BREAKING NEWS

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने मरने से पहले कहा-'मुझे बचाओ, मैं मरना नहीं चाहतीं' ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता युवती का शव उसके गांव लाया गया ◾राम मंदिर के ट्रस्ट में संघ प्रमुख भागवत को नहीं होना चाहिए : विहिप◾मेरी मानसिक ताकत तोड़ना चाहती है केंद्र सरकार : चिदंबरम ◾भारत की पहचान 'दुष्कर्म राजधानी' के रूप में बन गई है : राहुल◾TOP 20 NEWS 7 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का नारा 'अबकी बार, तीन पार' होगा : केजरीवाल◾एनआरसी के खिलाफ कल जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेगी पार्टी : संजय सिंह◾राकांपा नेता उमाशंकर यादव बोले- नैतिकता के आधार पर तत्काल इस्तीफा दें CM योगी◾बलात्कारी के लिए मृत्युदंड से सख्त सजा कुछ नहीं हो सकती, पालक भी जिम्मेदारी समझें : स्मृति ईरानी◾CM केजरीवाल ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत को बताया शर्मनाक, ट्वीट कर कही ये बात ◾बलात्कार की घटनाओं पर स्वत: संज्ञान लें सुप्रीम कोर्ट : मायावती◾PM मोदी, अमित शाह और अजीत डोभाल पुणे में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के सम्मेलन में हुए शामिल ◾केरल में बोले राहुल गांधी- महिलाओं के खिलाफ हिंसा और ज्यादतियों में हुई बढ़ोतरी◾सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर PM मोदी ने लोगों से किया अनुरोध, बोले- सशस्त्र बल के कल्याण के लिए योगदान दें◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के विरोध में BJP मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, कहा- वो जिंदा रहना चाहती थी◾उन्नाव पीड़िता की मौत पर बोली स्वाति मालीवाल- सरकार बलात्कार पीड़िताओं के प्रति असंवेदनशील ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत पर बोली प्रियंका गांधी- यह हम सबकी नाकामयाबी है हम उसे न्याय नहीं दिला पाए◾उन्नाव रेप केस: बुजुर्ग पिता की गुहार, बेटी के गुनहगारों को मिले मौत की सजा◾

संपादकीय

लड़ाका नहीं शांतिदूत

 minna

इस बार दुनिया का प्रतिष्ठित नोबेल शांति पुरस्कार इथोपिया के प्रधानमंत्री अबी अहमद को देने का ऐलान हो चुका है। नोबेल शांति पुरस्कार के लिए इस बार 301 नाम प्रस्तावित थे। इनमें से 223 नाम एकल व्यक्तियों के थे और बाकी नाम संस्थाओं के थे। इन नामों में जिन दो लोगों के नाम पुरस्कार के लिए बड़े दावेदार माने जा रहे थे उनमें अबी अहमद के साथ जलवायु परिवर्तन पर भावुक भाषण देने वाली ग्रेटा तुनबेर्ग भी शामिल थी। इथोपिया दुनिया का 5वां अत्यंत गरीब देश है। इथोपिया की भुखमरी पूरी दुनिया में चर्चित है। 

यह एक ऐसा देश है जिसे कभी उपनिवेशित नहीं किया गया। इस देश ने ईटालियंस को दो बार पराजित किया। इथोपिया का बाइबल में 40 बार उल्लेख है। यह बाइबल, कुरान और कई प्रसिद्ध ग्रंथों में उल्लेखित कुछ देशों में से एक है। ऐसी मान्यता है कि दुनिया के पहले मनुष्यों की उत्पत्ति इथोपिया में हुई थी। अबी अहमद को नोबेल शांति पुरस्कार दिए जाने की घोषणा के साथ ही इथोपिया फिर चर्चा में है। अबी अहमद को नोबेल शांति पुरस्कार अंतर्राष्ट्रीय शांति और सहयोग में उनके प्रयासों और शत्रु देश इरिट्रिया के साथ शांति स्थापित करने के लिए दिया गया है। अबी अहमद 2018 में इथोपिया के प्रधानमंत्री बने और उन्होंने बड़े पैमाने पर उदारीकरण की शुरूआत की। 

उन्होंने हजारों विपक्षी कार्यकर्ताओं को जेल से रिहा कराया और निर्वासित असंतुष्टों को देश में वापस लौटने की इजाजत दी। पड़ोसी देश इरिट्रिया के साथ दो दशक से भी अधिक समय से चले आ रहे संघर्ष को खत्म करते हुए उसके साथ शांति स्थापित की। सितम्बर 2018 में अबी ने इरिट्रिया और जिबूती के बीच कई वर्षों से चली आ रही राजनीतिक शत्रुता खत्म कर कूटनीतिक रिश्तों को सामान्य बनाने में मदद की। इसके अलावा अबी ने केन्या और सोमालिया में समुद्री इलाके को लेकर चले आ रहे संघर्ष को खत्म कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अबी अहमद के पिता ओरोमो मुस्लिम थे और मां अम्हारा ईसाई।​ किशोरावस्था में वे तत्कालीन दर्ग्यू शासन के खिलाफ सशक्त संघर्ष में शामिल हो गए और आखिर में खुफिया और संचार सेवाओं पर ध्यान केंद्रित करते हुए लेफ्टिनेंट कर्नल पद पर पहुंचे। 

कभी लड़ाका बने अबी अहमद ने 1995 में रवांडा में संयुक्त राष्ट्र शांति दूत के रूप में कार्य किया। इरिट्रिया के साथ 1998-2000 में सीमा विवाद के दौरान उन्होंने इरिट्रिया के डिफेंस फोर्स के इलाकों में एक टोही मिशन पर गई जासूसी टीम का नेतृत्व किया। 2010 में अबी ने राजनीति में एंट्री ली और ओरोमो पीपुल्स डेमोक्रेटिक आर्गेनाइजेशन के सदस्य बने और फिर संसद के सदस्य चुने गए। संसद में उनके कार्यकाल के दौरान ही मुसलमानों और ईसाइयों में संघर्ष शुरू हुआ और उन्होंने संघर्ष समाप्त करने के लिए ‘शांति के लिए धार्मिक मंच’ की स्थापना की। 

इरिट्रिया करीब तीन दशक के लम्बे संघर्ष के बाद 1993 में इथोपिया से अलग हुआ था। अलग होने के बाद दोनों देशों के बीच सीमा विवाद को लेकर झगड़े होने लगे। सीमांत शहरों में बम धमाके और गोलाबारी आम बात हो गई। दो दशक से भी लम्बे समय तक चले इस संघर्ष में कम से कम एक लाख लाेगों को जान गंवानी पड़ी थी। ऐसा लग रहा था कि संघर्ष कभी खत्म नहीं होगा। तब अबी अहमद ने अपनी तरफ से शांति की पहल की। अबी अहमद की अलग-अलग समुदायों पर अच्छी पकड़ है। उन्हें जनता के बीच काफी सम्मान प्राप्त है। उनके प्रयासों से ही दोनों देशों के बीच शांति समझौता हुआ। लड़ाके से शांतिदूत बने अबी अहमद का नाम नोबेल शांति पुरस्कार के लिए सूची में दर्ज किया गया और उन्होंने सभी को पीछे छोड़ते हुए यह पुरस्कार हासिल किया। 

यह भी सही है कि ग्रेटा तुनबर्ग ने जलवायु परिवर्तन की रोकथाम के लिए अपने फ्राइडेज फॉर फ्यूचर आंदोलन के द्वारा युवाओं में चेतना जगाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। वह शुद्ध शाकाहारी बन गई हैं। वह किसी ईंधन से चलने वाली बस, कार या विमान में सफर नहीं करती। इसमें कोई संदेह नहीं कि ग्रेटा के​ प्रयास ईमानदारी से भरे हुए हैं, लेकिन कुछ लोग और संगठन ग्रेटा के आंदोलन को अपने हितों के ​लिए खतरा मानते हैं। कुछ लोग ग्रेटा को अदृश्य शक्तियों की कठपुतली भी करार देते हैं। 

सबसे कम उम्र में नोबेल पुरस्कार पाने वाली पाकिस्तान की मलाला युसुफजई रही। 2014 में जब उसे पुरस्कार मिला ​था तब उसकी उम्र 17 वर्ष की थी। मलाला का नाम उसकी हत्या के प्रयास से घायल होने के बाद चमका न कि अपने किसी चमत्कारिक विवाद या मैजिक काम से। इथोपिया के प्रधानमंत्री अबी अहमद के प्रयासों से लाखों लोगों की जानें बची हैं। जान लेने वाला नहीं, लोगों की जान बचाने वाला ही शांतिदूत होता है। इसलिए उनका चयन सही है।