BREAKING NEWS

दिल्ली उच्च न्यायालय ने कालकाजी मंदिर से अतिक्रमण व अनधिकृत कब्जा हटाने का आदेश दिया◾योगी सरकार के नए मंत्रियों के विभागों का हुआ बंटवारा, जितिन को मिली प्राविधिक शिक्षा की जिम्मेदारी◾उत्तर प्रदेश : मुख्यमंत्री ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग◾DRDO को मिली सफलता ‘आकाश प्राइम’ मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾BSP के राष्ट्रीय महासचिव कुशवाहा ने की अखिलेश से मुलाकात, UP चुनाव से पहले थाम सकते है SP का दामन◾UNGA की आम चर्चा को संबोधित नहीं करेंगे अफगानिस्तान और म्यामां: संयुक्त राष्ट्र ◾वित्तीय संकट के चलते अभिभावकों का CBSE को लिखा पत्र, तीन लाख छात्रों की फीस माफ करने की मांग ◾भवानीपुर में दिलीप घोष से धक्का-मुक्की पर चुनाव आयोग सख्त, ममता सरकार से रिपोर्ट मांगी ◾भारत बंद के आह्वान को अभूतपूर्व और ऐतिहासिक प्रतिक्रिया मिली : संयुक्त किसान मोर्चा ◾गरीबों को किराया देने की घोषणा पर केजरीवाल सरकार का यू-टर्न, HC में कहा - वादा नहीं किया था ◾खत्म हुआ किसानों का भारत बंद, 10 घंटे बाद खुले दिल्ली-एनसीआर के सभी बॉर्डर ◾महंत नरेंद्र गिरि मौत मामला : 7 दिन की सीबीआई रिमांड में भेजे गए आनंद गिरी व दो अन्य ◾महिलाओं के बाद अब पुरुषों के लिए तालिबान का फरमान- दाढ़ी बनाना और ट्रिम करना गुनाह, लगाई रोक ◾नए संसद भवन का दौरा करने पर कांग्रेस ने मोदी को घेरा, कहा- काश! PM कोरोना की दूसरी लहर के दौरान किसी अस्पताल जाते ◾भवानीपुर उपचुनाव प्रचार के आखिरी दिन लहराईं बंदूकें, BJP का आरोप- TMC ने दिलीप घोष पर किया हमला ◾किसानों के 'भारत बंद' को लेकर देश में दिखी मिलीजुली प्रतिक्रिया, जानिए किन हिस्सों में जनजीवन हुआ बाधित ◾CM बिप्लब देब का विवादित बयान, बोले- अदालत की अवमानना से न डरें अधिकारी, पुलिस मेरे नियंत्रण में है◾पाकिस्तान: ग्वादर में जिन्ना की प्रतिमा को बम से उड़ाया, बलोच ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾भारत बंद के दौरान सिंघू बॉर्डर पर किसान की हुई मौत, पुलिस ने हार्ट अटैक को बताई वजह ◾टिकैत ने सरकार पर लगाया धोखाधड़ी का आरोप, कहा- किसानों की बात सुनने के लिए मजबूर करेगा भारत बंद◾

करनाल : महापंचायत स्थल पर तोड़फोड़ करने की घटना में बीकेयू के चढूनी समेत कई के खिलाफ मामला दर्ज

हरियाणा पुलिस ने सोमवार ने बीकेयू (चढूनी) के नेता गुरनाम सिंह चढूनी तथा कई अन्य प्रदर्शनकारियों पर दंगे करने तथा सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का मामला दर्ज किया। हरियाणा के करनाल जिले के कैमला गांव में प्रदर्शनकारी किसानों ने ‘किसान महापंचायत’ कार्यक्रम स्थल पर रविवार को तोड़फोड़ की थी जहां मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर लोगों को संबोधित करते हुए केंद्र के तीन कृषि कानूनों के ‘‘लाभ’’ बताने वाले थे। 

करनाल के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि 71 लोगों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज किया गया है जिनमें गुरनाम सिंह चढूनी भी शामिल हैं। इसके अलावा 800-900 अज्ञात लोगों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है। पुलिस की ओर से बताया गया कि इन लोगों के खिलाफ दंगा करने, सरकारी कर्मचारी पर हमला करने, सरकारी संपत्ति को नुक्सान पहुंचाने, आपराधिक साजिश रचने तथा अन्य आरोपों में मामला दर्ज किया गया है। 

पुलिस ने कहा कि वे वीडियो क्लिप समेत अन्य सबूत इकट्ठे कर रहे हैं और घटना में लिप्त पाए गए लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। हालांकि अभी तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया है। गौरतलब है कि कैमला गांव में प्रदर्शनकारी किसानों ने ‘किसान महापंचायत’ कार्यक्रम स्थल पर रविवार को तोड़फोड़ की, जहां खट्टर लोगों को संबोधित करने वाले थे। 

CM खट्टर के बयान पर BKU प्रमुख ने दी प्रतिक्रिया, कहा- किसान विरोधी रैलियों का हमेशा करेंगे विरोध

हरियाणा पुलिस ने किसानों को कैमला गांव की ओर मार्च करने से रोकने के लिए पानी की बौछारें कीं और आंसू गैस के गोले छोड़े थे। खट्टर ने आरोप लगाया कि गुरनाम सिंह चढूनी ने कार्यक्रम स्थल पर तोड़फोड़ करने के लिए लोगों को उकसाया। 

हालांकि पुलिस द्वारा किये गए सुरक्षा इंतजामों के बावजूद प्रदर्शनकारी किसान कार्यक्रम स्थल तक पहुंच गए और उस अस्थायी हेलीपैड को क्षतिग्रस्त कर दिया जहां खट्टर का हेलीकॉप्टर उतरना था। बाद में प्रदर्शनकारी किसानों ने हेलीपैड को अपने नियंत्रण में ले लिया और वहां बैठ गए। कुछ प्रदर्शनकारियों ने हेलीपैड की टाइल भी उखाड़ दी। 

किसानों ने मंच को क्षतिग्रस्त करके, कुर्सियां, मेज और गमले तोड़कर ‘किसान महापंचायत’ कार्यक्रम को बाधित किया। इस दौरान पथराव भी किया गया। भारतीय किसान यूनियन (चरूनी) के बैनर तले किसानों ने पहले किसान महापंचायत का विरोध करने की घोषणा की थी। 

बीच, हरियाणा बीकेयू प्रमुख गुरनाम सिंह चढूनी का एक कथित वीडियो सोशल मीडिया पर प्रसारित हुआ जिसमें वह मुख्यमंत्री को महापंचायत को संबोधित नहीं करने देकर उनके अहंकार को समाप्त करने की अपील करते दिखे। उल्लेखनीय है कि छह जनवरी को बीकेयू (चढूनी) ने चेतावनी दी थी कि वे किसान महापंचायत कार्यक्रम का विरोध करेंगे।