चंडीगढ़ : हरियाणा में रविवार को पैरा मिल्ट्री फोर्स ने फिर से मोर्चा संभाल लिया। प्रदेश में खट्टर सरकार के सत्ता में आने के बाद यह पांचवां मौका है जब प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर काबू पाने के लिए प्रदेश सरकार ने पैरा मिल्ट्री फोर्स को आगे किया है। केंद्र सरकार ने रविवार से हरियाणा में पैरा मिल्ट्री की तैनाती शुरू कर दी है। पैरा मिल्ट्री का केंद्र बिंदु हरियाणा का जिला जींद है। जहां सबसे पहले मोर्चाबंदी शुरू की गई है। जींद में जिला प्रशासन ने कानून-व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए यहां पैरा मिल्ट्री की 25 कंपनियों की मांग की है। केंद्र ने यह मांग स्वीकार करने के अलावा जींद के लिए 12 अन्य कंपनियों को रिजर्व रख लिया है।

जिन्हें 14 फरवरी की रात तक यहां तैनात किया जा सकता है। जींद के लिए पैरा मिल्ट्री की कुल 37 कंपनियों को अलाट किया गया है। जिसके चलते रविवार को पैरा मिल्ट्री की तीन कंपनियां जींद में पहुंच गई। सोमवार की सुबह तक जींद में पैरा मिल्ट्री की आठ अन्य कंपनियां मोर्चा संभाल लेंगी। जाट आरक्षण संघर्ष समीति ने अमित शाह के दौरे के दौरान महिलाओं के माध्यम से अपना विरोध दर्ज करवाने का ऐलान किया है।

जिसके चलते जींद में सीआरपीएफ की महिला कंपनी को जींद तैनात कर दिया गया है। जींद में महिला कंपनियों तथा सीआरपीएफ जवानों को प्रशिक्षण देने के साथ-साथ जींद में संवेदनशील स्थानों पर तैनात किया गया है। इसके अलावा हरियाणा के रोहतक,सिरसा, झज्जर, सोनीपत, कैथल में भी पैरा मिल्ट्री फोर्स की तैनाती का काम शुरू हो गया है। कई जिलों की पुलिस लाइन में पुलिस तथा पैरा मिल्ट्री ने आपात स्थिति से निपटने के लिए संयुक्त पूर्वाभ्यास भी शुरू कर दिया है।

24X7  नई खबरों से अवगत रहने के लिए यहाँ क्लिक करें।