BREAKING NEWS

आज का राशिफल (27 फरवरी 2021)◾जम्मू-कश्मीर के रियासी में आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़, भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद जब्त ◾विकास दर में कमी, महंगाई में तेजी की ‘दोहरी मार’ से लोग प्रभावित : कांग्रेस ◾विधानसभा चुनावों की घोषणा : कांग्रेस ने निर्णय का किया स्वागत, कहा - लोग भाजपा को ‘करारा’ जवाब देंगे ◾टीएमसी, अन्य ने बंगाल में आठ चरणों में चुनाव पर सवाल उठाए, भाजपा ने आयोग के फैसले का किया स्वागत◾सीतारमण ने जी-20 बैठक में कोरोना संकट से निपटने की भारत की नीति की जानकारी दी ◾कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था को लेकर केंद्र सरकार पर साधा निशाना ◾ममता बनर्जी ने उठाए आठ चरणों में वोटिंग पर सवाल, कहा- BJP के कहने पर चुनाव आयोग ने लिया फैसला◾TMC के शासन काल में राजनीतिक हिंसा ‘‘नई ऊंचाइयों’’ पर पहुंच गई है : राजनाथ सिंह ◾विधानसभा में जो भाषा मुख्यमंत्री बोलते है, वह किसी योगी द्वारा नहीं बोली जा सकती : अखिलेश यादव ◾ईंधन मूल्यों की बढ़ोतरी को सीतारमण ने बताया धर्मसंकट, शिवसेना ने कहा- पद पर बने रहने का अधिकार नहीं ◾अर्थव्यवस्था में आयी ऊंचाई , तीसरी तिमाही में जीडीपी में दर्ज हुई 0.4 प्रतिशत की वृद्धि ◾कोविड टीके के लिए वरिष्ठ नागरिक, बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोग कराएं ‘ऑन-साइट’ पंजीकरण ◾निर्वाचन आयोग ने बंगाल सहित 5 राज्यों में किया चुनावी तारीखों का ऐलान, 2 मई को आएंगे सभी राज्यों के नतीजे ◾बंगाल चुनाव के ऐलान से पहले ममता बनर्जी ने घोषणाओं की लगाई झड़ी, श्रमिकों का बढ़ाया वेतन ◾केंद्रीय गृह मंत्रालय ने किया ऐलान - कोविड-19 पर मौजूदा दिशानिर्देश 31 मार्च तक लागू रहेंगे ◾गुजरात में बोले केजरीवाल - जनता जानती है हम सच्चे देशभक्त हैं, 2022 चुनाव में एक बड़ी क्रांति आएगी◾पश्चिम बंगाल में रोड शो कर स्मृति रानी ने ममता बनर्जी को दिया जवाब, कहा - बंगाल में खिलेगा कमल◾CTET Result 2021: सीबीएसई द्वारा घोषित किए गए नतीजे, 6.5 लाख उम्मीदवार सफल◾PM मोदी ने किया खेलो इंडिया Winter games का उद्घाटन, कहा -स्पोर्ट सिर्फ एक हॉबी नहीं स्पिरिट है ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

उत्तर प्रदेश पुलिस का ‘वैभव’ प्रदर्शन

सर्विस रूल्स का उल्लंघन करने पर गौतमबुद्ध नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वैभव कृष्ण को उत्तर प्रदेश सरकार ने निलम्बित कर दिया है। इसके साथ ही सरकार ने वैभव कृष्ण की रिपोर्ट में आरोपी 5 आईपीएस के हटाने के साथ ही जांच के लिए एसआईटी भी गठित कर दी है। इसके अलावा कुछ पुलिस कप्तानों का तबादला भी किया गया। वैसे तो निलम्बन, तबादले और बहाली पुलिस अफसरों और कर्मचारियों के जीवन का हिस्सा है लेकिन वैभव कृष्ण मामले में जो भी सामने आया उससे उत्तर प्रदेश पुलिस की छवि काफी प्रभावित हुई है। 

निलम्बित एसएसपी वैभव कृष्ण का एक वीडियो वायरल होने के बाद आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला रुक नहीं पा रहा था। नोएडा, मेरठ, गाजियाबाद से लखनऊ तक पूरे राज्य में खलबली मची हुई थी। नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर ​जिस तरह का उपद्रव उत्तर प्रदेश में हुआ और जिस तरीके से पुलिस ने उपद्रवियों से निपटा, उसे लेकर भी पुलिस जबरदस्त आलोचना का शिकार हुई। कहीं बेगुनाहों को गिरफ्तार किया गया तो कहीं मृतकों और हज यात्रा के लिए गए लोगों को आरोपी बनाया गया। 

पहले से ही शर्मसार हो चुकी उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए यह बहुत ही शर्मनाक रहा कि एक एसएसपी का वीडियो वायरल होता है जिसमें वह विभाग के आईपीएस अधिकारियों पर तबादलों और नियुक्तियों में रिश्वत लेने का आरोप लगाता है। जो पुलिस विभाग पहले ही आंतरिक कलह का शिकार हो उससे सही तरीके से काम करने की उम्मीद कैसे की जा सकती है। रिश्वत और भ्रष्टाचार के आरोप तो पुलिस वालों पर लगते रहे हैं क्योंकि उसकी छवि पर पहले ही ग्रहण लगा हुआ है लेकिन दुखद पहलु यह है कि जिन अधिकारियों पर राज्य की जनता की सुरक्षा का दायित्व है, जिन पर कानून की रक्षा और पालन की जिम्मेदारी है उन पर आरोप लगना गम्भीर मामला है। 

निलम्बित एसएसपी की महिला के साथ चैटिंग के वायरल ​वीडियो की फारेंसिक लैब से जांच कराई गई। वैभव कृष्ण ने वायरल वीडियो को फर्जी बताया था लेकिन जांच में वीडियो और चैटिंग सही पाई गई। हैरानी की बात तो यह है कि वैभव कृष्ण ने वायरल वीडियो के संबंध में खुद एफआईआर कराई थी। तब उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि एक बड़ी लाबी उनके खिलाफ साजिश रच रही है। जब पुलिस की छवि पर आंच आने लगी तो जांच के बाद वैभव कृष्ण और अन्य पर गाज गिरा दी गई है। 

इस पूरे प्रकरण ने पुलिस अधिकारियों के आचरण को लेकर सवाल खड़े ​कर दिए हैं। पहले वीडियो वायरल हुए फिर एसएसपी प्राथमिकी दर्ज कराते हैं और फिर स्वयं प्रैस कांफ्रैस कर मीडिया को जानकारी देते हैं। इससे आचरण नियमावली का घोर उल्लंघन हुआ। इसके बाद योगी सरकार के पास उनके निलम्बन के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था। आईपीएस अफसर जसवीर सिंह ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर पुलिस विभाग के वरिष्ठ अफसरों के भ्रष्टाचार की जांच स्वतंत्र एजैंसी से कराने की मांग की है और नोएडा के थाने में एफआईआर दर्ज कराने की तहरीर भी दी है। 

पत्र में लिखा गया है कि जिलों में तैनाती के लिए पैसे और अन्य प्रकार का प्रलोभन प्रथम दृष्टया दंडनीय अपराध की श्रेणी में आता है। जसवीर सिंह ने यह भी ​लि​खा है कि वह यह पत्र एक नागरिक के तौर पर, एक करदाता की हैसियत से लिख रहे हैं। पुलिस के बर्बर, गैर जिम्मेदार, लापरवाह और अमानवीय चेहरे की मिसालें अक्सर मिलती रहती हैं। इस संबंध में एक ग्रंथ की रचना की जा सकती है लेकिन प्रश्न फिर भी वही रहेगा कि आखिर हमारी पुलिस सुधरती क्यों नहीं। वह इतनी बर्बर और मानव विरोधी क्यों है? आखिर कौन पुलिस को पुलिस कहेगा? एक लोकतंत्र में पुलिस का कर्त्तव्य यह है कि वह कानून व्यवस्था बनाए रखे और नागरिकों को शांति से जीने के लिए उचित वातावरण मुहैया कराए। 

देश को स्वतंत्र हुए 73 वर्ष हो चुके हैं लेकिन पुलिस के उपनिवेशवादी रवैये में कोई खास सुधार नहीं आया। पुलिस के आला अफसर अगर अपने अधीनस्थों के साथ ऐसा व्यवहार करते हों, उनसे तबादलों और नियुक्तियाें के लिए रिश्वत लेते हों, जिस राज्य में पुलिस थाने बिकते हों, उनसे आम नागरिकों को न्याय करने की उम्मीद कैसे पाली जा सकती है। इसके लिए जिम्मेदार जितनी पुलिस है उतनी ही जिम्मेदार राजनीतिक व्यवस्था भी है। पुलिस का राजनीतिकरण भी सबसे बड़ा कारण है। पुलिस जनसेवा और कानून व्यवस्था बनाए रखने की बजाय अपने ​सियासी आकाओं को ही प्रसन्न करने में लगी रहती है। प्रमोशन के लिए फर्जी मुठभेड़ें की जाती हैं। 

बहादुरी का इनाम पाने वाले कई अधिकारी भी अपराधियों के जाल में फंस जाते रहे हैं। पुलिस के एनकाउंटर स्पेशलिस्टों पर भी अपराधियों को मौत का भय दिखाकर धन ऐंठने के कारनामों का पर्दाफाश होता रहा है। पुलिस अफसरों का एक-दूसरे के प्रति खुलेआम जहर उगलना इस बात का स्पष्ट संकेत है कि बल में व्यवस्था के प्रति आक्रोश है, जो कहीं न कहीं फूट पड़ता है। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जांच के लिए बनाई गई एसआईटी को निष्पक्ष जांच करके दूध का दूध और पानी का पानी करना चाहिए और व्यवस्था में सुधार करना चाहिए।