BREAKING NEWS

योगी सरकार ने दी बड़ी राहतःकोरोना काल में दर्ज 3 लाख मामले होंगे वापस, किसानों को बर्बाद फसल का मिलेगा मुआवजा◾क्रूज ड्रग्स जब्ती मामले में दो आरोपियों को मिली जमानत, NDPS कोर्ट ने किया रिहा ◾लालू के बयान पर भड़के नीतीश, वो चाहें तो गोली मरवा दें और इसके सिवा कुछ नहीं कर सकते◾LAC पर चीन चल रहा नई चाल! PLA ने नए प्रकार का ऑल-टेरेन व्हीकल तैनात कर बढ़ाई भारत की टेंशन?◾भारत का देसी टीका 'कोवैक्सीन' को 24 घंटे के अंदर मिलेगी इजाजत? WHO लेगा महत्वपूर्ण निर्णय◾लखीमपुर खीरी हिंसा केस में दो और आरोपी गिरफ्तार, BJP कार्यकर्ताओं ने ली चैन की सांस◾आर्यन खान को आज भी नहीं मिली जमानत, जानें कोर्ट में क्या हुआ?◾क्या राहुल द्रविड़ बन सकते है भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच ? हेड coach के लिए किया आवेदन◾राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ मंडाविया करेंगे बैठक, वैक्सीन की दूसरी डोज समेत कई मुद्दों पर होगी चर्चा ◾UP चुनाव में एक नई हाई-प्रोफाइल पार्टी की होगी एंट्री, हिंदी भाषी क्षेत्र में धूम मचाने के लिए पूरी तरह तैयार TMC◾कांग्रेस ने नफरत के खिलाफ ‘वैचारिक युद्ध’ का लिया निर्णय, AICC मीटिंग में हुए ये तीन अहम फैसले ◾लालू ने नीतीश को बताया 'सबसे अहंकारी', कांग्रेस के साथ तकरार के लिए 'छुटभैए' नेताओं को ठहराया जिम्मेदार ◾आर्यन का गोसावी के साथ संबंधों से इनकार, NCB ने जमानत का किया विरोध, लगाए ये बड़े इल्जाम ◾योगी का केजरीवाल पर तंज- राम को गाली देने वालों को अब आ रही अयोध्या की याद, पहले संभालिए दिल्ली ◾शिक्षित युवा पाकिस्तान के साथ अपनी पहचान क्यों चुनते हैं? केंद्र पता लगाए: महबूबा मुफ्ती◾अखिलेश यादव ने सरकार पर लगाया आरोप, कहा-भाजपा का 'झूठ का फूल' अब बना 'लूट का फूल' ◾मलिक ने लगाई आरोपों की झड़ी, कहा- सेलिब्रिटीज के फोन टैप करवाते हैं वानखेड़े, चलाते हैं 'वसूली गिरोह'◾नवाब मलिक के दावों को क्रांति वानखेड़े ने बताया गलत, बोलीं-मेरे पति एक ईमानदार अफसर◾पंजाब की सियासत में अमरिंदर खेलेंगे दाव? पूर्व मुख्यमंत्री कल कर सकते हैं नई राजनीतिक पार्टी की घोषणा ◾लखीमपुर हत्याकांड : SC का आदेश- गवाहों को दें सुरक्षा, जांच में तेजी लाए सरकार◾

सरकार के इशारे किसान अंदोलन को हिंसक रूप देना चाहते हैं कुछ लोग : किसान संघर्ष समिति

केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसानों को 50 दिन से ज्यादा का समय हो चुका है। किसानों और सरकार के बीच हुई 9 वार्ताएं बेनतीजा साबित हुईं। हरियाणा किसान संघर्ष समिति के संयोजक मंदीप नाथवान का कहना है कि सरकार के इशारे पर कुछ लोग इस आंदोलन को हिंसक रूप देना चाहते हैं।

नाथवान ने रविवार को एक बयान देते हुए कहा, सरकार के इशारे पर कुछ लोग इस आंदोलन को हिंसक रूप देना चाहते हैं। यह आंदोलन सरकार की नीतियों के खिलाफ है, न कि दिल्ली के खिलाफ। हम संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा तय की गई रणनीति को लागू करना चाहते है और इसे शांतिपूर्वक जारी रखना चाहिए।

उन्होंने कहा, यह कहा जा रहा है कि 26 जनवरी को किसान लाल किले और ट्रैक्टरों पर तिरंगा फहराएंगे और टैंक एक साथ चलेंगे। मोर्चा द्वारा इस तरह के किसी कार्यक्रम को अंतिम रूप नहीं दिया गया है। इस तरह के बयान किसानों के हित में नहीं हैं। गौरतलब है कि 26 नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन जारी है। 

कृषि कानूनों को लेकर किसानों के मन में पैदा हुई आशंकाओं का समाधान तलाशने के लिए किसान यूनियनों के नेताओं के साथ शुक्रवार को करीब पांच घंटे मंथन के बाद भी कोई नतीजा नहीं निकल सका। अब 19 जनवरी को फिर अगले दौर की वार्ता होगी। 

कृषि और संबद्ध क्षेत्र में सुधार लाने के मकसद से केंद्र सरकार ने कोरोना काल में कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) कानून 2020, कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार कानून 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) कानून 2020 लाए। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने बहरहाल इन कानूनों के अमल पर रोक लगा दी है और मसले के समाधान के लिए विशेषज्ञों की एक कमेटी का गठन कर दिया।