BREAKING NEWS

सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾पीड़िता की आत्मदाह की धमकी और जनता के दबाव में हुई चिन्मयानंद की गिरफ्तारी : प्रियंका गांधी ◾

हरियाणा

सोहना मार्किट कमेटी सचिव बीस हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार

सोहना : विजिलेंस टीम ने सोहना मार्किट कमेटी सचिव को एक आढ़ती से 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। रिश्वतखोरी में पकड़े गए मार्किट कमेटी सचिव का नाम राजकुमार बताया गया है। मार्किट कमेटी सचिव के रंगे हाथों घूस लेते पकड़े जाने के बाद मार्किट कमेटी कार्यालय में हडक़ंप का माहौल है। फिलहाल इस मामले में मार्किट कमेटी का कोई भी आला अधिकारी कुछ भी बोलने के लिए तैयार नही है लेकिन इस मामले ने मार्किट कमेटी कार्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार भरी कार्यप्रणाली की पोल खोलकर रख दी है और जाहिर कर दिया है कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल सरकार भ्रष्टाचार पर रोक के चाहे जो दावे करे, असलियत भ्रष्टाचार पहले से ज्यादा बढ़ा है। कई अधिकारी-कर्मचारी अभी भी भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने से बाज नही आ रहे है। 

सूत्रों की माने तो सोहना मार्किट कमेटी सचिव के पास नूंह मार्किट कमेटी सचिव का अतिरिक्त रूप में कार्यभार है। अनाजमंडी में आढ़त चलाने वाले शेर सिंह डागर ने आढ़त को अपने नाम चढ़वाने के लिए मार्किट कमेटी में बात की। आरोप है कि उससे इसकी एवज में नजराने की मांग की गई। बिना नजराना दिए काम ना होते देख परेशान आढ़ती ने पूरी बात विजिलेंस में जाकर बताई और विजिलेंस के कहे मुताबिक मार्किट कमेटी सचिव को पैसे देने के लिए बुला लिया और जैसे ही शेर सिंह डागर ने मार्किट कमेटी सचिव को 20 हजार रुपए दिए, वैसे ही वहां सादा लिबास में घूम रहे विजिलेंस टीम के इंस्पेक्टर नरेन्द्र सिंह ने डयूटी मजिस्ट्रेट कुंदन सिंह की मौजूदगी में पैसे ले रहे मार्किट कमेटी सचिव राजकुमार को रंगे हाथ दबोच लिया। 

ध्यान योग्य यह है कि भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल सरकार जीरो टोलरेंस नीति पर काम कर रही है। बावजूद इसके विभिन्न विभागों में कार्यरत कर्मचारी कार्यों को निपटाने के नाम पर बेवजह लोगों को परेशान करने और चोरी, छिपे भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने से बाज नही आ रहे है। विपक्षी पार्टियों के नेता तो खुल्लम-खुल्ला लोगों के काम वक्त पर ना होने और भ्रष्टाचार बढऩे के आरोप आए दिन लगा रहे है। सोहना तहसील कार्यालय और एसडीएम कार्यालय की लाइसेंस शाखा में अधिकारियों की नाक के नीचे पनप रहा भ्रष्टाचार किसी से छुपा हुआ नही है। मार्किटकमेटी कार्यालय के नीचे ही सोहना में एसडीएम कार्यालय बना हुआ है। 

सोहना मार्किट कमेटी सचिव राजकुमार के घूस लेते रंगे हाथों पकड़े जाने और उसकी गिरफ्तारी से यह तो जग जाहिर हो गया है कि सरकार के अथक प्रयासों के बावजूद भ्रष्टाचार पर अभी पूरी तरह रोक नही लग पाई है। जिस भी विभाग में, जिस भी कर्मचारी, अधिकारी को जहां भी मौका मिलता है, वह अपनी जेब गर्म करने से बाज नही आता है। लोगों में चर्चाएं है कि सोहना एसडीएम कार्यालय की लाइसेंस शाखा में भ्रष्टाचार का जमकर बोलबाला चल रहा है लेकिन अपना काम निकालने के लिए कोई भी खुलकर शिकायत करने और सामने आने को तैयार नही है।