BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 20 मई 2022) ◾RCB vs GT ( IPL 2022 ) : कोहली के बल्ले से निकली आरसीबी की जीत और प्लेऑफ की उम्मीद◾पंजाब में कांग्रेस को पड़ी दोहरी मार : सिद्धू को एक साल की सजा, जाखड़ ने थामा भाजपा का दामन◾भारतीय मुक्केबाज निकहत जरीन बनीं विश्व चैंपियन , PM मोदी ने दी बधाई ◾ इंडोनेशिया के ऐलान से भारत को राहत, जल्द ही कम हो सकते हैं खाने के तेल के दाम◾ अदालत में दाखिल याचिका को लेकर भड़के ओवैसी, बोले- मुसलमानों के खिलाफ अविश्वास पैदा करने की हो रही कोशिश◾Gyanvapi News: ज्ञानवापी मस्जिद पर अभिनेत्री कंगना बोलीं- काशी के कण- कण में बसे हुए हैं भगवान शिव◾ RCB vs GT: गुजरात टाइटंस ने टॉस जीतकर किया बल्लेबाजी का फैसला, यहां देखे दोनो टीमों की प्लेइंग इलेवन◾Quad Summit 2022: टोक्यो में शुरू होगा मोदी का मिशन, 24 मई को जाएंगे जापान, दिग्गज नेताओं के साथ होगी बातचीत ◾UP: स्वतंत्रता सेनानियों पर भावुक होकर योगी बोले- पिछली सरकारो ने इनके आदर्शों पर नहीं किया काम◾DU को संबोधित करते हुए शाह ने कहा: नहीं होनी चाहिए राजनीतिक लड़ाई, जिक्र किया- रक्षा नीति का.... ◾Gyanvapi Survey: वाराणसी अदालत में 23 मई को होगी अगली सुनवाई, दर्ज की जा चुकी है सर्वे रिपोर्ट ◾ अमित शाह से मिले CM भगवंत मान, PAK से ड्रोन घुसपैठ को लेकर MHA से की ये बड़ी मांग◾1988 रोड रेज केस : एक साल की सजा पर बोले सिद्धू-कानून का सम्मान करूंगा◾Delhi High Court ने लगाई घर-घर राशन योजना पर रोक, कहा: दिल्ली सरकार नहीं कर सकती केंद्र के राशन का इस्तेमाल ◾'कुछ नेता ही कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को कर रहे हैं गुमराह', इस्तीफे के बाद बोले हार्दिक◾जिसका शिवपाल को था इंतजार.. वो घड़ी आ गई! आजम की जमानत का चाचा-भतीजे पर कैसा होगा असर? ◾SC से रिहाई के बाद फिर जेल जा सकते हैं आजम खान, जानिए किस मामले में फंस सकते हैं SP नेता ◾Delhi News: राजधानी फिर हुई धुआं-धुंआ! मुस्तफाबाद की फैक्ट्री में लगी भीषण आग, दमकल की गाड़ियां मौके पर मौजूद◾नवजोत सिंह सिद्धू को SC से मिला बड़ा झटका, 34 वर्ष पुराने रोडरेज मामले में मिली एक वर्ष की सजा ◾

लहसुन सब्जी है या मसाला- उच्च न्यायालय

राजस्थान उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार से पूछा है कि वह बताएं कि लहसुन सब्जी है या मसाला? राज्य सरकार से यह सवाल उच्च न्यायालय में दायर एक पीआईएल पर किया गया है।

सरकार को इस सवाल के जवाब एक हफ्ते के अंदर उच्च न्यायालय में दायर करना है। असल में ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि उच्च न्यायालय के इस सवाल के पीछे तर्क यह है कि अगर लहसुन सब्जी है तो किसान उसे सब्जी मार्केट में बेचे और अगर मसाला है तो उसे अनाज मार्केट में बेच सके।

सब्जी मार्केट में लहसुन बेचने पर टैक्स नहीं है जबकि अनाज मार्केट में लहसुन बेचने पर टैक्स लगता है। याचिका दायर करने वाले का कहना है की सरकार ने लहसुन को सब्जी और मसाला दोनों श्रेणी में रखा है।

सब्जी के रूप में लहसुन को बेचा जाये तो उस पर जीएसटी नहीं लगता और मसाले के रूप में बेचा जाए तो जीएसटी लगता है। ऐसे में उन्हें लहसुन को किस श्रेणी में रख कर बेचना है।राजस्थान में लहसुन का भारी उत्पादन होने से इसकी कीमत गिर जाती है।

दूसरी तरफ सब्जी मार्केट में जगह कम होने से लहसुन अच्छी कीमत पर नहीं बिक पाता है इसलिए सरकार ने किसानों को लहसुन अनाज मार्केट में भी बेचने का आदेश दिया था।

लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें