BREAKING NEWS

खून की नदियां' जैसे बयान से किसे चुनौती दे रहा विपक्ष : अमित शाह◾Top 20 News 22-May : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत ने किया रिसैट-2बी का प्रक्षेपण, घने बादलों के बावजूद भी ले सकेगा पृथ्वी की तस्वीरें◾न्यायालय ने बैरकपुर सीट से भाजपा प्रत्याशी को 28 तक गिरफ्तारी से संरक्षण प्रदान किया◾विपक्ष हारा हुआ है, वीवीपैट मुद्दे पर हताशा उनकी हार का संकेत : पासवान◾हेलीकॉप्टर घोटाला : ईडी ने कथित रक्षा एजेंट के खिलाफ पूरक आरोप-पत्र किया दायर◾वीवीपैट पर्चियों की गिनती की मांग किस आधार पर खारिज की गई : कांग्रेस◾नये सांसदों को आते ही मिलेगा स्थायी पहचान पत्र◾लोकसभा चुनाव 2019 : प्रज्ञा ठाकुर, आजम खान और मुनमुन सेन जैसे नेता अपने बयानों से सुर्खियों में छाये रहे◾VVPAT मिलान की प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं होगा : चुनाव आयोग◾लोकसभा चुनाव में 724 महिला उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला कल !◾एग्जिट पोल शेयर बाजार में तेजी लाने और विपक्षी दलों की एकता तोड़ने के लिए : मोइली◾ईवीएम को लेकर उदित राज का विवादास्पद बयान, बोले- क्या सुप्रीम कोर्ट भी धांधली में शामिल है◾परिवार का रंग नहीं जमने पर विपक्ष साध रहा EVM पर निशाना : नकवी◾राहुल ने कार्यकर्ताओं से कहा- फर्जी एग्जिट पोल से निराश न हों, रहें सतर्क◾लोकसभा चुनाव : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने की 150 सभाएं और रोड शो◾PM मोदी पर राहुल ने की थी विवादित टिप्‍पणी, FIR दर्ज हो या नहीं, अदालत ने फैसला सुरक्षित रखा◾...तो कांग्रेस और राहुल गांधी के लिए सहज स्थिति हो सकती है सीटों का शतक !◾लोकसभा चुनाव की मतगणना कल, परिणामों में विलंब की संभावना◾भाजपा उम्मीदवार की गिरफ्तारी से बचने संबंधी याचिका पर सुनवाई करने पर सहमत SC◾

जाट समाज एक बार फिर आंदोलन की तैयारी में

हिसार : अन्य पिछड़ा वर्ग में आरक्षण और फरवरी 2016 में जाट आंदोलन के दौरान दर्ज किए गए मामले वापस लेने सहित सात मांगों पर हुये समझौते को अब तक हरियाणा सरकार द्वारा लागू न करने पर जाट समाज एक बार फिर से आंदोलन शुरू करने की तैयारी करने लगा है। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के नेताओं की आज यहां जाट धर्मशाला में एक बैठक हुई जिसमें जाट नेताओं ने सरकार पर समझौते को लागू न करने का आरोप लगाया।

समिति के प्रदेश प्रवक्ता रामभगत मलिक ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि राज्य सरकार समझौता लागू करने की दिशा में कथित तौर पर कुछ कदम नहीं उठा रही है। जाट आंदोलनों के दौरान दर्ज मामले वापस लेने और जेलों में बंद जाट समाज के लोगों की रिहाई की दिशा में भी अब कोई कार्रवाई नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि सरकार के इसी रवैये को देखते हुए जाट समाज अपना आंदोलन पुन: शुरू करने जा रहा है तथा इस संबंध में 23 मई को यहां अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति का जिला सम्मेलन होगा जिसमें एक बार फिर से गांव-गांव में सम्पर्क अभियान चलाने के लिए डयूटियां लगाई जाएंगी।

श्री मलिक के अनुसार जिला सम्मेलन में जाटों की मागों पर एक प्रस्ताव पारित करके जिला उपायुक्त को एक ज्ञापन सौंप कर सरकार से जाटों के साथ किये गये समझौते को जल्द से जल्द लागू करने की मांग उठाई जाएगी अन्यथा बड़ा आंदोलन शुरू करने की तैयारी शुरू की जाएगी। उन्होंने कहा कि आंदोलन की रणनीति तय करने के लिए चार जून को अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति की प्रदेश स्तरीय बैठक बुलाई गई है।

- वार्ता