BREAKING NEWS

LIVE : ताजमहल का दीदार करने पहुंचे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, विजिटर बुक में लिखा संदेश◾जाफराबाद में CAA को लेकर पथराव, गाड़ियों में लगाई गई आग, एक पुलिसकर्मी की मौत◾मोटेरा स्टेडियम में दिखी ट्रंप और मोदी की दोस्ती, दोनों दिग्गज ने एक-दूसरे की तारीफ में पढ़ें कसीदे ◾दिल्ली के मौजपुर में लगातार दूसरे दिन CAA समर्थक एवं विरोधी समूहों के बीच झड़प ◾CM केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने दिल्ली विधानसभा की सदस्यता की शपथ ली◾ट्रम्प के स्वागत में अहमदाबाद तैयार, छाए भारत-अमेरिकी संबंधों वाले इश्तेहार◾दिल्ली और झारखंड में BJP विधानमंडल दल के नेता का आज होगा ऐलान ◾जाफराबाद में CAA को लेकर हुई पत्थरबाजी के बाद इलाके में तनाव, मेट्रो स्टेशन बंद◾Modi सरकार ने पद्म सम्मान के लिये ‘गुमनाम’ चेहरे खोजे : केंद्रीय मंत्री◾अब कुछ ही घंटो में भारत यात्रा के लिए अहमदाबाद पहुंचेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति Trump , मोदी को बताया दोस्त◾मेलानिया का स्वागत करके खुशी होती, हमने अमेरिकी दूतावास की चिंताओं का किया सम्मान : मनीष सिसोदिया◾Trump की भारत यात्रा से किसी महत्वपूर्ण परिणाम के सकारात्मक संकेत नहीं हैं : कांग्रेस◾US राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत के लिए रवाना, कल सुबह 11.55 बजे पहुंचेंगे अहमदाबाद, जानिए ! पूरा कार्यक्रम◾अमेरिकी दूतावास की सफाई - स्कूल में मेलानिया के साथ CM केजरीवाल की मौजूदगी से कोई आपत्ति नहीं◾ट्रंप की भारत यात्रा को लेकर PM मोदी बोले - अमेरिकी राष्ट्रपति के स्वागत को लेकर हिंदुस्तान उत्सुक◾ट्रम्प की थाली में परोसे जाएंगे गुजराती व्यंजन, सूची में खमण भी शामिल ◾नमस्ते ट्रंप : एयर इंडिया ने जारी की एडवाइजरी - यात्रियों को अहमदाबाद हवाईअड्डा जल्द पहुंचने की जरूरत◾भारत 24वां देश जिसके दौरे पर आ रहे हैं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप◾डिजिटल कंपनियों पर वैश्विक कर व्यवस्था समावेशी हो: सीतारमण ◾प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के लाभार्थियों के खाते में भेजे गए 50850 करोड़ रुपये◾

भाजपा सरकार को ​किसानों को परेशान करना अच्छा लगता है : हुड्डा

चंडीगढ़ : पूर्व मुख्यमन्त्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसे अनावश्यक रूप से लोगों को परेशान करना रूचिकर लगता है। ताजा उदाहरण आढ़तियों को परेशान करना है। जो कई दिनों से ई-ट्रेडिंग प्रणाली के विरोध में धरने पर बैठे हैं। 25 मार्च को आढ़तियों से बातचीत के बाद मुख्य मन्त्री ने उनकी मागों को स्वीकार किया था पर तीन दिन बाद 28 मार्च को ही सरकारी आदेश सहमति के उल्ट जारी कर दिए गए, जिससे आढ़तियों का आक्रोशित होना स्वाभाविक था।

आढ़तियों की हड़ताल-स्वरूप गेहूँ की खरीद प्रभावित हुई है, जिससे किसान सकते में हैं। सरकार को नहीं मालूम कि आढ़तियों का मुद्दा न सुलझने से किसानों को कितनी दिक्कत हो रही है व उसका कितना नुकसान हो रहा है। हुड्डा ने कहा कि मुख्यमन्त्री रो शो बेशक करें पर वो किसानों की परेशानियों को नजरन्दाज न करें। किसान पहले ही सरसों खरीद की शर्तों व गन्ने के बकाया से संकट में थे व अब गेहूँ खरीद में आये अवरोध से उनकी परेशानी और बढ गई है।

सरकार को मामले की गम्भीरता समझते हुए इसे हल करने की पहल करनी चाहिए वर्ना उसे उसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। सरकार पहले भी कहती आई है कि आढ़तियों ने हड़ताल वापिस ले ली है परन्तु अब सरकार अपने निर्णय पर कायम रहे। पहले की तरह पुर्नवृति नहीं होनी चाहिए।

पूर्व मुख्यमन्त्री ने सरकार की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा कि वो केवल हवा में तीर छोड़ना जानती है। धरातल पर क्या हो रहा है या क्या करना है, बिल्कुल नहीं जानती। यह सरकार की अनुभवहीनता है या कोई लाचारी है या उसे लोगों को कष्ट देने में ही आनन्द आता है, यह वही जाने।

(आहूजा)