BREAKING NEWS

देश में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, 24 घंटे में 4 लाख 12 हजार नए केस, करीब 4 हजार लोगों की मौत ◾कृषि कानून रद्द करवाने पर अड़े अन्नदाता, किसान संगठनों का फैसला, 8 मई को करेंगे लॉकडाउन का विरोध◾शोपियां सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ के दौरान 3 आतंकवादियों को मार गिराया, एक ने किया आत्मसमर्पण◾आज का राशिफल ( 06 मई 2021)◾चार देशों से 11 ऑक्सीजन कंटेनर, 350 ऑक्सीजन सिलेंडर ला रही है वायुसेना ◾भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने दिया विवादित बयान, ममता बनर्जी को बताया ताड़का ◾जयशंकर डिजिटल तरीके से जी7 की बैठक में शामिल, कहा-कोविड के खिलाफ जंग में भूमिका निभाएगा भारत ◾महाराष्ट्र में संक्रमण से 920 मरीजों की मौत, 57640 नए केस ◾संक्रमण के मामलों में आ रही है गिरावट पर बोले चिदंबरम- कोरोना की जांच की संख्या हुई कम◾कोरोना संकट : भारतीय नौसेना ने विदेशों से ऑक्सीजन और चिकित्सा आपूर्ति लाने के लिए नौ युद्धपोत तैनात किए◾कोरोना के मामलों में गिरावट के बावजूद लापरवाही न करें, हम तीसरी लहर के लिये कर रहे है तैयारी : CM ठाकरे◾तमिलनाडु : राज्यपाल पुरोहित ने डीएमके अध्यक्ष एमके स्टालिन को मुख्यमंत्री के रूप में किया नियुक्त◾दिल्ली में कब तक जारी रहे लॉकडाउन, CM केजरीवाल बोले - जनता खुद देख रही है कि मुसीबत कितनी बड़ी है◾गृह मंत्रालय ने ममता सरकार से हिंसा पर मांगी रिपोर्ट, कहा - नहीं भेजने पर गंभीरता से लिया जाएगा एक्शन ◾बंगाल में एक लाख लोगों ने हिंसा के डर से छोड़ा घर, खून से सने है ममता बनर्जी के हाथ : जे पी नड्डा ◾कोविड-19 : उत्तर प्रदेश में 24 घंटों में संक्रमण के 31,165 नए मामले सामने आए, 357 संक्रमितो की मौत ◾कोविड-19 मरीजों का अब होगा एंटीबॉडी कॉकटेल से इलाज, भारत में इस्तेमाल के लिए मिली मंजूरी◾SC ने मुंबई के ऑक्सीजन प्रबंधन की तारीफ करते हुए केंद्र और दिल्ली सरकार से कहा - BMC से लें सीख ◾कोरोना संकटकाल में कोई भी गरीब बिना राशन के नहीं रहेगा : CM शिवराज◾केरल में कोरोना के 41 हजार से अधिक नए मामले की पुष्टि, संक्रमण से 58 की मौत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कृषि कानूनों को रद्द नहीं किया गया तो सरकार का सत्ता में रहना मुश्किल हो जाएगा : राकेश टिकैत

किसान नेता राकेश टिकैत ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के एक बयान पर सोमवार को हरियाणा के सोनीपत जिले में पलटवार करते हुए कहा कि जब लोग जमा होते हैं तो सरकारें बदल जाती हैं। तोमर ने कहा था कि सिर्फ भीड़ के जमा होने से कानून रद्द नहीं होंगे।

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) नेता टिकैत ने चेताया कि अगर तीन नए कृषि कानूनों को रद्द नहीं किया गया तो सरकार का सत्ता में रहना मुश्किल हो जाएगा। वह इस महीने हरियाणा में किसान महापंचायत कर रहे हैं। सोनीपत जिले के खरखौदा की अनाज मंडी में किसान महापंचायत में टिकैत ने कहा कि जब तक कृषि कानूनों को वापस नहीं लिया जाता तब तक किसान किसान आंदोलन जारी रहेगा।

केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर ने रविवार को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में कहा था कि केंद्र सरकार नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों से बात करने को तैयार है लेकिन महज़ भीड़ जमा हो जाने से कानून रद्द नहीं होंगे।

उन्होंने किसान संघों से सरकारों को यह बताने का आग्रह किया कि इन नए कानूनों में कौनसा प्रावधान उन्हें किसान विरोधी लगता है। इस पर पलटवार करते हुए टिकैत ने महापंचायत में कहा,  राजनेता कह रहे हैं कि भीड़ जुटाने से कृषि कानून वापस नहीं हो सकते। जबकि उन्हें मालूम होना चाहिए कि भीड़ तो सत्ता परिवर्तन की सामर्थ्य रखती है। यह अलग बात है कि किसानों ने अभी सिर्फ कृषि कानून वापस लेने की बात की है, सत्ता वापस लेने की नहीं।

दिल्ली की अलग अलग सीमाओं पर बीते साल 28 नवंबर से किसान तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इनमें अधिकतर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसान हैं। टिकैत ने कहा, उन्हें (सरकार को) मालूम होना चाहिए कि अगर किसान अपनी उपज नष्ट कर सकता है तो आप उनके सामने कुछ नहीं हो।

उन्होंने कहा, कई सवाल हैं। सिर्फ कृषि कानून नहीं है, लेकिन बिजली (संशोधन) विधेयक है, बीज विधेयक है.... वे किस तरह के कानून लाना चाहते हैं? टिकैत ने पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमतों के लिए सरकार की आलोचना भी की। किसान नेता ने कहा, मौजूदा आंदोलन सिर्फ उस किसान का नहीं है, जो फसल उगाता है, बल्कि उसका भी है, जो राशन खरीदता है। उस छोटे से छोटे किसान का भी है, जो दो पशुओं से आजीविका चलाता है। उन मजदूरों का भी है ,जो साप्ताहिक बाजार से होने वाली आय से अपना गुजारा करते हैं।

उन्होंने कहा, ये कानून गरीब को तबाह कर देंगे। यह सिर्फ एक कानून नहीं है, इस तरह के कई कानून आएंगे। टिकैत ने कहा कि सरकार को 40 सदस्यीय समिति से ही बातचीत करनी होगी। सरकार और प्रदर्शनकारी संघों के बीच 11 दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन समाधान नहीं निकल सका।

दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे आंदोलन की अगुवाई संयुक्त किसान मोर्चा कर रहा है जिसमें किसानों के 40 संघ शामिल हैं। टिकैत ने कहा, अब किसान सभी मोर्चों पर डटेंगे। वे खेती भी करेंगे, कृषि नीतियों पर भी निगाह रखेंगे और आंदोलन भी करेंगे। न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए कानून की मांग करते हुए, उन्होंने कहा, जब एमएसपी पर कानून बनेगा तब किसानों का संरक्षण होगा। यह आंदोलन उसके लिए है। यह किसानों के अधिकार के लिए है।