BREAKING NEWS

राज्यों की जीएसटी क्षतिपूर्ति के वादे को पूरा करेगा केन्द्र, समयसीमा नहीं बताई - सीतारमण◾ठाकरे ने गृह शिवसेना, वित्त राकांपा और राजस्व कांग्रेस को दिया ◾फिर बढ़े प्याज के दाम, सरकार ने किए 12660 टन आयात के नए सौदे◾असम के हथकरघा मंत्री के आवास पर हमला, तेजपुर, ढेकियाजुली में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू◾जब लोकसभा में मुलायम सिंह ने पूछा ... ‘‘सत्ता पक्ष कहां है''◾केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक को लोकसभा की मंजूरी, निशंक ने सभी भारतीय भाषाओं को सशक्त बनाने पर दिया जोर ◾भारत और अमेरिका के बीच ‘टू प्लस टू’ वार्ता 18 दिसम्बर को वाशिंगटन में होगी : विदेश मंत्रालय◾TOP 20 NEWS 12 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की सभी पुनर्विचार याचिकाएं◾महाराष्ट्र में BJP की कोर समिति की सदस्य नहीं, बावजूद पार्टी नहीं छोड़ूंगी : पंकजा मुंडे◾झारखंड में महागठबंधन की सरकार बनते ही किसानों का ऋण किया जाएगा माफ : राहुल गांधी ◾CAB :बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने भारत दौरा किया रद्द ◾झारखंड विधानसभा चुनाव: तीसरे चरण में 17 सीटों पर वोटिंग जारी, दोपहर 1 बजे तक 45.14 प्रतिशत मतदान◾झारखंड : धनबाद में रैली को संबोधित करते हुए बोले PM मोदी-कांग्रेस में सोच और संकल्प की कमी◾असम के लोगों से PM की अपील, कांग्रेस बोली- मोदी जी, वहां इंटरनेट सेवा बंद है◾केंद्र सरकार महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर संविधान की आत्मा छलनी करने वाला बिल लाई : प्रियंका ◾पाकिस्तान की ओर से हो रहे घुसपैठ की कोशिशों को नजरअंदाज कर रही है सरकार: शिवसेना ◾हैदराबाद एनकाउंटर मामले में SC ने 3 सदस्यीय जांच आयोग का किया गठन◾आईयूएमएल ने नागरिकता संशोधन विधेयक को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती ◾असम के लोगों से PM मोदी की अपील, बोले- कोई नहीं छीन सकता आपके अधिकार◾

हरियाणा

हरियाणा : विधानसभा चुनाव से पहले इनेलो को बड़ा झटका, अशोक अरोड़ा ने पार्टी से दिया इस्तीफा

 ashok arora

हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) को तगड़ा झटका देते हुए पार्टी के उपाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने अपने समर्थकों के साथ संगठन की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया है। अरोड़ा का राजनीतिक करियर 35 वर्षों का है और वह 20 साल से अधिक समय तक इनेलो की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष रहे। ‘पंजाबी धर्मशाला’ में यहां समर्थकों और सहयोगियों के साथ बैठक के बाद उन्होंने पार्टी छोड़ने की घोषणा की। 

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अरोड़ा ने कहा कि वह भारी दिल से पार्टी छोड़ रहे हैं क्योंकि पार्टी के संरक्षक ओम प्रकाश चौटाला ने उन्हें अपने बेटों की तरह प्यार और सम्मान दिया । उन्होंने बताया कि राजनीतिक परिस्थितियों ने उन्हें यह निर्णय करने पर मजबूर किया है। 

भारत ने चीन-पाकिस्तान का साझा बयान खारिज किया, कहा- कश्मीर हमारा अभिन्न हिस्सा

उन्होंने यह भी कहा, ‘‘मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की बहुत अधिक भूमिका नहीं है, इसलिए राष्ट्रीय पार्टी में जाना समय की जरूरत है ।’’ अरोड़ा ने कहा कि वह चौटाला से मिल कर पार्टी छोड़ने के लिए उनसे क्षमा याचना करेंगे और अपने भविष्य के राजनीतिक करियर के लिए उनसे आशीर्वाद लेंगे । ऐसी खबरें हैं कि अरोड़ा कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। हालांकि, जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सभी पहलुओं का मूल्यांकन करने के बाद ही वह निर्णय करेंगे। 

उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस पार्टी से दिया इस्तीफा, उत्तरी मुंबई सीट से लड़ा था लोकसभा चुनाव

उन्होंने कहा कि वह उन नेताओं की तरह नहीं हैं जो पहले चौटाला और फिर कुलदीप बिश्नोई और भूपेंद्र सिंह हुड्डा जैसे कांग्रेस नेताओं के साथ बने रहे और अंतत: भाजपा में शामिल हो गए । राजनीतिक जानकारों के अनुसार अगर अरोड़ा भाजपा के अलावा किसी भी पार्टी में शामिल होते हैं, तो यह न केवल कुरुक्षेत्र जिले के विधानसभा क्षेत्रों के परिणाम को प्रभावित करेगा, बल्कि राज्य के कई विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में भी इसका असर दिखेगा क्योंकि उन्हें पंजाबी समुदाय का एक कद्दावर नेता माना जाता है।