बेंगलुरु के समीप मंगलवार को भारतीय वायु सेना की करतब टीम सूर्यकिरण के दो विमानों की टक्कर में जान गंवाने वाले पायलट विंग कमांडर साहिल गांधी के हरियाणा के हिसार में पुलिस लाइन्स इलाके में स्थित घर पर मातम पसरा हुआ है। साहिल का परिवार और उनके परिचित उनके शव के घर पहुंचने का नम आंखों से इंतजार कर रहे हैं। साहिल के पिता मदन मोहन गांधी सेवानिवृत अधिकारी हैं।

उनकी मां सुदेश गांधी हाल ही में हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के गृह विज्ञान महाविद्यालय में विभाग प्रमुख के पद से सेवानिवृत हुई हैं। दिवंगत पायलट साहिल के परिवार के सदस्यों ने बताया कि साहिल ने हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के एक स्कूल से शिक्षा प्राप्त की थी और वह 2004 में वायुसेना में शामिल हुए थे।

sahil gandhi

बेंगलुरु में एयर शो के दौरान हादसा, आपस में टकराए दो सूर्यकिरण एयरक्राफ्ट

साहिल गांधी के परिवार में उनकी पत्नी हिमानी और पांच वर्षीय बेटा रयान है। हिमानी सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं और अमेरिका में काम करती हैं। वह आज रात तक हिसार पहुंच सकती हैं। साहिल के बड़े भाई नितिन इंजीनियर हैं और स्वीडन में एक कंपनी में काम करते हैं। साहिल के निधन की खबर मिलने के बाद स्थानीय विधायक डॉ कमल गुप्ता ने उनके घर पहुंच शोक व्यक्त किया।

गौरतलब है कि मंगलवार को बेंगलुरु के नजदीक वायुसेना की करतब टीम सूर्य किरण के दो विमान आपस में टकरा कर दुर्घटनाग्रस्त हो गए थे। हादसे में साहिल की मौत हो गई और दो अन्य पायलट घायल हो गए थे। यह विमान एयरो इंडियो शो में हिस्सा लेने से पहले अभ्यास कर रहे थे।