रेवाड़ी : स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगले दस दिन के भीतर रेवाड़ी में बाजरे की खरीद शुरु की जाए। उन्होंने कहा कि सरकार दोमुंही बातें बंद कर 1950 के एमएसपी पर बाजरे की खरीद करने के रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि को 15 सितंबर से बढ़ाकर 15 अक्तूबर तक करे। साथ ही सरकार बाजरे की पूरी फसल खरीदने की लिखित गारंटी भी दे। उन्होंने कपास की फसल के हुए नुकसान से प्रभावित किसानों को मुआवजा दिए जाने की भी मांग की।

योगेंद्र यादव गुरुवार को स्थानीय नई अनाज मंडी में स्वराज इंडिया द्वारा आयोजित चेतावनी धरने में जिलेभर से पहुंचे भारी संख्या में किसानों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बाजरा की खरीद पर सरकार की नियत साफ नहीं है। एक तरफ सरकार एक-एक दाना खरीदने की बात करती है और दूसरी तरफ खरीद में हर तरह की टालमटोल और अड़चन खड़ी की जा रही है। उन्होंने कहा कि यह आंदोलन केवल बाजरे के रेट के बारे में नहीं है। बल्कि इस इलाके के संस्कार को बदलने वाला आंदोलन साबित होगा। यह इलाका प्रकृति की मार, सरकारों के सौतेला व्यवहार, निकम्मे नेताओं और गुलामी के संस्कार का शिकार रहा है। एमएसपी संघर्ष के जरिए किसानों का गुलामी का संस्कार टूटेगा तो आगे उनके अपने अधिकार लेने का रास्ता खुलेगा। धरने में जिलेभर से किसान व भारी संख्या में महिलाएं भी पहुंचीं।

योगेन्द्र यादव हिरासत में, पु‌लिस से हाथापाई का आरोप

इस मौके पर स्वामी सुधानंद के सानिध्य में किसान हितैषी यज्ञ से चेतावनी धरने के शुभारंभ हुआ। महिला किसानों के साथ-साथ गांवों से आए किसानों ने पिछले साल बाजरे की फसल एमएसपी पर नहीं खरीदे जाने की बात भी रखी। किसान अपने गांव से बाजरे के सिट्टे भी लेकर आये ताकि उपायुक्त कोचेतावनी स्वरूप दिया जा सके। धरने के उपरांत मार्च निकालते हुए स्वराज कार्यकर्ता व किसान जिला सचिवालय पहुंचे तथा मुख्यमंत्री के नाम मांगों का ज्ञापन उपायुक्त को सौंपा। इस मौके पर जय किसान आंदोलन के संयोजक अविक साहा, कामरेड दिलीप, कर्नल जयवीर, परमजीत सिंह, युद्धवीर अहलावत, राजीव गोदारा, दीपक लाम्बा, रमजान चौधरी, एसपी सिंह, पूनम चंद रत्ती, रमन, नवनीत तिवारी, रविन्द्र मालिक, जेसी यादव, मनीष मक्कर, प्रोमिला, मंजू यादव, रोहिणी समेत जिला इकाई के पदाधिकारी व भारी संख्या में किसान मौजूद थे।

– शशि सैनी