BREAKING NEWS

पश्चिम बंगाल के नदिया जिले में ट्रक से टकराया वाहन, 18 लोगों की मौत◾दिल्ली की बी के दत्त कॉलोनी के लोगों को हर महीने मिलेगा 20,000 लीटर मुफ्त पानी : केजरीवाल◾भारत, मालदीव व श्रीलंका ने किया समुद्री अभ्यास ◾ठाणे में दक्षिण अफ्रीका से लौटे यात्री कोरोना वायरस संक्रमित , ओमीक्रोन स्वरूप की नहीं हुई पुष्टि◾TET परीक्षा : सरकार अभ्यर्थियों के साथ-योगी, विपक्ष ने लगाया युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ का आरोप◾संसद में स्वस्थ चर्चा चाहती है सरकार, बैठक में महत्वपूर्ण मुद्दों को हरी झंडी दिखाई गई: राजनाथ सिंह ◾त्रिपुरा के लोगों ने स्पष्ट संदेश दिया है कि वे सुशासन की राजनीति को तरजीह देते हैं : PM मोदी◾कांग्रेस ने हमेशा लोगों के मुद्दों की लड़ाई लड़ी, BJP ब्रिटिश शासकों की तरह जनता को बांट रही है: भूपेश बघेल ◾आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾

...पानी की बूंद-बूंद को तरसेंगे

नीति आयोग ने अपनी एक रिपोर्ट में अगले साल 21 शहरों में भूजल खत्म होने की आशंका व्यक्त की है। यद्यपि यह भी कहा गया है कि इन शहरों में पानी की उपलब्धता भूमिगत जल स्रोतों के अलावा भूजल स्रोतों पर आधारित होने के कारण चिंता की बात नहीं है। जिन शहरों में भूजल समाप्त होने की आशंका जताई गई है उनमें दिल्ली, गुरुग्राम, गांधीनगर, यमुनानगर, बेंगलुरु, इंदौर, अमृतसर, लुधियाना, जालंधर, मोहाली, पटियाला, अजमेर, बीकानेर, जयपुर, जोधपुर, चेन्नई, आगरा, गाजियाबाद इत्यादि शामिल हैं। 

नीति आयोग की रिपोर्ट बड़े खतरे का संकेत दे रही है। भारत में पुराने जमाने में तालाब, बावड़ी और नलकूप थेे, तो आजादी के बाद बांध और नहरें बनाईं। वक्त के साथ-साथ आबादी बढ़ने से जंगलों और खेतों की देनदारियां बढ़ी हैं। बारिश वही है या जलवायु में परिवर्तन के चलते कहीं थोड़ी घटी या बढ़ी है। ऐसे में योजनाकारों पर दबाव बढ़ा है कि पानी की बर्बादी रोकी जाए और भंडारण के पुख्ता इंतजाम किए जाएं। 

जहां तक देश में पानी से बर्बादी की बात है, तो यह देश के पूर्वी भाग में कई साल से देखने को मिलती रही है। गंगा और ब्रह्मपुत्र के तांडव से कौन अनभिज्ञ है। इस सच्चाई को 1972 में ही महसूस कर लिया गया था और गंगा-कावेरी के बीच गादलैंड केनाल का स्वप्न देखा गया था। वर्ष 1982 में नेशनल वाटर डवलपमैंट अथारिटी का गठन कर लिया गया था। तमाम अध्ययनों और सर्वेक्षणों के बाद जो स्वरूप विकसित हुआ उसके अनुसार देश की विभिन्न नदियों के बीच तीस लिंक बनाकर बाढ़ की विभीषिका को सूखे के उपचार में तब्दील किया जा सकता है। 

वर्ष 1998 की एनडीए सरकार ने इस ओर अपनी रुचि प्रदर्शित की थी किन्तु अभी तक इस दिशा में बात आगे नहीं बढ़ी। कभी धन का अभाव, कभी राज्य सरकारों में सहमति नहीं बनने तो कभी स्वयंसेवी संगठनाें और पर्यावरणविदों के एक वर्ग की आशंकाओं और विरोधों के चलते कुछ नहीं हुआ। अंततः 2012 में सर्वोच्च न्यायालय ने केन्द्र से पूछ ही लिया कि नदियों को जोड़ने के मामले पर क्या कर रही है। जहां तक इस मामले में पहल और परिणामों की बात है तो इस दिशा में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा अपने स्तर पर नर्मदा और शिप्रा नदी को जोड़ने से मालवा क्षेत्र के किसानों के चेहराें पर मुस्कान बढ़ गई थी। 

आंकड़े बताते हैं कि धरती पर पानी की कुल मात्रा 13,100 लाख क्यूविक किलोमीटर है। इस पानी की लगभग 97 प्रतिशत मात्रा समुद्र में खारे पानी के रूप में और तीन प्रतिशत मात्रा अर्थात 390 लाख क्यूविक किलोमीटर पेयजल के रूप में धरती पर अनेक रूपों में मौजूद है। ऐसे में हमें भविष्य के लिए सचेत रहना होगा। जिन शहरों में जल संकट की आशंका व्यक्त की गई है, स्पष्ट है कि वहां भूमिगत जल का अंधाधुंध दोहन हो रहा है। गुरुग्राम, जालंधर, लुधियाना, अमृतसर और गाजियाबाद घनी आबादी वाले औद्योगिक शहर हैं, वहां पानी की खपत काफी अधिक है। दिल्ली हर वर्ष बढ़ती आबादी से त्रस्त है। राजस्थान के शहरों में पहले से पानी की किल्लत है। दक्षिण भारत की अपनी समस्याएं हैं।

जल को जीवन के पर्याय के रूप में प्रतिष्ठा दी गई है। पानी को सहेजने की प्राचीन संस्कृति रही है। इसकी पवित्रता को बचाए-बनाए रखने के लिए तरह-तरह के प्रयास किए जाते रहे हैं मगर विकास की आंधी ने उस संस्कृति को ही उड़ा कर रख दिया है। न अब वर्षा जल संचयन का प्रबंध रहा, न नदियों-तालाबों जैसे पौराणिक जल स्रोतों को सहेजने का रिवाज। भूजल के अंधाधुंध दोहन पर जल संबंधी सारी बुनियादी जरूरतें टिक गई हैं। यही वजह है कि पानी को लेकर हर जगह हाहाकार जैसी स्थिति पैदा हो जाती है। इस स्थिति से पार पाने के लिए उपाय किए जाने चाहिए। भूमिगत जल में प्रदू​षण की मात्रा बढ़ती जा रही है। यही कारण है कि देश के बड़े शहरों में लोगों को शुद्ध पानी भी नसीब नहीं हो रहा। 

यह विडम्बना ही है कि भारत दुिनया का एक जल समृद्ध देश होने के बावजूद भारत में उचित जल प्रबंधन आैर योजनाओं के सही निष्पादन के अभाव में देश की बड़ी जनसंख्या जल से वंचित है। जल का उचित बंटवारा भी नहीं हो रहा। पाठकों को याद हाेगा कि ब्राजील के साऊ पाउले में सरकार पानी की आपूर्ति पर राशनिंग करती है। अमेरिका के कैलोफोर्निया में लगातार सूखा पड़ता है। भारत-बंगलादेश सहित कई एशियाई क्षेत्रों में भूजल स्तर पाताल में पहुंच चुका है। अत्यधिक दोहन, कम बारिश से जल स्रोत सूख चुके हैं। जल या जंग की नौबत आने लगी है। पेयजल संकट के समाधान के लिए जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया है, उसे ठोस पहल तो करनी ही पड़ेगी, साथ ही देश के लोगों को भी जल संचय के लिए आगे बढ़ना होगा क्योंकि जल के बिना जीवन की कल्पना  ही नहीं की जा सकती।