BREAKING NEWS

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में रॉबर्ट वाड्रा के करीबी सीसी थंपी को ईडी ने किया गिरफ्तार◾CAA को लेकर चंद्र कुमार बोस बोले-लोकतांत्रिक देश के नागरिकों पर कोई कानून नहीं थोप सकते◾BJP सांसद सौमित्र खान के बिगड़े बोल, कहा- CAA का विरोध करने वाले प्रख्यात नागरिक ममता बनर्जी के कुत्ते हैं◾दिल्ली आ रही 14 ट्रेनें 1 से 5.30 घंटे तक लेट ◾पंचतत्व में विलीन हुए श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा 'मिन्ना जी' ◾BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का निगम बोध घाट में हुआ अंतिम संस्कार◾पंचतत्व में विलीन हुए पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा◾अश्विनी कुमार चोपड़ा - जिंदगी का सफर, अब स्मृतियां ही शेष...◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾

बेरोजगारी खात्मे की एक बड़ी पहल!

इसमें कोई शक नहीं कि देश में बेरोजगारी एक बड़ी समस्या है। भारतीय अर्थव्यवस्था पर बेरोजगारी का यह कलंक पुरानी सरकारों की देन है या नहीं हम इस मामले में बहस नहीं करना चाहते। हमें तो यह पता है कि इतनी बड़ी बेरोजगारी की समस्या को महज 5 साल में खत्म नहीं किया जा सकता। हालांकि राजनैतिक ​विश्लेषकों और अर्थशास्त्रियों का कहना है कि अर्थव्यवस्था की मजबूती के लिए योजनाओं की नहीं जमीनी स्तर पर उद्योग-धंधे लगाने की जरूरत है। 

पीएम मोदी ने 2014 में जब पहली बार सत्ता हासिल की और अब जब 2019 आया तो एक बड़ा फर्क भी सामने आया है। बेरोजगारी खत्म करने को लेकर मोदी सरकार-2 ने एक अच्छी पहल की है जिसका स्वागत किया जाना चाहिए। खुद पीएम मोदी ने 2 हाई लेबल कैबिनेट कमेटियां गठित कर दी हैं जो यह पता लगाएंगी कि बेरोजगारी को लेकर असली स्थिति क्या है? हम तो यही कहेंगे कि कर्तव्यपरायणता और राष्ट्रवाद को लेकर मोदी सरकार ने सही काम कर दिया। वैसे आंकड़े बता रहे हैं कि देश में अभी लगभग साढ़े 23 लाख नौकरियां भरी जानी हैं। इनमें बीए, एमए और पीएचडी जैसे लोग हैं जो आज भी नौकरियां तलाश रहे हैं। इतने ज्यादा खाली पद हमारे सामने हैं और इससे पिछला बेकलॉग कितना बड़ा है वह यहां बयां नहीं किया जा सकता, लेकिन सरकार की पहल का स्वागत तो किया ही जाना चाहिए। जब पूरी दुनिया में आर्थिक मंदी चल रही हो तब अगर आपको सत्ता मिली हो तो बेरोजगारी आपको विरासत में मिलेगी, मोदी सरकार के साथ भी यही हुआ। 

यूं तो कागजों में बेरोजगारी की दर को आप कितने भी प्रतिशत कह लें, परंतु यह हकीकत है कि नौकरियों के मामले में आंकड़े महज 5-6 साल के नहीं निकाले जा सकते और पिछले 40 सालों पर अगर गौर करें तो बेरोजगारी का आंकड़ा 7 प्रतिशत तक जा बैठता है। सरकार के अपने महकमों में और उसकी अपनी कंपनियों में अगर नौकरियां नहीं निकल रहीं तो लोगों में झुंझलाहट पैदा होगी और उनका आक्रोश बढ़ेगा। ऐसे में राजनीतिक पार्टियां हमारे देश के लोकतंत्र में मुद्दा बनाने में देर नहीं करतीं लेकिन सरकार की अपनी नीति भी होनी चाहिए। इस मामले में मोदी सरकार ने साफ कहा है कि 2019 में बेरोजगारी को हमने बड़ी प्राथमिकता के रूप में लिया है, इसीलिए उसका सर्वे कराया जा रहा है। बड़ी बात यह है कि इसमें रेहड़ी, पटरी और खोमचे वालों को भी शामिल किया गया है।

 बेरोजगारी को लेकर अब अधिकारी जब टेबल पर बैठकर काम करेंगे तो महज आंकड़ों पर बहस नहीं होनी चाहिए बल्कि जमीनी हकीकत रखकर बेरोजगारी खत्म करने के साधन जुटाए जाने चाहिएं। प्रधानमंत्री मोदी ने जहां गृहमंत्री अमित शाह को इस आर्थिक मोर्चे पर अपने साथ जोड़ा है तो वहीं अनेक मामलों में अपने सहयोगी वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह का अनुभव भी अपने मिशन में जोड़ा है। इन्वेस्टमेंट और स्किल डेवलपमेंट को लेकर मोदी जी ने ज्यादातर कमेटियों में अपने विश्वासपात्रों को लेकर विदेश नीति को भी सामने रखा है। 

कुल मिलाकर देश तभी शक्तिशाली होगा यदि हर मोर्चे पर काम करने वाले लोग ईमानदारी से डटेंगे, इसीलिए नीति आयोग में भी प्रधानमंत्री ने श्री अमित शाह को पदेन सदस्य बनाकर इरादे जाहिर कर दिए हैं कि आर्थिक मोर्चे पर देश को मजबूत बनाना है और साथ ही नीतिगत मामलों को लेकर बेरोजगारी की बढ़ती बेल को जड़ से काटना है। सच बात यह है कि महंगाई, मुद्रास्फीति जैसे मामले सिर उठा रहे हैं। इसका हल निकालना ही होगा और सबसे बड़ी बात है कि सरकार ने पहल शुरू कर दी है। आने वाले दिनों में उम्मीद की जानी चाहिए कि बेरोजगारी को लेकर सवाल उठाना आसान नहीं होगा, क्योंकि श्रम एवं रोजगार के साथ-साथ गरीब लोगों की आर्थिक स्थिति मजबूत करना भी अब सरकार की प्राथमिकता है।

 हमारे देश में बैंकिंग व्यवस्था को लेकर सवाल उठते रहे हैं लेकिन जिस तरह फाईनेंस मामले पर पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेतली सरकार के संकटमोचक बने रहे आज ऐसे ही एक पावरफुल वित्त मंत्री की जरूरत है। निर्मला सीतारमण के रूप में उम्मीद की जानी चाहिए वह जेतली जी का विकल्प बनकर कुछ ऐसे पग उठाएंगी जो उद्योगों की स्थापना में बहुत कारगर सिद्ध होंगे। जब बेरोजगारी बढ़ रही हो तब अगर नई-नई इंडस्ट्री स्थापित हो जाए तो बहुत कुछ पाया जा सकता है। बाजार में आपके माल की मांग बढ़नी चाहिए और अंतर्राष्ट्रीय जगत में हमें अपनी पहचान बनानी है तो चीन जैसे लोग भी हमारे सामने हैं। बेरोजगारी और विकास को लेकर पहिया कभी अटकना नहीं चाहिए। डॉलर की तुलना में रुपए की मजबूती चाहिए तो कंपीटिशन के मामले में भारत के प्रोडक्ट की मांग बढ़नी चाहिए। अब विकास दर का भी हमें ध्यान रखना है।

 हमें छोटे और मध्यम वर्ग के साथ-साथ बड़े वर्ग का भी ध्यान रखना है तभी आप सबको खुश रख सकते हो, लेकिन आर्थिक मोर्चे पर  मोदी सरकार ने जो रास्ता चुना है उसमें बेरोजगारी को नंबर-1 माना है। जिस तरह सरकार ने अपनी पारी शुरू करते ही इस बेरोजगारी को लेकर मोर्चा लगाया है तो आपकी पारी को एक मजबूती मिलेगी और उम्मीद ही नहीं यकीन है कि गृहमंत्री अमित शाह को इस फ्रंट पर लाकर खुद प्रधानमंत्री मोदी अपना मार्गदर्शन देते हुए आगे की राहें बना रहे हैं और भारत अपनी मंजिल पा ही लेगा, क्योंकि सरकार की नीति स्पष्ट है और उसकी नीयत में खोट नहीं है। देशवासियों का विश्वास है तभी तो सब मोदी सरकार के साथ हैं।