BREAKING NEWS

गुजरात में कोरोना के 376 नये मामले सामने आये, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15205 हुई ◾पड़ोसी देश नेपाल की राजनीतिक हालात पर बारीकी से नजर रख रहा है भारत◾कोरोना वायरस : आर्थिक संकट के बीच पंजाब सरकार ने केंद्र से मांगी 51,102 करोड रुपये की राजकोषीय सहायता◾चीन, भारत को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए : चीनी राजदूत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 105 लोगों की गई जान, मरीजों की संख्या 57 हजार के करीब◾उत्तर - मध्य भारत में भयंकर गर्मी का प्रकोप , लगातार दूसरे दिन दिल्ली में पारा 47 डिग्री के पार◾नक्शा विवाद में नेपाल ने अपने कदम पीछे खींचे, भारत के हिस्सों को नक्शे में दिखाने का प्रस्ताव वापस◾भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾कोरोना संकट के बीच CM उद्धव ठाकरे ने बुलाई सहयोगी दलों की बैठक◾राहुल गांधी से बोले एक्सपर्ट- 2021 तक रहेगा कोरोना, आर्थिक गतिविधियों पर लोगों में विश्वास पैदा करने की जरूरत◾देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा डेढ़ लाख के पार, अब तक 4 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾राजस्थान में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 7600 के पार, अब तक 172 लोगों की मौत हुई ◾Covid-19 : राहुल गांधी आज सुबह प्रसिद्ध स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ करेंगे चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मोहन भागवत ने 5 प्रदेशों के लगभग 35 संतों के साथ की मंत्रणा

कुरुक्षेत्र : पांच दिन के प्रवास के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक के सर संघचालक मोहन भागवत कुरुक्षेत्र से वापिस रवाना हो गए। अपने प्रवास के अंतिम दिन मोहन भागवत ने पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर तथा दिल्ली से बुलाए गए लगभग 35 संतों के साथ बैठक की। यह बैठक पूर्ण रूप से गुप्त रखी गई। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार इन संतो मे से कोई भी नामी-घरामी संत नही था। संघ के सूत्रों के अनुसार एक सुनियोजित रणनीति के तहत केवल ऐसे संतों को बैठक में बुलाया गया जो बडे नामी-घरामी संत नही हैं लेकिन उनका जनता से बडा जुडाव है। पता चला है कि संघ प्रमुख संतों के साथ लगभग 4 घंटे तक रहे और जलपान किया। मंत्रणा के डेढ़-डेढ़ घंटे के दो सत्र रखे गए थे, जबकि एक घंटा संघ प्रमुख ने संतों के साथ अनौपचारिक रूप से वार्तालाप की। 

पता चला है कि मोहन भागवत को संतों के बीच हुई इस बैठक में अध्यात्म पर चर्चा की गई। राम जन्म भूमि और जम्मू-कश्मीर पर चर्चा के साथ विशेष नागरिकता संसोधन बिल पर चर्चा हुई। बैठक में संतों की समाज में भूमिका पर भी गहन चर्चा हुए। संघ की सोच है कि पूरे हिंदू समाज को एक झंडे के नीचे इकट्ठा कर ही राष्ट्र को मजबूत किया जा सकता है और इस कार्य में उन्होने संतों से भी सहयोग मांगा। 

उल्लेखनीय है कि आरएसएस के सर संघचालक मोहन भागवत 12 दिसंबर की रात्रि को कुरुक्षेत्र पहुंचे थे। 13 दिसंबर से 17 दिसबर तक मोहन भागवत ने पांच प्रदेशों से आए संघ प्रचारकों, संघ प्रतिनिधियों के साथ मंत्रणा करके हिंदू समाज को संगठित करने और संघ की शाखाओं का विस्तार करने पर बल दिया। पांचों प्रदेशों से आए संत प्रतिनिधियों से उनके प्रदेशों में संघ की गतिविधियों का ब्यौरा प्राप्त किया।

मनोहर लाल ने की संघ प्रमुख से मुलाकात 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी गत रात्रि अचानक कुरुक्षेत्र पहुंचे और अपने सुरक्षाकर्मियों को बाहर छोडकर सर संघचालक के साथ उन्होने लगभग आधे घंटे तक मंत्रणा की। यह बताया जाता है कि दोनो के बीच हुई इस बैठक में कोई तीसरा व्यक्ति मौजूद नही था। 

संघ के पदाधिकारी इसे समान्य शिष्टाचार की भेंट बता रहे हैं लेकिन सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री की ओर से संघ प्रमुख से मिलने की इच्छा व्यक्त की गई थी पिछले दो दिनों से अटकलें लगाई जा रही थी की मनोहर किसी भी समय संघ प्रमुख से मिलने पहुंच सकते हैं। 

सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में संघ प्रमुख ने मनोहर लाल को जनता की आशाओं के अनुरूप चलने की नासीहत दी। बैठक में गत विधानसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन पर भी चर्चा हुई।