बड़े नोटों के बंद होने से आम जनता में परेशानी बढी

0
442

जयपुर, (वार्ता): केंद्र सरकार के पांच सौ और एक हजार के नोटों को बंद करने की घोषणा के बाद आज सवेरे आम जनता दूध और अन्य सामानों की खरीद को लेकर परेशान होती रही।

सवेरे सवेरे दूध की डेयरी पर दूध लेने गये अधिकांश डेयरियों पर पांच सौ और हजार के नोट लेने से मना करने के कारण कई उपभोक्ता परेशान होते रहे। हालांक कुछ डेयरी संचालक बड़े नोट लेते भी देखे गये। किशनपोल बाजार स्थित एक डेयरी संचालक पप्पू ने कहा कि बड़े नोटों को लेना परेशानी का सबब बन सकता है। उसने कहा कि पहले तो छुटे का संकट ही पैदा हो रहा है ऐसे में बड़े नोट लेने पर उसे बैंक में जमा कराने के लिए घंटो लाईन में खडे होने का इंतजार करना पडेगा और डेयरी संचालकों द्वारा लेने से आनाकानी हुयी तो इन्हें खपाने में मुश्किल आयेगी।

कमोबेश यही हाल अजमेरी गेट पर स्थित एक पेट्रोल पंप पर भी देखने को मिला। सवेरे सवेरे कालेज जा रहे दो युवक अपनी बाईक में पेट्रोल भराने पेट्रोल पंप पर पहुंचे लेकिन युवकों को बैंरग लोटना पडा।बड़े नोटो के प्रचलन बंद करने का जिक्र सुबह की सैर करने वाले युवा और बुजुर्ग भी करते देखे गये। राम निवास बाग में सुबह की सैर करने आये बुजुर्ग और युवाओं में कुछ ने इसे उचित बताया तो कुछ ने कहा कि इससे जनता की परेशानियां बढेगी।

सरकार द्वारा बड़े नोटों के प्रचलन बंद करने की घोषणा के तत्काल बाद कल रात कई पेट्रोल पंपो पर लोगों की कतार लग गयी तो वहीं खातीपुरा स्थित एक एटीएम पर रूपये निकालने को लेकर विवाद होने पर पुलसि को हस्तक्षेप करना पडा। इस एटीएम पर लोग 400 रूपये के गुणांक में कई बार लेनदेन कर रहे थो जिससे पीछे लाईन में खड़े लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया था।

LEAVE A REPLY