BREAKING NEWS

राजस्थान: कांग्रेस विधायक दल की बैठक, पायलट की वापसी पर गहलोत खेमे के कई विधायक खफा◾उत्तर प्रदेश : CM योगी ने प्रधानमंत्री से HFNC उपकरणों की खरीद में मदद करने का किया अनुरोध◾पर्यावरण सरंक्षण कानून के खिलाफ और भारत के भविष्य से समझौता है EIA का मसौदा : कांग्रेस◾दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1.47 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 1,257 नए केस ◾उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर जारी, बीते 24 घंटे में कोरोना के 5,130 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1.31 लाख के पार◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- कोरोना के रोजाना बढ़ते मामलों से राज्यों को अधिक चिंतित नहीं होना चाहिए◾उर्दू के मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती◾पुतिन का दावा-रूस ने बना ली कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन, बेटी को लगाया गया टीका◾ब्रेन सर्जरी के बाद वेंटिलेटर सपोर्ट पर प्रणब मुखर्जी, हालत नाजुक◾मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में PM मोदी में कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने पर दिया जोर, कहा-महामारी बदल रही अपना रूप◾राजनीति में व्यक्तिगत शत्रुता का कोई स्थान नहीं, बस पार्टी के सामने जरूरी मुद्दों को रखा : सचिन पायलट◾जम्मू-कश्मीर के दो जिलों में ट्रायल के तौर पर 15 अगस्त के बाद शुरू होगी 4G इंटरनेट सेवा ◾CM गहलोत बोले- BJP की सरकार गिराने की साजिश रही नाकाम, हमारे सभी विधायक है हमारे साथ ◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में 53 हजार 601 नए मरीजों की पुष्टि, 871 लोगों ने गंवाई जान ◾मनरेगा पर राहुल ने शेयर किया ग्राफ, क्या सूट-बूट-लूट की सरकार समझ पाएगी गरीबों का दर्द◾बुलंदशहर : US में पढ़ने वाली छात्रा की छेड़खानी के दौरान सड़क हादसे में मौत◾UP : बागपत में BJP नेता एवं पूर्व जिलाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या, CM योगी ने जताया शोक ◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का प्रकोप बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 2 करोड़ के पार◾BSP विधायकों के कांग्रेस में विलय के खिलाफ याचिका पर SC में आज होगी सुनवाई◾पायलट की वापसी के बाद कांग्रेस नेताओं ने जताई खुशी, कहा- 'स्वागत है सचिन'◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

इस नई सुबह का स्वागत है

अब जबकि जम्मू-कश्मीर व लद्दाख एक नये वजूद के रूप में हमारे सामने आ चुके हैं तो इसका स्वागत किया जाना चाहिए। दरअसल धारा-370 भारत के नक्शे पर और देश की खूबसूरती पर एक ऐसा बदनुमा दाग थी जो जम्मू-कश्मीर पर केन्द्रित था। यह दाग बढ़ते-बढ़ते निश्चित रूप से कैंसर बन चुका था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने देशवासियों की भावनाओं का सम्मान करते हुए 370 को खत्म कर इसका इलाज कर दिया। अब जम्मू-कश्मीर एक ऐसा राज्य बन गया है जिसकी अपनी विधानसभा होगी और वहां चुनाव हुआ करेंगे। 

लोग इसमें हिस्सा लेंगे तथा अपनी पसंद की सरकार को चुनेंगे जबकि लद्दाख एक दूसरा यूटी होगा, जम्मू-कश्मीर भी यूटी ही होगा लेकिन उसका दर्जा विधानसभा वाला होगा। लोगों को देश के एक राजनीतिक सिस्टम का भी पता लगेगा जो जम्मू-कश्मीर से जुड़ा हुआ था वरना कल तक तो लोग यही समझते थे कि जम्मू-कश्मीर शेख अब्दुल्ला, फारूक अब्दुल्ला, मुफ्ती मोहम्मद सईद, महबूबा सईद या फिर अब्दुल गली लोन जैसों का प्रदेश है। जम्मू-कश्मीर की केसर से युक्त वादियों में कमल भी खिल सकता है इसका जवाब मोदी सरकार ने बेहतरीन तरीके से दिया है तथा 31 अक्तूबर 2019 की तारीख एक इतिहास बन गयी जब जम्मू-कश्मीर, लद्दाख एक नए वजूद के रूप में हमारे सामने आ गये हैं। 

धारा 370 और 35-ए के माध्यम से मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा पहले ही खत्म कर चुकी है। लद्दाख की अपनी एसेंबली तो नहीं होगी फिर भी वह चंडीगढ़ जैसा होगा और अब दिल्ली की तरह जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के दो अलग-अलग उपराज्यपाल बन चुके हैं। खुशी इस बात की है कि इस नए राजनीतिक सिस्टम को आसानी से समझा जा सकता है। यह बात अलग है कि अभी भी इस नए सिस्टम को चलाने और सैट करने में थोड़ा वक्त तो लगेगा इसीलिए विशेषज्ञों ने बयानबाजी शुरू कर दी है। हमारा यह मानना है कि 370 को लेकर कई लोग सुप्रीम कोर्ट पहुंचे हुए हैं लेकिन जम्मू-कश्मीर के लोग जानते हैं कि कश्मीरियों के लिए यह पग उठाना जरूरी था। 

आधे से ज्यादा कश्मीर जिन सत्ता के बड़े-बड़े ठेकेदारों की मौजूदगी के चलते खाली हुआ और यह सब आतंकवादियों को शह देकर जिन लोगों ने करवाया उनको जवाब देना भी जरूरी था। सबसे बड़ी बात यह है कि सत्ता के खुद को ठेकेदार समझने वालों की मौजूदगी के बावजूद धारा 370 हटी है। मोदी सरकार के सभी लोग जो इस काम में सूत्रधार रहे हैं उनकी भी प्रशंसा की जानी चाहिए और इस कड़ी में मोदी सरकार की पिछली टर्म में गृहमंत्री रहे श्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री रहीं स्वर्गीय सुषमा स्वराज जी के साथ-साथ मौजूदा एनएसए अजीत डोभाल तथा मौजूदा विदेश मंत्री एस. शिवशंकर के योगदान को भी भुलाया नहीं जा सकता।  

जम्मू-कश्मीर के दोनों राज्यपालों की जिम्मेदारी अब और भी बढ़ गई है क्योंकि लोगों के दिलों में आतंक की दहशत खत्म करने के साथ-साथ उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि घाटी में नागरिकों का भविष्य सुरक्षित है। पाबंदियों को लेकर राजनीतिक पार्टियां तरह-तरह का दुष्प्रचार कर रही हैं। केंद्र की जिम्मेदारी भी बढ़ गई है कि वहां अब देश के अन्य उद्योगपति अपने उद्योग लगाएं इसके लिए जरूरी यह है कि अब कोई आतंक के प्रमोटरों को शह न दे पाए। राजनीतिक इच्छा शक्ति मजबूत होनी चाहिए। कश्मीर और कश्मीरियत के ठेकेदार अब शांत हो रहे कश्मीर और लद्दाख में ड्रामेबाजी न करें। जम्मू अगर मैदान है तो उसे हिंदुओं से न जोड़ें। 

कश्मीर अगर पहाड़ है तो उसे मुसलमानों से न जोड़ें। जम्मू-कश्मीर हो या लद्दाख वहां हिंदुस्तान और हिंदुस्तानियत रहती है। हिंदुस्तान के रहने वाले लोग किसी सूबे या कस्बे के लोग देश के नागरिक पहले हैं। भारत है तो जम्मू-कश्मीर है। जम्मू-कश्मीर है तो भारतीयता है। यही भारत की सबसे बड़ी पहचान है। ठीक ही कहा है कि कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत और भारतीयता तथा राष्ट्र भावना बसती है। इसी का सम्मान किया जाना चाहिए। यही हमारी भारत माता है। आओ, जम्मू-कश्मीर के रूप में इसके ताज को सुरक्षित रखें।