BREAKING NEWS

PM मोदी आज सुबह 11 बजे रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के जरिए देश को करेंगे संबोधित ◾विश्व में कोरोना मरीजों का बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के पार◾महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद शरद पवार ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात ◾दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾लॉकडाउन, अनुच्छेद 370 खत्म करना, राम मंदिर ट्रस्ट बड़ी उपलब्धियों में शामिल : गृह मंत्रालय ◾हिन्दुस्तान में बहुत सारे लोग कष्ट में हैं और भाजपा सरकार जश्न मना रही है : प्रियंका गांधी वाड्रा ◾लद्दाख सीमा तनाव पर रक्षामंत्री बोले- चीन से डिप्लोमैटिक और मिलिट्री लेवल पर चल रही है बातचीत ◾लॉकडाउन 5.0 लागू करने पर पीएमओ में महामंथन, गृहमंत्री अमित शाह ने की पीएम मोदी से मुलाकात◾कोरोना के बढ़ते केसों से घबराएं नहीं, महामारी से चार कदम आगे है आपकी सरकार : CM केजरीवाल◾मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ पर कांग्रेस ने कसा तंज, ‘बेबस लोग, बेरहम सरकार’ का दिया नारा ◾मोदी जी की इच्छा शक्ति की वजह से सरकार ने साहसिक लड़ाई लड़ी एवं समय पर निर्णय लिये : नड्डा ◾कोविड-19 पर पीएम मोदी का आह्वान - 'लड़ाई लंबी है लेकिन हम विजय पथ पर चल पड़े हैं'◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर कांग्रेस, भाजपा के निशाने पर केजरीवाल सरकार◾राम मंदिर , सीएए, तीन तलाक, धारा 370 जैसे मुद्दों का हल दूसरे कार्यकाल की प्रमुख उपलब्धियां : PM मोदी ◾बीस लाख करोड़ रूपये का आर्थिक पैकेज ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में बड़ा कदम : PM मोदी◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का खौफ जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब ◾कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए◾कोविड-19 : देश में अब तक 5000 के करीब लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 73 हजार के पार ◾मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरे होने पर अमित शाह, नड्डा सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पुरानी पेंशन स्कीम पर हरियाणा के सरकारी कर्मचारियों को मिला भूपेंद्र हुड्डा का साथ

चंडीगढ़ : हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों की पुरानी पेंशन स्कीम को दोबारा लागू करने की मांग जोर पकड़ रही है। कर्मचारियों को इस मुद्दे पर पूर्व मुख्‍यमंत्री और हरियाणा विधानसभा में नेता विपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा का समर्थन मिला है। कर्मचारी नेताओं ने इस मांग को विधानसभा में उठाने के लिए हुड्डा से मुलाकात की। इसके अलावा सर्व कर्मचारी संघ ने आंदोलन का ऐलान कर दिया है। 

संघ ने 19 जनवरी को रोहतक में राज्य स्तरीय बैठक बुलाई है, जिसमें आंदोलन की रूपरेखा को अंतिम रूप दिया जाएगा। हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने मिलने आए कर्मचारियों को भरोसा दिलाया कि विधानसभा के विशेष सत्र में पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करने का मुद्दा कांग्रेस जोरदार ढंग से उठाएगी। पेंशन बहाली संघर्ष समिति के प्रतिनिधिमंडल ने हुड्डा से मुलाकात कर कहा कि इस स्कीम के लागू नहीं होने से लाखों कर्मचारियों को नुकसान हो रहा है। 

पूर्व सांसद दीपेंद्र हुड्डा भी कई बार कर्मचारियों की इस मांग को उठा चुके हैं। दीपेंद्र हुड्डा कर्मचारियों के साथ सड़क पर और भूपेंद्र सिंह हुड्डा पार्टी विधायकों के साथ सदन में इस मुद्दे पर सरकार को घेरने की रणनीति बना रहे हैं।  कर्मचारियों से बातचीत के दौरान भूपेंद्र हुड्डा ने कहा कि भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार को बताना चाहिए कि पुरानी पेंशन स्कीम पर उसका क्या स्टैंड है। क्या इसे कॉमन मिनिमम प्रोग्राम में जगह दी जाएगी? क्या जजपा 5100 रुपये बुढ़ापा पेंशन को इसमें शामिल करेगी या कर्मचारियों की तरह बुजुर्गों से भी धोखा किया जाएगा?

नई और पुरानी पेंशन स्कीम का अंतर

सर्व कर्मचारी संघ के अध्यक्ष सुभाष लांबा ने कहा कि सरकार एनपीएस रद कर पुरानी पेंशन बहाल करने का प्रस्ताव तक विधानसभा में पारित कर केंद्र सरकार को भेजने के लिए तैयार नहीं है। लांबा के अनुसार, 2003 मेंं केंद्र मेंं सत्तारूढ़ भाजपा के नेतृत्व में एनडीए सरकार ने पेंशन फंड डवलपमेंट रेगुलेटरी अथॉरिटी बिल का ड्राफ्ट स्वीकृत कर एक कार्यकारी आर्डर से जनवरी 2004 से (सेना को छोड़कर) देश में एनपीएस लागू कर दी थी। 

हरियाणा में एनपीएस जनवरी 2006 से लागू की गई है। सुभाष लांबा ने कहा कि इस स्कीम के अनुसार जनवरी 2004 के बाद सेवा में आए कर्मचारियों के मूल वेतन व डीए का दस प्रतिशत अंशदान के रुप में कटता है और इतना ही सरकार को जमा करवाना होता है। 

रिटायरमेंट के समय कुल जमा राशि का 60 प्रतिशत नकद मिलता है और 40 प्रतिशत राशि को शेयर मार्केट मे निवेश किया जाता है। शेयर मार्केट के उतार चढाव से पेशन का निर्धारण होता है, जो मुश्किल से एक हजार से दो हजार के बीच मे होता है। पुरानी पेंशन स्कीम मे रिटायरमेंट के समय यानी अंतिम वेतन का 50 प्रतिशत निर्धारित पेंशन मिलती है।