BREAKING NEWS

TDP के दर्जन से ज्यादा विधायक BJP के संपर्क में ◾अमरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ पहुंचे भारत, आज PM मोदी से करेंगे मुलाकात !◾World Cup 2019 AUS vs ENG : ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में, इंग्लैंड गहरे संकट में◾राम रहीम की पैरोल पर निर्णय डीसी, एसपी की रिपोर्ट के बाद : खट्टर ◾लकीर छोटी करने की बजाय अपनी लकीर लंबी करने में विश्वास करते हैं : PM मोदी ◾Modi का 5 साल का कार्यकाल ‘सुपर इमरजेंसी’ का : ममता◾राजीव गांधी हत्याकांड : मद्रास HC ने नलिनी को व्यक्तिगत रूप से पेश होकर दलील रखने की अनुमति दी ◾ओडिशा : पटरी से उतरी जगदलपुर समलेश्वरी एक्सप्रेस , 3 की मौत, स्टेशन मास्टर निलंबित◾PM मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधा, कहा उसकी ऊँचाई उसे मुबारक हो◾पश्चिम बंगाल में हालात आपातकाल से कम नहीं : जावडेकर ◾सुरक्षित और समावेशी राष्ट्र के सपने को साकार करने के लिए साथ मिलकर चलना होगा : मोदी ◾दिग्विजय सिंह ने राज्यसभा में बीजेपी पर लगाया सांप्रदायिकता फैलाने का आरोप◾धार्मिक गुरू स्वामी सत्यमित्रानंद के निधन पर उप राष्ट्रपति और PM मोदी ने शोक प्रकट किया ◾व्यापार मुद्दे पर साझे हित को तलाश करने का करेंगे प्रयास : जयशंकर◾PM मोदी के मजबूत नेतृत्व में देश में तेजी से बदलाव हो रहा है : हेमा मालिनी ◾AAP विधायक मनोज कुमार को चुनाव प्रक्रिया बाधित करने के अपराध में तीन महीने की कैद ◾गुजरात राज्यसभा उपचुनाव : सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई से किया इंकार◾PNB घोटाला : मेहुल चोकसी की एंटीगुआ नागरिकता होगी रद्द, जल्द लाया जाएगा भारत◾TMC सांसद मिमी चक्रवर्ती और नुसरत जहां ने ली लोकसभा सांसद के रूप में शपथ◾आपातकाल की बरसी पर ममता का मोदी सरकार पर वार, कहा- पिछले 5 साल से देश में 'सुपर इमरजेंसी'◾

हरियाणा

भाजपा सरकार को ​किसानों को परेशान करना अच्छा लगता है : हुड्डा

चंडीगढ़ : पूर्व मुख्यमन्त्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसे अनावश्यक रूप से लोगों को परेशान करना रूचिकर लगता है। ताजा उदाहरण आढ़तियों को परेशान करना है। जो कई दिनों से ई-ट्रेडिंग प्रणाली के विरोध में धरने पर बैठे हैं। 25 मार्च को आढ़तियों से बातचीत के बाद मुख्य मन्त्री ने उनकी मागों को स्वीकार किया था पर तीन दिन बाद 28 मार्च को ही सरकारी आदेश सहमति के उल्ट जारी कर दिए गए, जिससे आढ़तियों का आक्रोशित होना स्वाभाविक था।

आढ़तियों की हड़ताल-स्वरूप गेहूँ की खरीद प्रभावित हुई है, जिससे किसान सकते में हैं। सरकार को नहीं मालूम कि आढ़तियों का मुद्दा न सुलझने से किसानों को कितनी दिक्कत हो रही है व उसका कितना नुकसान हो रहा है। हुड्डा ने कहा कि मुख्यमन्त्री रो शो बेशक करें पर वो किसानों की परेशानियों को नजरन्दाज न करें। किसान पहले ही सरसों खरीद की शर्तों व गन्ने के बकाया से संकट में थे व अब गेहूँ खरीद में आये अवरोध से उनकी परेशानी और बढ गई है।

सरकार को मामले की गम्भीरता समझते हुए इसे हल करने की पहल करनी चाहिए वर्ना उसे उसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। सरकार पहले भी कहती आई है कि आढ़तियों ने हड़ताल वापिस ले ली है परन्तु अब सरकार अपने निर्णय पर कायम रहे। पहले की तरह पुर्नवृति नहीं होनी चाहिए।

पूर्व मुख्यमन्त्री ने सरकार की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा कि वो केवल हवा में तीर छोड़ना जानती है। धरातल पर क्या हो रहा है या क्या करना है, बिल्कुल नहीं जानती। यह सरकार की अनुभवहीनता है या कोई लाचारी है या उसे लोगों को कष्ट देने में ही आनन्द आता है, यह वही जाने।

(आहूजा)