BREAKING NEWS

बजट 1 फरवरी को हो सकता है पेश : सूत्र ◾BJP की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग से की राहुल गांधी की शिकायत ◾दिल्ली में अभी चुनाव हुए तो भाजपा को मिलेंगी 42 सीटें◾अवसाद में निर्भया कांड के दोषी, खाना-पीना कम किया : तिहाड़ जेल के सूत्र◾योगी ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से 11 रुपये, पत्थर मांगे ◾सर्जिकल स्ट्राइक की इजाजत देने से पहले पर्रिकर ने कहीं थीं दो बातें : दुआ◾‘रेप इन इंडिया’ टिप्पणी को लेकर भाजपा . कांग्रेस के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर ◾महिलाओं की सुरक्षा को लेकर केजरीवाल बोले - हरसंभव कार्य कर रहा हूँ◾उत्तराखंड में भूकंप के हल्के झटके महसूस किये गये◾केवल भाजपा दे सकती है स्थिर और विकास उन्मुख सरकार : मनोज तिवारी◾अर्थव्यवस्था को गति देने के जब भी जरूरत होगी, कदम उठाये जाएंगे : वित्त मंत्री◾अमित शाह, निर्मला सीतारमण अगले सप्ताह भारत आर्थिक सम्मेलन में अपने विचार रखेंगे◾भाजपा की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग से राहूल गांधी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की ◾CAB-NRC कभी नहीं लागू करूंगी : ममता◾‘रेप इन इंडिया’ टिप्पणी पर राहुल का माफी से इनकार, मोदी का वीडियो ट्वीट कर किया पलटवार◾पाकिस्तानी सेना ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी में की गोलीबारी, दो जवान घायल◾मालदीव की अवामी-मजलिस के स्पीकर मोहम्मद नशीद ने PM मोदी से की मुलाकात◾यूएई से आए विमान में बम रखे होने की कॉल, दिल्ली पुलिस ने मांगी फोन करने वाले की जानकारी ◾पूर्वोत्तर में हिंसक प्रदर्शन के कारण जापान के प्रधानमंत्री का भारत दौरा रद्द ◾TOP 20 NEWS 13 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾

हरियाणा

इस्तीफा न देते तो हो सकती थी पार्टी से छुट्टी

 sonia and tanwar

चंडीगढ़ : हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक तंवर को सोनिया गांधी के आवास के आगे बवाल काटना महंगा पड़ गया। जिसका भुगतान उन्हें पार्टी से इस्तीफा देकर करना पड़ा। तंवर अगर पार्टी से इस्तीफा नहीं देते तो संभ्वत पार्टी उनके विरूद्ध कार्रवाई करने की तैयारी में थी। तंवर ने इस्तीफा देकर खुद को सेफ जोन में पहुंचाने का काम किया है। अशोक तंवर पहले ऐसे अध्यक्ष हैं जिन्होंने सोनिया गांधी के दस जनपथ के आगे हंगामा किया था। 

कांग्रेस में टिकट आबंटन के दौरान अशोक तंवर ने हाईकमान को 40 समर्थकों की सूची देकर उनके लिए टिकटें मांगी थी। टिकट आबंटन में जब हुड्डा की चली तो तंवर बिफर गए। अपने समर्थकों को अपने साथ जोड़े रखने के चलते अशोक तंवर ने पहले तो एक ऑडियो संदेश भेजकर दस जनपथ के आगे एकत्र किया। 

उसके बाद समर्थकों ने जब हुड्डा व गुलाम नबी आजाद के विरूद्ध नारेबाजी की तो तंवर खुद वहां पहुंच गए और हुड्डा व आजाद के विरूद्ध जमकर आग उगली। तंवर की इस हरकत से सोनिया खासी नाराज हुई हैं। तंवर ने अपने समर्थकों को शांत करने की बजाए उन्हें उकसाने का काम किया है। 

सूत्रों की मानें तो सोनिया गांधी अशोक तंवर के विरूद्ध कार्रवाई का मन बना चुकी थी। इस बारे में उन्होंने गुलाम नबी आजाद को निर्देश भी दे दिए लेकिन विधानसभा चुनाव के चलते आजाद ने इस मामले को रोक लिया। दूसरी तरफ अशोक तंवर पर उन कार्यकर्ताओं का दबाव था जिन्हें तंवर ने टिकट दिलवाने का आश्वासन दे रखा था। 

दोनों तरफ से घिरे अशोक तंवर ने खुद को सेफ जोन में पहुंचाने के लिए इस्तीफे की राह चुनी। जिससे हाईकमान को भी उनके विरूद्ध कार्रवाई करने का मौका नहीं मिला और कार्यकर्ताओं के दबाव से भी उन्होंने छुटकारा पा लिया।