BREAKING NEWS

करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾खामोश हो गई वरिष्ठ पत्रकार अश्वनी कुमार चोपड़ा जी की आवाज, कल होगा अंतिम संस्कार◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾PM मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें ◾भाजपा ने अब तक 8 पूर्वांचलियों पर लगाया दांव◾

संविधान बदलने के इरादे जोर पकड़ रहे हैं

इनेलो नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि 26 नवम्बर को भारतीय संविधान की 70वीं वर्षगांठ पर मैं प्रदेश व देश के तमाम नागरिकों को बधाई देता हूं क्योंकि भारत का संविधान 26 नवम्बर, 1949 को पारित हुआ और 26 जनवरी, 1950 से प्रभावी हुआ। हरियाणा में 70वीं वर्षगांठ को हरियाणा विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर सहर्ष मनाया गया है परंतु किसी कारणवश मैं तो इस सत्र में शामिल नहीं हो सका। 

मीडिया के मार्फत मैं इस शुभ अवसर पर देश व प्रदेशवासियों को शुभ कामनाएं देते हुए संविधान के निर्माता डॉ. भीमराव अम्बेडकर को भी नमन करता हूं। हमारे संविधान की विशेषताएं हैं कि भारत किसी भी विदेशी और आंतरिक शक्ति के नियंत्रण से पूर्णतया मुक्त राष्ट्र है और सामाजिक, आर्थिक समानता को सुनिश्चित करता है। जाति-रंग या धर्म आदि के आधार पर कोई भेदभाव किए बगैर सभी को समान दर्जा देता है। 

इनेलो नेता ने बताया कि 1947 के बाद अनेक देशों ने स्वतंत्र होकर गणतंत्र स्थापित किया परंतु उनमें एकमात्र भारत ही अपने संविधान के कारण सबसे सफलतम प्रजातंत्र और गणतंत्र देश बन सका। संविधान के 42वें और 86वें संविधान संशोधन के द्वारा हर नागरिक के मौलिक अधिकार व मूल कर्तव्यों का भी विवरण है। संविधान अनेक संस्थाओं के पहियों के आधार पर चलता है परंतु आज डर है कि इनमें से कुछ पहियों को जंग लगता जा रहा है और वे चरमरा रहे हैं। 

संविधान में अनेक प्रकार की स्वतंत्रताएं दी गई हैं जैसे प्रमुख स्वतंत्रताओं में बोलने, सोचने और धर्म आदि की स्वतंत्रता शामिल है। परंतु यह अधिकार सत्ताधारियों के निरंकुश होने के कारण खतरे में पड़ता जा रहा है। विरोध और प्रतिरोध प्रजातंत्र का अभिन्न अंग है जिसका लम्बे समय तक सत्ताधारियों ने निरंतर प्रयोग किया है परंतु आज यह अधिकार खतरे में है। इनेलो नेता ने बताया कि सत्तापक्ष के कैबिनेट के एक मंत्री के बयान से आभास होता है कि केंद्र में बहुमत की सरकार आने के बाद संविधान बदलने के इरादे जोर पकड़ रहे हैं।