BREAKING NEWS

शिवसेना का BJP पर तीखा वार, कहा-सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध का आनंद उठा रही है पार्टी◾कर्नाटक के 17 विधायक अयोग्य, लेकिन लड़ सकते हैं चुनाव : SC◾महाराष्ट्र : राज्यपाल के फैसले को SC में चुनौती देने वाली याचिका का उल्लेख नहीं करेगी शिवसेना◾महाराष्ट्र : राष्ट्रपति शासन के बाद उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस नेता अहमद पटेल से की मुलाकात ◾लगातार 5 दिन से बढ़ते पेट्रोल के दाम पर लगा ब्रेक, डीजल के दाम भी स्थिर ◾महाराष्ट्र : शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस का नहीं हुआ गठबंधन, अब ऑपरेशन लोटस की तैयारी में BJP◾दिल्ली-NCR में सांस लेना हुआ दूभर, गंभीर श्रेणी में पहुंची हवा◾राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾सरकार गठन फैसले से पहले शिवसेना सांसद संजय राउत की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती◾महाराष्ट्र: सरकार गठन में उद्धव ठाकरे को सबसे बड़ी परीक्षा का करना पड़ेगा सामना !◾महाराष्ट्र गतिरोध: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए NCP का मांगा समर्थन ◾अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, बोले- महाराष्ट्र में नई सरकार और नया गठबंधन बनेगा◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले नवाब मलिक- कांग्रेस के साथ सहमति बना कर ही NCP लेगी फैसला◾

हरियाणा

चुनाव के बाद बच्चा पार्टी हो जाएगी जमानत जब्त पार्टी : खट्टर

करनाल : विधानसभा चुनाव के बाद बच्चा पार्टी जमानत जब्त पार्टी हो जाएगी। यह बात मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंगलसेन ऑडिटोरियम में प्रबुद्ध लोगों को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने जेजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि जो अपनों के नहीं हो सके वो जनता के क्या होंगे। उन्होंने कांग्रेस पर भी निशाना साधा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस मुफ्तखोरी और काम नहीं करने की संस्कृति बनाना चाह रही है। 

वहीं, हम काम करने का कल्चर बनाने की कोशिश कर रहे हैं, जो लोग काम चोर हैं, उनको कार्य करने की प्रवृति पर लाने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस का घोषणा पत्र ऐसा है जो समाज को पंगु बना देने वाला है। कांग्रेस कह रही है कि बिना काम किए ही पैसे मिलेंगे, ऐसे समाज का भला कैसे हो सकता है। भाजपा ने बेरोजगारों को 100 घंटे काम करने वालों को मानदेय देने का फैसला लिया, जबकि कांग्रेस काम करने की प्रवृति को समाप्त करने की कोशिश कर रही है। 

सिर्फ सत्ता के लिए ऐसे लुभावने वादे कर रही है, जिससे समाज का नुकसान होता है। कांग्रेस जनता को खराब करने की कोशिश कर रही है, हम ठीक दिशा में कैसे आगे बढ़े, राजनीतिक दल इस मामले को लेकर अभी उलझन में हैं, लेकिन हमने रिस्क लेकर इसकी शुरुआत की है।

सुप्रीम कोर्ट तक ने सरकार की प्रशंसा की

उदाहरण देकर मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायती चुनाव में भाजपा सरकार द्वारा पढ़े लिखे प्रतिनिधि चुनने को लेकर सुप्रीम कोर्ट तक ने सरकार की प्रशंसा की है और इस फैसले को दूसरे प्रदेशों में लागू करने के लिए अपील की थी। कांग्रेस के घोषणा पत्र में है कि अगर उनकी सरकार बनी तो वे पढ़े लिखे प्रतिनिधि होने के फैसले को वापस लेंगे। इससे आप अंदाजा लगा सकते हो कि कांग्रेस कहां जा रही है।

भाजपा काम करने  का संकल्प पत्र लाई

भाजपा ने भाजपा के घोषणा पत्र के बारे में कहा कि वे समाज के लिए काम करने का संकल्प पत्र लाए हैं, ताकि समाज में सुधार हो सके। उन्होंने ऐसी कोई झूठी घोषणा नहीं की है जो पूरी न हो सके। हमारा लक्ष्य है अंतिम व्यक्ति तक लाभ पहुंचाना। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने कांग्रेस का घोषणा पत्र आने के बाद एक कांग्रेस के नेता को फोन करके पूछा भाई ये क्या कर रह हो, ऐसी झूठी घोषणाएं क्यों जो पूरी ही नहीं हो सकती, इस पर कांग्रेसी नेता ने जवाब कि ‘ना नौ मन तेल होगा और न राधा नाचेगी। मतलब साफ है कि उनको पता है कि उनकी सरकार नहीं बन रही। 

कांग्रेस के लिए अगर शब्द बहुत बड़ा है। इस पर सभागार में बैठे सभी लोग हंस पड़े। इस दौरान सीएम ने कहा कि जेजेपी के बारे में लोग जुमला झूठ पार्टी कह रहे हैं, इसी बीच एक शहरवासी ने कहा कि नहीं जी ये तो जमानत जब्त पार्टी है, सीएम बोले, नहीं ये चुनाव के बाद होगी। क्योंकि चुनाव के बाद इस गप्पू की पार्टी के प्रत्याशियों की जमानत जब्त होनी है। इस पर पूरा सभागार हंसता नजर आया। 

संस्थाओं ने मांगा स्मार्ट सिटी

सभी 94 संस्थाओं के प्रतिनिधियों द्वारा सीएम को एक ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में संस्थाओं ने मांग की है कि आगामी पांच साल में करनाल स्मार्ट सिटी बन जाना चाहिए। इस कार्य को गति मिले इसके लिए सीएम से मांग की। साथ ही संस्थाओं ने ये भी मांग की कि तीन माह में एक बार शहरवासियों के साथ उनकी बैठक हो और इसमें अधिकारी भी शामिल रहें तो ये कार्य जल्दी हो सकेगा।