BREAKING NEWS

देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 86,508 नए मामले दर्ज, संक्रमितों का आंकड़ा 57 लाख से अधिक◾ड्रग्स केस : बॉलीवुड की ड्रग्स मंडली का होगा खुलासा, सिमोन खंबाटा से NCB की पूछताछ जारी◾भारत और चीन तनाव के बीच आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 43 पुलों का करेंगे उद्घाटन◾वैश्विक स्तर पर कोरोना संक्रमितों की संख्या 3 करोड़ 17 लाख से अधिक, 9 लाख 75 हजार से अधिक लोगों की मौत◾ ONGC प्लांट में लगी भयंकर आग, दमकल विभाग मौके पर ◾आज का राशिफल (24 सितम्बर 2020)◾भारत ने किया स्वदेशी पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण◾म्यांमार के राजदूत ने की विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला से मुलाकात◾KKR vs MI (IPL 2020) : रोहित की धमाकेदार पारी, मुंबई इंडियन्स ने कोलकाता नाइटराइडर्स को 49 रन से हराया◾कोरोना वायरस संक्रमण से रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगडी का निधन, PM मोदी ने दुख व्यक्त किया◾कोविड-19 के खिलाफ ‘मेरा परिवार- मेरी जिम्मेदारी’ अभियान शुरू किया गया - उद्धव ठाकरे◾KKR vs MI IPL 2020: मुंबई ने कोलकाता को दिया 196 रनों का टारगेट◾महाराष्ट्र में कोरोना के 21 हजार से अधिक नए केस, 479 और लोगों की मौत◾कोरोना प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बोले PM मोदी- 7 दिन तक 1 घंटा लोगों से सीधे करें बात◾ड्रग केस में बड़ी कार्यवाही : NCB ने दीपिका, सारा , श्रद्धा कपूर और रकुल प्रीत सिंह को भेजा समन◾दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की तबीयत बिगड़ी, LNJP हॉस्पिटल में भर्ती◾राहुल गांधी का तीखा वार : मप्र में कांग्रेस ने किसानों का कर्ज माफ किया, भाजपा ने झूठे वादे किए◾कृषि बिल पर विरोध : दिल्ली की ओर कूच कर रहे युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोका, कई हिरासत में◾धोनी पर बरसे गंभीर , कहा - सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करना मोर्चे से अगुवाई नहीं◾DRDO ने टैंक रोधी मिसाइल का किया सफल परीक्षण, रक्षा मंत्री ने दी बधाई ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

हरियाणा : कुमारी शैलजा ने केंद्र पर लगाया किसानों को बर्बाद करने का आरोप

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने केंद्र सरकार पर खेती में निजी क्षेत्र को बढ़वा देने का आरोप लगाया है। उन्होंने हाल में ही केंद्र द्वारा जारी किए गए तीन अध्यादेशों को किसानों को बर्बाद करने वाला बताते हुए कहा कि किसानों की फसल मंडी में ओने पौने दामों पर बिकेंगी, जिससे किसानों को भारी नुकसान होगा।

शैलजा ने आज वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार हाल ही में तीन नए अध्यादेश लेकर आई है जिससे किसान अपनी फसल बेचने के लिए कथित तौर पर चुनिंदा पूंजीपतियों पर निर्भर होंगे। उन्होंने सरकार पर खेती में निजी क्षेत्र को बढ़वा देने का आरोप लगाया। 

उन्होंने कहा कि पहले हर व्यापारी केवल मंडी से ही फसल खरीद सकता था लेकिन अब नए अध्यादेश के मुताबिक उसे मंडी के बाहर से फसल खरीदने की छूट मिल जाएगी। उन्होंने दावा किया कि इससे मंडी में होने वाली प्रतिस्पर्धा और फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य दोनों समाप्त हो जाएंगे तथा मंडियां खत्म हो जाएंगी। वहीं किसानों की फसल मंडी में ओने पौने दामों पर बिकेंगी, जिससे किसानों को भारी नुकसान होगा।

कांग्रेस नेता ने कहा कि दूसरे अध्यादेश ‘आवश्यक वस्तु अधिनियम संसोधन’ के तहत अनाज, दालों, प्याज, आलू इत्यादि को जरूरी वस्तु अधिनियम से बाहर कर दिया गया है, इनकी स्टॉक सीमा समाप्त कर दी गई है। इससे अत्यधिक स्टॉक कर इन चीजों की कालाबाजारी होगी और महंगे दामों पर इन्हें बेचा जाएगा। वहीं तीसरे अध्यादेश में अनुबंध फार्मिंग के माध्यम से किसानों का वजूद समाप्त करने की साजिश रची गई है। 

इस कानून के माध्यम से अनुबंध आधारित खेती को वैधानिकता प्रदान की गई है, ताकि बड़ी पूंजीपति और कम्पनियां अनुबंध के माध्यम से ठेका आधारित खेती कर सकें। किसान खेतीबाड़ी के लिए इनसे बंध जाएगा, जिससे किसानों का वजूद समाप्त हो जाएगा। किसानों को पूंजीपति और कम्पनियों की जरूरत के हिसाब से ही फसलों का उत्पादन करना पड़ेगा। 

फसलों के दाम, किसान से कब फसल खरीदी जाएगी, कब भुगतान किया जाएगा, सब कुछ उस पूंजीपति या कम्पनी के हाथ में होगा और किसान अपनी ही जमीन पर मजदूर बनकर रह जाएंगे। कुमारी शैलजा के अनुसार डीजल के दाम असमान छू रहे हैं और अब सरकार के ये अध्यादेश किसानों को कथित तौर पर बर्बादी के कगार पर ले जाएंगे। 

उन्होंने हरियाणा में फसल बीमा महंगा होने पर प्रदेश सरकार को घेरते हुए कहा कि अब फसल बीमा योजना के तहत बीमा कराना भी महंगा हो गया है। कपास का प्रीमियम तो लगभग ढाई गुना तक बढ़ दिया गया है। पहले जहां कपास के लिए प्रीमियम राशि प्रति एकड़ पर 620 रुपए थी, वहीं अब यह बढ़कर 1650 रुपए कर दी गई है। इस तरह धान पर भी बीमा राशि 630 रुपए प्रति एकड़ थी जो बढ़कर 680 रुपए प्रति एकड़ कर दी गई है। 

इसी तरह अन्य फसलों की प्रीमियम राशि भी बढ़ाई गई है। उन्होंने दावा किया कि ऐसा फसल बीमा योजना में हरियाणा सरकार द्वारा दी जाने वाली अपने हिस्से की सब्सिडी को वापस लेने के कारण हुआ है। उन्होंने दावा किया कि नए अध्यादेश अध्यादेश पूरी तरह से किसानों के लिए घाटे का सौदा हैं। उन्होंने इन्हें तथा बीमा प्रीमियम वृद्धि तुरंत वापिस लेने की मांग की।