BREAKING NEWS

अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण ममलों की संख्या 2 लाख 97 हजार के पार हुई, इटली में 15362 लोगों की मौत ◾कोविड-19: दिल्ली में संक्रमण के मामले बढ़कर हुए 445, उनमें से 301 लोग हुए थे निजामुद्दीन के कार्यक्रम में शामिल ◾लॉकडाउन : शहर में फंसे विदेशियों के लिए ट्रांजिट पास जारी करेगी दिल्ली सरकार◾सरकार ने लोगों को किया आगाह, कहा- रविवार को मोमबत्ती या दीया जलाने से पहले अल्कोहल वाले सैनेटाइजर का ना करें इस्तेमाल ◾ कोरोना वायरस : राष्ट्रपति ट्रम्प ने दी मास्क पहन कर घर से बाहर निकलने की सलाह, खुद नहीं पहनेंगे मास्क ◾PM मोदी ने की उच्चाधिकार प्राप्त समूहों की संयुक्त बैठक की अध्यक्षता◾तिहाड़ जेल कैदियों ने जेल में ही बना डाले 75000 मास्क, सेनेटाइजर◾महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र आव्हाड का दावा : गृह मंत्रालय ने ही दी थी तबलीगी जमात को अनुमति◾कोविड-19 का प्रकोप : दुनियाभर में कोरोना के मामले 11 लाख के पार, 59 हजार से अधिक लोगों की मौत ◾स्वास्थ्य मंत्रालय : देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3,072 तक पहुंची, अब तक 75 लोगों की मौत ◾दिल्ली में 445 लोग COVID-19 से संक्रमित, और बढ़ सकते हैं मामलें : CM केजरीवाल◾तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद ने क्राइम ब्रांच को भेजा जवाब, कहा- अभी सेल्फ क्वारनटीन में हूं, बाकी सवाल बाद में◾स्वास्थ्य मंत्रालय का बयान : देश के कुल कोरोना संक्रमित मामलों में 30 फीसदी तबलीगी जमात के लोग◾राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात ◾कोविड-19 पर सरकार ने जारी किया परामर्श, चेहरे और मुंह के बचाव के लिए घर में बने सुरक्षा कवर का करे प्रयोग◾जानिये क्यों, पीएम की 9 मिनट लाइट बंद करने की अपील के बाद अलर्ट मोड पर है बिजली विभाग की कंपनियां◾तबलीगी जमातियों पर भड़के राज ठाकरे,कहा- ऐसे लोगों को गोली मार देनी चाहिए ◾PM मोदी ने अटल बिहारी बाजपेयी की कविता को शेयर करते हुए कहा- आओ दीया जलाएं◾देश में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, गौतम बुद्ध नगर में वायरस के 5 नए मामले आए सामने ◾PM मोदी की दीया अपील पर महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री ने दी प्रतिक्रिया, कहा- दोबारा सोचने की है जरुरत ◾

मेडिकल कॉलेज में अव्यवस्था का आलम

पिनगवां: मेवात में करोड़ों रुपयों की लागत से बना मेडिकल कालेज आज सफे द हाथी साबित हो रहा है। अगर जल्द ही यहां पर सरकार, मेवात जिला प्रशासन और मेवात के नेताओं ने ध्यान नहीं दिया तो वो दिन दूर नहीं जब ये मेडिकल कालेज बन्द होने के कगार पर होगा। मेवात के इस मेडिकल कालेज में जहां मरीज ठीक होने को आते हैं,वहीं यहां की व्यवस्था और यहां के कर्मचारियों के बुरे बर्ताव के कारण मरीज वापस जाने में ही अपनी भलाई समझते हैं। हालात यह हैं कि अगर कोई मेडिकल कालेज का दौरा करे तो यहां पर भर्ती मरीजों का दुख सुनकर उनका गला भर आता है। वार्डों में भर्ती मरीजों को दवा मांगने पर दवा मिलना तो दूर बल्कि उन्हें वार्डों में ड्यूटी कर रहे वार्ड ब्वाय से अपशब्द और सुनने को मिलते हैं।

इतना ही नहीं अगर मेडिकल कालेज में कोई सीरियश मरीज आता है तो उसे एमरजैंसी में लाने के लिए यहां पर स्टेचर भी उपलब्ध नहीं हैं, हद तो तब हो जाती है जब ऐमरजैंसी में गंभीर हालात में देखने वाले मरीज को भी डॉक्टर घंटो तक देखने नहीं आते। जिससे अब ये मेडिकल कालेज मेवात की जनता के साथ-साथ यहां पर दूर-दराज से आने वाले लोगों के लिए सफे द हाथी साबित होने लगा है। गौरतलब है कि कांग्रेस सरकार ने करोड़ों रुपयों की लागत लगा कर इस मेडिकल कालेज का निर्माण मेवात के शहीद हसन खां मेवाती के नाम से कराया था।

जिसके खुलने से न केवल मेवात की जनता को एक नई उम्मीद जगी थी ,बल्कि यहां पर लाखों रुपये के ईलाज फ्री होने पर लोग दूर-दूर से अपना ईलाज कराने के लिए आने लगे थे। लेकिन जैसे ही प्रदेश में भाजपा सरकार सत्ता में आई तो प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के बने से लोगों को लगा कि इस मेडिकल कालेज के ओर भी अच्छे दिन आऐंगे। लेकिन आज लोग सोचने पर मजबूर हैं कि आखिर जब प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री मेवात में आ सकते हैं तो इस मेडिकल कालेज में क्यों नही आए। जबकि इस मेडिकल कालेज और विवादों का चोली-दामन का साथ रहा है।

एमरजैंसी में नहीं मिलता डाक्टरों का सहयोग,तडफ़ते रहते हैं मरीज: बुधवार को डिलीवरी के बाद जैसे ही एक महिला मरीज हालात गंभीर होने पर यहां पहुंची तो,एमरजैंसी में तो एडमिट कर दिया लेकिन हद तब हो गई जब एक घंटे तक भी तड़पती हुई मरीज को कोई देखने तक नही आया,आखिर घंटो बाद जब परिजन गप्पे मार रहे डाक्टरों से गिड़गिड़ाए तो तब जाकर उन्होंने मरीज को देखने की जहमत उठाई।

स्टाफ व सुरक्षा कर्मी करते हैं मरीजों के साथ अर्भद व्यवहार: मेडिकल कालेज में डाक्टरों के सहयोग के लिए लगाया हुआ स्टाफ व मेडिकल कालेज में लगे सुरक्षा कर्मी मरीजों के साथ काफी अभर्द व्यवहार करते हैं। हद तो तब हो जाती है जब मरीजों को गालियां देकर भी उन्हें बाहर कर दिया जाता है और स्टाफ अन्दर बैठकर गप्पे हाकंता रहता है।

दवा के नाम पर मिलती है सिर्फ एक बुखार और आयरन की टेबलेट: मेडिकल कालेज में मरीजों को दवा के नाम पर सिर्फ एक आयरन और बुखार की दवा दी जाती है। यहां पर दवा देने वाले स्टाफ कर्मी द्वारा सभी मरीजों को बाहर से दवा लेने के लिए टरका दिया जाता है,एक मरीज ने बताया कि मेडिकल कालेज के बाहर खुले मेडिकल स्टोर पर ही अकसर दवा लिखी जाती हैं जिससे उन्हें अन्दर से नाम मात्र ही दवाई दी जाती है।

- आस मोहम्मद