बहादुरगढ़ : समाज सेवी अन्ना हजारे ने मोदी सरकार के साथ साथ देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बड़ा तंज कसते हुए कहा कि जिस तरह से भ्रष्टाचार के कारण कांग्रेस को देश की जनता ने सत्ता से दूर भगाया था उसी तरह से भाजपा से भी देश की जनता का मोह भंग हो चुका है, क्योंकि भाजपा सरकार भी भ्रष्टाचार में डूब चुकी है। भाजपा ने न तो कोई वायदा पूरा किया और न ही भ्रष्टाचार को खत्म किया। कांग्रेस की तरह ही भाजपा ने भी झूठ बोल कर सत्ता हासिल की है। ऐसे में अब देश की जनता के सामने भाजपा की इस धोखेबाज सरकार के खिलाफ आंदोलन करने के सिवाय कोई विकल्प नहीं बचा।

जानेमाने समाजसेवी अन्ना हजारे बहादुरगढ़ में बुल्लड़ पहलवान के बुलाए पर याहं पहुंचे और जनसभा में भाजपा सरकार पर जमकर कटाक्ष किया। मंच से गरजते हुए अन्ना हजारे ने कहा कि भाजपा सरकार से देश के लोगों को जो उम्मीद थी उस पानी फिर चुका है, क्योंकि यह भाजपा की सरकार तो किसान की जान लेकर उद्योगपतियों को माला माल करने में लगी हुई है। सरकार को किसानों की कोई चिंता नहीं है। पिछले 22 सालों में आर्थिक तंगी के चलते देश के 22 लाख किसानों को आत्महत्या करने के लिए मजबूर होना पड़ा। उद्योगपतियों के कर्जे माफ हो रहे हैं जबकि देश का अन्नदाता कर्ज से आत्महत्या कर रहा है।

किसान को कर्जों पर चक्रवृद्धि ब्याज देना पडता है। किसान को अपनी फसल का लागत मूल्य भी नहीं मिल रहा है। स्वामी नाथन आयोग को लागू करने की बात कह कर सत्ता हासिल करने वाली भाजपा ने अभी तक इसे लागू नहीं किया है। किसानों का पैंशन बिल अधर में लटका हुआ है। उन्होंने सरकार से मांग की कि जल्द ही इस बिल को लागू कर 60 साल के बाद किसानों को 5 हजार रुपए प्रति माह पैंशन मिलनी चाहिए। 2011 में देश भर की जनता के साथ उन्होंने रामलीला मैदान में जो आन्दोलन किया था उस समय कांग्रेस सरकार ने लोकपाल व लोकायुक्त कानून बना तो दिया मगर जब भाजपा ने सत्ता में आने उस कानून को सख्ती से लागू करने की बजाय उसे कमजोर बना दिया जिससे साफ जाहिर है कि भाजपा के नेता भी भ्रष्टाचार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करना चाहते।

इस कानून में जहां सरकार के अधिकारियों व कर्मचारियों को हर साल 31 मार्च तक अपने व अपने परिवार की सम्पति व आय का पूरा विवरण देना था, वहीं अब मोदी सरकार ने इसमें संशोधन कर साबित कर दिया कि सरकार भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रही है। नेताओं के इशारे पर अधिकारियों के भ्रष्टाचार के रास्ते खोले जा रहे हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि 30 दिन में कालेधन की वापसी व प्रत्येक भारत वासी के खाते में 15 लाख रुपए जमा होने का झूठा प्रलोभन देकर देश की जनता को गुमराह करते हुए सता हासिल कर ली। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के भ्रष्टाचार व देश के किसानों को उनका हक मिल सके। इसी को लेकर वे 23 मार्च को एक बड़ा आन्दोलन रामलीला मैदान में शुरू करने जा रहे हैं।

अन्य विशेष खबरों के लिए पढ़िये पंजाब केसरी की अन्य रिपोर्ट।

– प्रेम शर्मा