BREAKING NEWS

नक्शा विवाद में नेपाल ने अपने कदम पीछे खींचे, भारत के हिस्सों को नक्शे में दिखाने का प्रस्ताव वापस◾भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾कोरोना संकट के बीच CM उद्धव ठाकरे ने बुलाई सहयोगी दलों की बैठक◾राहुल गांधी से बोले एक्सपर्ट- 2021 तक रहेगा कोरोना, आर्थिक गतिविधियों पर लोगों में विश्वास पैदा करने की जरूरत◾देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा डेढ़ लाख के पार, अब तक 4 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾राजस्थान में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 7600 के पार, अब तक 172 लोगों की मौत हुई ◾Covid-19 : राहुल गांधी आज सुबह प्रसिद्ध स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ करेंगे चर्चा ◾कोरोना संकट के बीच असम-मेघालय में बाढ़ का कहर जारी, करीब 2 लाख लोग हुए प्रभावित◾दिल्ली में कोरोना के 412 नये मामले आए सामने, मृतक संख्या 288 हुई ◾LAC पर चीन से बिगड़ते हालात को लेकर PM मोदी ने की हाईलेवल मीटिंग, NSA, CDS और तीनों सेना प्रमुख हुए शामिल◾महाराष्ट्र : उद्धव सरकार पर भड़के रेल मंत्री पीयूष गोयल, कहा- राज्य में सरकार नाम की कोई चीज नहीं◾महाराष्ट्र : फडणवीस की CM ठाकरे को नसीहत, कहा- कोरोना से निपटने में मजबूत नेतृत्व का करें प्रदर्शन ◾दिल्ली से अब तक करीब 2.41 लाख लोगों को 196 ट्रेनों से उनके गृह राज्य वापस भेजा : सिसोदिया◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नए विधायक पूरे नियम जानें और अनुभवी विधायकों से सीखें

चंडीगढ़ : हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की पहल पर 14वीं विधानसभा में पहली बार चुनकर आए 44 विधायिकों को विधायिका कार्य प्रणाली समझने का एक सुनहरा अवसर प्राप्त हुआ, जब हरियाणा विधानसभा सदन में लोकसभा सचिवालय नई दिल्ली के लोकतंत्र के लिए संसदीय अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान के अधिकारियों द्वारा सीधी कार्य प्रणाली के बारीकियों से अवगत करवाया गया। 

दो दिवसीय उन्मुखीकरण कार्यक्रम  के उदघाटन अवसर पर आज मुख्यमंत्री ने अपने सम्बोधन में पहली बार चुन कर आए विधायकों का आह्वान किया कि वे विधानसभा की नियमावली व कार्यप्रणाली की पूरी जानकारी प्राप्त करें और जब भी सत्र में आते हैं, तो पूरी तैयारी के साथ आएं। अनुभवी विधायकों से प्रणाली को समझें। विधायिका की जिम्मेवारी जनहित के नए कानून व नियम व नई नीति बनाना है। 

राजनीति विचारधारा से ऊपर उठकर पक्ष और विपक्ष की सदन में चर्चा निष्पक्ष होनी चाहिए, हमें किसी का न ही उपहास उड़ाना चाहिए न ही किसी से घृणा करनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष श्री ज्ञान चंद गुप्ता से अनुरोध किया कि लोकसभा की तर्ज पर विधानसभा के लिए भी हर वर्ष सर्वश्रेष्ठ विधायक का पुरस्कार आरंभ किया जाए। इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने भविष्य में जो भी बिल सदन में चर्चा के लिए लाया जाए उनका ड्राफ्ट पांच दिन पहले बनकर विधायकों के पास पहुंच जाना चाहिए ताकि वे पूरी तैयारी के साथ सदन में आएं। 

इससे सदन का समय भी बचेगा। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने अपनी सहमति जताते हुए कहा इन दोनों विषयों को आने वाले सत्र से लागू कर दिया जाएगा। श्री मनोहर लाल ने कहा कि विरोध के लिए विरोध करना ठीक नहीं। इसका हेतु क्या है, यह किसी के उपहास, घृणा व भावनाओं को आहत पहुंचाने वाला नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि  विधायकों को कार्यपालिका को भी समझना चाहिए। सदन में केवल विधायिका से जुड़े मामलों पर अधिक ध्यान देना चाहिए। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि विधायक अपनी निर्वाचन क्षेत्र से सम्बंधित विकास कार्यों की मांग को लिखित रूप से भी सम्बंधित विभाग को भेज सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली बार वर्ष 2014 में जब वे पहली बार चुनकर आए थे तो उनके लिए भी ऐसा प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित हुआ था। हमें सीखने की ललक होनी चाहिए, विधायिका के हर नये नियम की जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। 

14वीं विधानसभा में 44 विधायक ऐसे हैं जो पहली बार चुनकर आएं हैं, जो कुल 90 की संख्या का आधा हो जाते हैं। कई विधायक एक बार, दो बार, तीन बार यहां तक की छह-छह सात-सात बार चुनकर आएं हैं, अगर उनका लोकसभा का कार्यकाल भी इसमें जोड़ दें तो आठ-नौ बार हो जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी मई, 2014 में पहली बार सांसद चुने गए थे तो वे संसद भवन नतमस्तक होकर गए थे। 

जैसे कि किसी मंदिर में प्रवेश से पहले श्रद्धालु नतमस्तक होते हैं। मुख्यमंत्री ने सदन की इबारत पर लिखे उस बह्मवाक्य के बारे में सदस्यों का ध्यान आकर्षित किया, जिसमें लिखा गया है कि, ‘‘सभा में या तो प्रवेश न किया जाए, यदि प्रवेश किया जाए तो वहां स्पष्ट और सच बात कही जाए, क्योंकि वहां न बोलने से या गलत बोलने से दोनों की स्थितियों में मनुष्य पाप का भागी बन जाता है।’’