रोहतक : पंचकूला सीबीआई अदालत द्वारा डेरा सच्चा सौदा प्रमुख बाबा राम रहीम सहित चार लोगों को रामचन्द्र छत्रपति हत्याकांड में दोषी ठहराए जाने के बाद सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस महानिदेशक बीएस सिंधु रोहतक पहुंचे और पुलिस अधीक्षक कार्यालय में जिले के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। डीजीपी ने 17 जनवरी को राम रहीम पर आने वाले फैसले को देखते हुए रोहतक पुलिस द्वारा की गई सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की और पुलिस अधिकारियों को इस संबंध में उचित दिशा निर्देश दिए।

साथ ही पुलिस महानिदेशक ने कहा कि पंचकूला जैसी हिंसा दोबारा न हो इसके लिए पुलिस पूरी तरह से चौकस है और सरकार भी एतिहात बरत रही है। उन्होंने यह भी बताया कि सोमवार को हरियाणा सरकार हाईकोर्ट में अर्जी देगी कि जिला कारागार में ही सीबीआई की कोर्ट स्थापित की जाए और यहीं से सजा पर फैसला सुनाया जाए। रविवार को पुलिस महानिदेशक बीएस सिंधु रोहतक पहुंचे और उन्होंने लघु सचिवालय स्थित पुलिस अधीक्षक कार्यालय में जिले के तमाम बडे अधिकारियों के साथ बैठक की।

पुलिस अधीक्षक जश्रदीप सिंह रंधावा ने डीजीपी को बताया कि बाबा राम रहीम मामले को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा का विशेष प्लान तैयार कर रखा है। बाईपास से लेकर सुनारियां जेल तक थ्री लेयर सुरक्षा की गई है। इसके अलावा पुलिस लाइन में अतिरिक्त दो रिर्जव फोर्स को भी 24 घंटे स्टैडअप किया गया है और शहर में अलग अलग स्थानो पर भी नाकेबंदी की गई है। किसी भी स्थिति से निपटने के लिए दमकल व पीजीआई प्रशासन को भी अलर्ट रहने को कहा गया है। डीजीपी ने इस संबंध में अधिकारियों को सुरक्षा संबंधी कुछ टिप्स भी दिए। डीजीपी ने बताया कि रोहतक के अलावा अन्य शहरो में भी सुरक्षा के तगडे इंतजाम किए गए है।

नाम चर्चा घरो के बाहर पुलिस बल तैनात किया गया है। दरअसल 25 अगस्त 2017 में पंचकूला हिंसा के बाद बाबा राम रहीम को रोहतक सुनारिया जेल लाया गया था और 28 अगस्त को रोहतक जिलाकारागार में ही सीबीआई कोर्ट लगाकर साध्वी यौन शोषण मामले में सजा पर फैसला सुनाया गया था। डीजीपी ने कहा कि उम्मीद है कि माहौल पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहेगा, लेकिन उसके बाद भी सुरक्षा के तगडे इंतजाम किए गए है।

(मनमोहन कथूरिया)