BREAKING NEWS

स्मृति ईरानी एवं हेमा मालिनी पर टिप्पणी कों लेकर EC से कांग्रेस की शिकायत◾उप्र विधानसभा चुनाव जीतने के लिए नफरत फैला रही है भाजपा, हो सकता है भारत का विघटन : फारूक अब्दुल्ला◾एनसीबी के सामने पेश हुईं अभिनेत्री अनन्या पांडे, कल सुबह 11 बजे फिर होगा सवालों से सामना ◾सिद्धू का अमरिंदर सिंह पर पलटवार - कैप्टन ने ही तैयार किये है केन्द्र के तीन काले कृषि कानून◾हिमाचल के छितकुल में 13 ट्रैकरों की हुई मौत, अन्य छह लापता◾कांग्रेस का PM से सवाल- जश्न से जख्म नहीं भरेंगे, ये बताएं 70 दिनों में 106 करोड़ टीके कैसे लगेंगे ◾केरल - वरिष्ठ माकपा नेता पर बेटी ने ही लगाया बच्चा छीनने का आरोप, मामला दर्ज ◾‘विस्तारवादी’ पड़ोसी को सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब, संप्रभुता से कभी समझौता नहीं करेगा भारत : नित्यानंद राय ◾कोरोना वैक्सीन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार होने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने गीत और फिल्म जारी की◾केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशन धारकों को दीपावली का तोहफा, महंगाई भत्ते में 3 प्रतिशत वृद्धि को मिली मंजूरी◾SC की सख्ती के बाद गाजीपुर बॉर्डर से किसान हटाने लगे टैंट, कहा- हमने कभी बन्द नहीं किया था रास्ता ◾नेहरू के जन्मदिन पर महंगाई के खिलाफ अभियान शुरू करेगी कांग्रेस, कहा- भारी राजस्व कमा रही है सरकार ◾ देश में टीकाकरण का आंकड़ा 100 करोड़ के पार, WHO प्रमुख ने PM मोदी और स्वास्थ्यकर्मियों को दी बधाई ◾आर्यन केस : शाहरुख के घर मन्नत में जांच के बाद निकली NCB टीम, अब अनन्या पांडे से होगी पूछताछ ◾जम्मू-कश्मीर में जारी है आतंकवादी गतिविधियां, बारामूला में टला बड़ा हादसा, आईईडी किया गया निष्क्रिय ◾SC की किसानों को फटकार- विरोध करना आपका अधिकार, लेकिन सड़कों को अवरुद्ध नहीं किया जा सकता◾100 करोड़ टीकाकरण पर थरूर बोले- 'आइए सरकार को श्रेय दें', पहले की विफलताओं के प्रति केंद्र जवाबदेह◾देश के पास महामारी के खिलाफ 100 करोड़ खुराक का ‘सुरक्षात्मक कवच’, आज का दिन ऐतिहासिक : PM मोदी◾ड्रग्स केस : बॉम्बे HC में आर्यन खान की जमानत याचिका पर 26 अक्टूबर को होगी सुनवाई◾MP : भिंड में वायुसेना का विमान क्रेश होकर खेत में गिरा, पायलट सुरक्षित बच निकलने में रहा सफल ◾

सरकार के साथ बातचीत को तैयार, लेकिन वार्ता कृषि कानूनों को रद्द करने पर होगी: राकेश टिकैत

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने बृहस्पतिवार को कहा कि तीन विवादित कृषि कानूनों पर किसान संघ केंद्र सरकार के साथ बात करने को तैयार हैं, लेकिन चर्चा इन कानूनों को रद्द करने को लेकर होगी।हरियाणा के भिवानी जिले के प्रेम नगर गांव में किसान पंचायत को संबोधित करते हुए टिकैत ने कहा कि किसानों को अपना आंदोलन लंबे समय तक जारी रखना है लेकिन वे निश्चित रूप से बिना जीते अपने घर नहीं जाएंगे।

हरियाणा बीकेयू के प्रमुख गुरनाम सिंह चढूनी सरकार पर कोविड-19 की स्थिति से निपटने में नाकाम रहने का आरोप लगाते हुए कहा, “ जिन मरीजों को ऑक्सीजन और अस्पतालों में बिस्तर नहीं मिल रहे हैं, उन्हें भाजपा के सांसदों और विधायकों के घर ले जाना चाहिए।”हाल के महीनों में हरियाणा में कई किसान पंचायतों को संबोधित करने वाले टिकैत ने कहा कि किसान राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न सीमाओं पर पांच महीने से अधिक समय से आंदोलन कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, “ लड़ाई लंबी चलेगी, कितने महीने चलेगी, कोई नहीं जानता। लेकिन एक चीज़ तय है कि किसान इसे बिना जीते वापस नहीं जाएंगे।”टिकैत ने यह भी कहा कि आंदोलन को पूरे देश का समर्थन मिला, जिनमें व्यापारी, युवा और अन्य वर्ग शामिल हैं।बीकेयू नेता ने कहा कि अगर सरकार संयुक्त किसान मोर्चा के साथ बातचीत बहाल करना चाहती है तो वे तैयार हैं।

उन्होंने कहा, “ जब सरकार बातचीत करना चाहेगी, तब संयुक्त किसान मोर्चा बात करेगा। लेकिन अगर सरकार इन कानूनों को 18 महीने के लिए निलंबित करने जैसी चीजों पर अड़ी रही तो कोई बातचीत नहीं होगी। हम दृढ़ हैं कि उन्हें ये कानून वापस लेने होंगे और कोई भी बात इसी बिंदु से शुरू होगी।”टिकैत ने पंचायत में कहा कि प्रदर्शनकारी किसान अपना आंदोलन मांगें पूरी होने तक शांतिपूर्ण तरीके से जारी रखेंगे।

कोरोना वायरस महामारी के प्रति लोगों को सचेत करते हुए उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि वे मास्क लगाएं, एक दूसरे से दूरी के नियम का पालन करें और स्वच्छता बनाए रखें।कोविड की स्थिति पर सरकार को आड़े हाथों लेते हुए चढूनी ने कहा, “ सरकार पिछले एक साल से क्या कर रही थी? लोग ऑक्सीजन और बिस्तरों की कमी वजह से मर रहे हैं।”