चंडीगढ़ : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि पुलिस किसी भी सरकार का आइना होती है, पुलिस की कार्यशैली जनमैत्री होनी चाहिए। पिछले चार वर्षों में हरियाणा पुलिस को देश की अग्रणी पुलिस बनाने की दिशा में अनेक कदम उठाए गए हैं। पुलिसकर्मियों को सप्ताहिक अवकाश देने के साथ-साथ पुलिस परिसरों में नवीनतम आवासीय सुविधाएं व सभी जिलों की पुलिस लाइनों में डीएवी पुलिस पब्लिक स्कूल खोले गए है। इसके अलावा, दूसरे विभागों में उच्च पदों पर सेवा में जाने के लिए विभागीय अनापत्ति-पत्र की अनुमति को हटाया गया है तथा खेल कोटे में भी हरियाणा पुलिस सेवा की सीधी भर्ती का प्रावधान किया है।

मुख्यमंत्री आज पंचकूला के सेकटर-1 में हरियाणा पुलिस हाउंसिंग कार्पोरेशन द्वारा पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो, नई दिल्ली के सहयोग से आयोजित दो दिवसीय छठी ऑल इंडिया पुलिस हाउसिंग कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हरित, पर्यावरण अनुकूल, ऊर्जा दक्ष और भूकंप प्रतिरोधी इमारतों के लिए भवनों की संरचना पिचिंग, प्री-फैब्रिकेटिड, रेनवॉटर हार्वेस्टिंग, सौर ऊर्जा के साथ अल्ट्रा-आधुनिक प्रौद्योगिकियों को अपनाने की आवश्यकता है। प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए मनोहर लाल ने कहा कि जमीन सीमित है इसलिए हमें पुलिस कर्मियों समेत आधुनिक कम लागत वाले बुनियादी ढांचे पर बहुमंजिली इमारतों की अवधारणा की ओर भी जाना होगा।

पिछले 4 वर्षों में शासन की व्यवस्था में बड़ा परिवर्तन किया : मनोहर लाल

हरियाणा पुलिस को देश की अग्रणी पुलिस बनाने के लिए सरकार कटिबद्ध है और इसके लिए वित्तीय सहायता में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने पुलिस को पूर्ण रूप से तनाव मुक्त और समाज के साथ-साथ फ्रेंडली बनाने के लिए प्रदेश में जिला स्तर पर व उपमण्डल स्तर पर राहगिरी कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हुडको के माध्यम से तीन हजार नये पुलिस हाउसिंग आवास निगम के मकान बनाए जा रहे हैं। इनमें वर्तमान स्थिति के अनुसार सभी प्रकार की सुविधाएं एक ही स्थान पर मुहैया करवाने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही 5 हजार नये पुलिस जवानों की भर्ती की जाएगी। इसके अलावा रात्रि गश्त के लिए एक हजार भूतपूर्व सैनिकों को एसपीओ के रूप में भर्ती किया गया है चार हजार एसपीओ की भर्ती और भी की जाएंगी। पुलिसकर्मी की ड्यूटी के दौरान मृत्यु होने पर एक्सग्रेशिया राशि 10 लाख से बढ़ाकर 30 लाख की गई है तथा घायल हो जाने पर 5 लाख से से बढ़ाकर 15 लाख की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में की गई पहल पर एनसीसी की तर्ज पर पूरे देश में स्टूडेंट पुलिस कैडेट बनाई जा रही है, इसका श्रेय हरियाणा को जाता है। हरियाणा पुलिस महानिदेशक बीएस संधू ने अपने संबोधन में कहा कि पुलिस विभाग में आवासीय व काम करने की जगह को बेहतर बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। गत छह साल के दौरान 1600 करोड़ रूपए की राशि से नई सुधार और नई तकनीकी कोर्स एवं भवन बनाने के साथ-साथ पुलिस लाईनों को विकसित करने का कार्य किया जा रहा है।

(आहूजा)