रोहतक: खानपुर स्थित भगत फूल सिंह महिला मेडिकल कॉलेज में विभिन्न पदों पर दस्तावेज बदल कर अपने चहेतों को नौकरियां देने का बडे फर्जीवाडे का खुलासा हुआ है। बडी बात तो यह है कि इस मामले में विजिलेंस अधिकारी कारवाई के लिए सरकार को जांच रिपोर्ट सौंप चुके है, लेकिन सरकार ने इस पर अभी तक कोई कारवाई नहीं की है। कांग्रेस शासनकाल के दौरान वर्ष 2012 में हुई विभिन्न पदों पर भर्ती को लेकर कॉलेज के पूर्व निदेशक डॉ. आरसी सिवाच पर गंभीर आरोप लगाए है और इस वक्त डॉ. आरसी सिवाच पीजीआई में आर्थो के विभागाध्यक्ष है।

वर्ष 2011 में निदेशक मेडिकल एवं ऐजूकेशन रिसर्च पंचकुला ने बीपीएस महिला मेडिकल कालेज खानपुर कलां सोनीपत में विभिन्न पदो के लिए आवेदन मांगे थे। इन पदों में 8 पद रिकार्ड कलर्क के लिए भी स्वीकृत थे। जिनकी योग्यता स्नातक व दसवीं तक हिंदी का ज्ञान अनिवार्य थी। वर्ष 2012 तक इन आवेदनों पर कोई कार्यवाही नहीं की गई और ब्लैड बैंक रिकार्ड कलर्क के दो ओर पदों को मंजूरी देते हुए दोबारा से आवेदन मांग लिए गए। उस समय भी वहीं योग्यता थी, लेकिन कालेज के निदेशक ने ब्लैड बैंक शाखा में 10 पदों के लिए एक ओर विज्ञापन जारी करते हुए योग्यता को 12वीं कर दिया।

लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक करें।

(मनमोहन कथूरिया)