BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

कुंडू के आरोपों की हो सीबीआई जांच : हुड्डा

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा कि महम के विधायक द्वारा पूर्व सहकारिता मंत्री पर जो आरोप लगाए है, उनको लेकर सीबीआई या निष्पक्ष जांच एजेंसी से जांच करवाई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि शंका उठी है तो जांच भी जरूरी है। पूर्व सीएम ने कहा कि आरोप गंभीर है और जांच होनी भी चाहिए। साथ ही उन्होंने जाट आरक्षण हिंसा को लेकर कहा कि उन पर झूठे आरोप लगाए जा रहे है, आखिर सरकार ने प्रकाश सिंह समिति की रिपोर्ट को क्यो नहीं माना और उसे अभी तक सार्वजनिक क्यो नहीं किया, अगर उनके ऊपर कोई आरोप था तो सरकार ने एफआईआर दर्ज क्यो नहीं करवाई। 

दो महीने गठबंधन सरकार के कार्यकाल को लेकर भी पूर्व सीएम ने कहा कि पूत के पांव तो पालने में ही दिखने लग जाते है, दो महीने से अधिक का समय बीत गया, लेकिन गठबंधन सरकार का मिनिमम कार्यक्रम तक नहीं आया है, आखिर समझ में नही आ रहा है कि सरकार जनहित में कब काम शुरू करेगी। साथ ही पूर्व सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने भी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि लूट झूठ व ठगी के मिनिमम कार्यक्रम पर यह गठबंधन सरकार बनी है। आज सरकार के लोग ही भ्रष्टाचार का खुलासा कर रहे है, जिनकी जांच होनी जरूरी है। 

रविवार को प्रतिपक्ष नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा, पूर्व सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने सांपला में मेरा बूथ सबसे मजबूत के तहत कार्यकत्र्ताओं की बैठक के बाद पत्रकारो से बातचीत कर रहे थे। पूर्व सीएम हुड्डा ने कहा कि सरकार का गठन हुए करीब तीन माह होने वाले है, लेकिन जनहित में सरकार ने अभी कोई कार्य शुरू नहीं किया है। महम के विधायक बलराज कुंडू द्वारा लगाए गए आरोपो को लेकर भी पूर्व सीएम ने प्रतिक्रिया दी और कहा कि आरोपो को लेकर निष्पक्ष जांच होनी चाहिए, ताकि सच्चाई सामने आ सके।

जांच जरूरी है : दीपेन्द्र

कार्यक्रम में बोलते हुए पूर्व सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि जनभावनाओ के विपरित गठबंधन सरकार बनी है, महज 50 रूपये पैंशन के बढाए गए है, जोकि बुजुर्गो का अपमान है, अगर प्रदेश में कांग्रेस सरकार होती तो बुजुर्गो को 51 सौ रूपये की तीसरी किश्त भत्ते के रूप में मिल रही होती, लेकिन गठबंधन सरकार ने कॉमन मिनिमन प्रोग्राम का भी इंतजार नहीं किया। 

उन्होंने कहा कि किसान संकट व अर्थव्यवस्था चौपट से ध्यान भटकाने के लिए नागरिकता कानून बिल लाया गया है, जिसका पूरे देश में विरोध हो रहा है। पूर्व सांसद ने कहा कि कांग्रेस मजबूत विपक्ष की स्थिति में है और पूरे प्रदेश का दौरा कर जनहित के मुद्दे उठाए जाएंगे और जनहित कार्यो के लिए सरकार को मजबूर कर देगे। 

पूर्व सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने भी महम के विधायक द्वारा लगाए गए आरोपो को लेकर कहा कि जांच जरूरी है, ताकि प्रदेश की जनता को सच्चाई का पता चल सके। इस अवसर पर राजकुमार भारद्वाज, उमेश देवी, चक्रवर्ती शर्मा, जयदीप धनखड़, राकेश सरपंच, बिजेन्द्र सांपला, पंडित रामनिवास प्रमुख रूप से मौजूद रहे।