65वें राष्ट्रीय फिल्म अवॉर्ड्स की घोषणा कर दी गई है। श्रीदेवी को बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला है। गौरतलब है कि फरवरी में श्रीदेवी का निधन हो गया था। बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड उनकी लास्ट रिलीज ‘मॉम’ के लिए दिया गया है।

shridevi

इसके साथ ही डायरेक्टर अमित वी. मुसुर्कार की फिल्म ‘न्यूटन’ ने दो कैटेगरी में यह अवॉर्ड अपने नाम किया है। ‘न्यूटन’ को जहां बेस्ट हिंदी फीचर फिल्म चुना गया है तो वहीं इसमें अहम भूमिका में नजर आए पंकज त्रिपाठी को स्पेशल अवॉर्ड दिया गया है। एक्टर विनोद खन्ना को मरणोपरांत दादा साहब फाल्के अवॉर्ड दिया गया। 27 अप्रैल 2017 को 71 साल की उम्र में खन्ना का निधन हो गया था।

श्रीदेवी ने अपने क़रीब 50 साल के करियर में बाल कलाकार से लेकर बच्चों की ‘मॉम’ तक की विभिन्न भूमिकाओं में एक से एक शानदार फिल्म दी। लेकिन उन्हें सर्वश्रेष्ठ फिल्म अभिनेत्री का पुरस्कार उनकी 300वीं और अंतिम फिल्म ‘मॉम’ के लिए मिला। जबकि उनके फिल्मी जीवन में कई ऐसे मौक़े आए जब श्रीदेवी सहित हमको भी लगा कि श्रीदेवी को इस बार राष्ट्रीय पुरस्कार मिलेगा। लेकिन ऐसा हो नहीं सका और जब पुरस्कारों की घोषणा हुई तो वह पुरस्कार श्रीदेवी की जगह किसी और अभिनेत्री की झोली में चला गया।

Sridevi

लेकिन अब जब श्रीदेवी इस दुनिया में नहीं रहीं तो उनके निधन के 48 दिन बाद उन्हें सर्वश्रेष्ठ फिल्म अभिनेत्री का राष्ट्रीय पुरस्कार मिलने से श्रीदेवी की आत्मा के साथ उनके आत्मजनों को भी संतुष्टि मिलेगी कि आख़िर आज उन्हें वह सम्मान मिल ही गया जो उन्हें बरसों पहले मिल जाना चाहिए था। हालांकि यह पहला मौक़ा होगा जब किसी अभिनेत्री को मरणोपरांत सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय पुरस्कार मिलेगा।

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार की चाहत हल कलाकार को होती है, भले ही इससे उनके जीवन में कोई बड़ा परिवर्तन आए या नहीं। यह पुरस्कार अच्छे अभिनय पर सरकारी मुहर लगाकर उस कलाकार को विशिष्ट पहचान और मान्यता प्रदान करता है।

इस फिल्म के निर्देशक रवि उद्यावर ने ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा कि श्रीदेवी यह अवार्ड डिजर्व करती हैं। वह बेहतरीन अभिनेत्री रही हैं और इस फिल्म की कहानी ऐसे मुद्दे पर आधारित थी जो लोगों के दिलों को टच करती है। वह कहते हैं कि इस मोमेंट पर मैं उनको बहुत अधिक मिस कर रहा हूं। वह बताते हैं कि इस फिल्म की कहीं भी स्क्रीनिंग होती थी तो वह फोन करके ख़ुशी जाहिर करती थीं। अंतिम बार रशिया में हुई स्क्रीनिंग के दौरान उन्होंने रवि से बात की थी। रवि की यह पहली फिल्म है और वह मानते हैं कि यह सम्मान एक बड़ा सम्मान है।

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पड़े पंजाब केसरी अख़बार।