गुरुग्राम: कांग्रेस वाले थे लूटेरे और भाजपा वाले हैं बड़े बदमाश। ये हरियाणा को करेंगे बर्बाद। भाजपा सरकार भ्रष्टाचार के मामले में पिछली कांग्रेस सरकार को भी मात दे रही है। उक्त शब्द इंडियन नैशनल लोकदल के वरिष्ठ नेता व हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता चौ0 अभय सिंह चौटाला ने आज गुडग़ांव में आयोजित पत्रकार वार्ता में हरियाणा सरकार की 1000 दिनों की उपलब्धियों के बखान पर तीखा प्रहार करते हुए कहे। इस असवसर पर उनके साथ पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत, मीनू बराड़, प्रदेश प्रवक्ता दलबीर धनखड़, जिला प्रवक्ता कपिल त्यागी मौजूद थे। उन्होंने मुख्यमंत्री की पत्रकार वार्ता के संबन्ध में चर्चा करते हुए कहा कि यह सरकार फाइव स्टार कल्चर वाली सरकार है। सरकार ने पांच सितारा होटल में प्रेस कांफ्रेंस करके लाखों रुपए उड़ा दिए जबकि इसे मुख्यमंत्री निवास में भी किया जा सकता था। उन्होंने कहा कि भाजपा की उपलब्धियों के नाम पर केवल खोदा पहाड़ निकली चुहिया वाली कहावत सिद्ध होती है। श्री चौटाला ने आरोप लगाया कि इस सरकार की एक मात्र उपलब्धि प्रदेश के भाई चारे को तोडऩा है।

जाट आंदोलन के दौरान इस सरकार ने 31 नौजवानों को मौत के घाट उतार दिया। हजारों करोड़ की संपत्ति का विनाश कर दिया। ये सरकार प्रदेश में आपसी भाई चारा खत्म करने के लिए उमदा है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि इस सरकार का भ्रष्टाचार खत्म करने का दावा पूरी तरह झूठा व खोखला है। बिजली, पानी, ट्रांसपोर्ट, एसडीएम, तहसील जैसे सभी दफ्तरों में खुल्लम खुल्ला पैसा मांगा जाता है, कोई भी काम बिना पैसे दिए नहीं होता। पिछले दिनों भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और एक पूर्व सीपीएस पर भी रिश्वत मांगने के आरोप लगे थे, ऐसी कई घटनाएं इस सरकार में हो रही हैं। भाजपा सरकार द्वारा मीडिया में दावा किया जाता है कि भ्रष्टाचार खत्म कर दिया जबकि सच यह है कि सरकार के कई मंत्रियों व विधायकों पर भ्रष्टाचार करने के आरोप लगे हुए हैं।

श्री चौटाला ने प्रदेश में बिजली की कमी के कारण उत्पन्न हालातों पर चर्चा करते हुए कहा कि केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल हरियाणा प्रदेश में 2 रुपए 9 पैसे प्रति यूनिट बिजली देने को तैयार हैं और दो निजी कंपिनयां भी 3 रुपए की दर पर बिजली देने को तैयार हैं लेकिन हरियाणा सरकार ने आने वाले दिनों में बिजली खरीदने का समझौता किया हुआ है जिसमें 5.10 और 5 .52 व 6.19 पैसे में बिजली खरीदने का समझौता किया गया है। पड़ोसी राज्यों से सस्ते रेट पर बिजली लेने की बजाए सिक्किम की उन तीन कंपनियों से बिजली ली जाएगी जिनका संबंध आरएसएस से है।

– सतबीर,एमके अरोड़ा, तोमर