अदालत ने महिला पुलिसकर्मी पर हमला करने वाले युवकों को परिवीक्षा पर किया रिहा

0
18

नई दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने एक महिला पुलिस अधिकारी को बर्बरता से पीटने के जुर्म में दोषी करार दिए गए तीन युवकों को एक साल की परिवीक्षा पर रिहा करते हुए कहा कि शिक्षा की कमी एवं अपरिवक्वता उनके ऐसा करने का कारण हो सकते हैं।

25 साल की उम, के तीनों आरोपी पहले ही जेल में एक महीने की सजा काट चुके हैं। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अजय कुमार जैन ने नवीन, रवि और रोहित को इस निर्देश के साथ रिहा कर दिया कि वे अच्छा आचरण बनाए रखें लेकिन जरूरत पडऩे पर सजा के लिए तैयार रहें।

न्यायाधीश ने कहा, ”जो कुछ हुआ, उसका संभावित कारण शिक्षा की कमी और अपरिपक्वता हो सकते हैं और उम्मीद है कि यह अवधि उन्हें जिम्मेदार एवं समझदार बनाएगी।” उन्होंने कहा, ”इसलिए इन परिस्थितियों में दोषियों को परिवीक्षा का लाभ दिया जाता है और निर्देश दिया जाता है कि वे शांति एवं अच्छा आचरण बनाए रखने के बारे में निजी मुचलका दें और साथ ही एक साल की अवधि के लिए 10,000 रुपये की जमानत राशि दें जो इस शर्त के साथ होगी कि वे जब भी ऐसी परिस्थितियां आएंगी वे सजा के लिये पेश होंगे।” अदालत ने साथ ही कहा कि चूंकि जिस अपराध के लिए युवकों को दोषी करार दिया गया, उसमें एक साल की जेल की सजा शामिल है और उनका जेल में एक महीना गुजारना पर्याप्त सजा है।

अदालत ने तीनों पर 1,000-1,000 रऊपये का जुर्माना भी लगाया जिसका उन्होंने विधिवत भुगतान कर दिया।

– भाषा

LEAVE A REPLY