protected]