BREAKING NEWS

राजू श्रीवास्तव की हालत स्थिर, डॉक्टर उनका बेहतर इलाज कर रहे हैं : शिखा श्रीवास्तव◾कोलकाता में ममता से मिले पूर्व भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी◾महाराष्ट्र : रायगढ़ तट से मिली संदिग्ध नाव, AK-47 समेत कई हथियार बरामद ◾रोहिंग्याओं पर राजनीति! भाजपा ने कहा- केजरीवाल रोहिंग्याओं को ‘रेवड़ी’ बांट रहे, राष्ट्रीय सुरक्षा के समझौते को तैयार◾जयशंकर ने कहा- भारत स्वतंत्र, समावेशी व शांतिपूर्ण हिंद प्रशांत की परिकल्पना करता है◾गहलोत का भाजपा पर फूटा गुस्सा- देश को हिंदू राष्ट्र बनाया तो होगा पाकिस्तान जैसा हाल◾रायगढ़ में नाव को लेकर बवाल! फडणवीस बोले- खराब मौसम के कारण नाव अनियंत्रित होकर बहते हुए..... ◾ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने कहा, कर्नाटक में कांग्रेस एकजुट, अकेले और सामूहिक नेतृत्व में लड़ेंगे विधानसभा चुनाव◾पता लगाएं किसने रोहिंग्या को फ्लैट में स्थानांतरित करने का फैसला किया? सिसोदिया ने गृहमंत्री को लिखा पत्र ◾रोहिंग्याओं को लेकर बवाल, थरूर बोले-मुद्दे पर सरकार में असमंजस देश के लिए कलंक◾Jagdeep Dhankhar: उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ से गुलाम नबी आजाद ने अहम मुलाकात की◾राहुल गांधी का भाजपा पर कटाक्ष, बोले- पीएम नरेंद्र मोदी को ऐसी राजनीति पर नहीं आती शर्म◾बीमा भारती के लेसी सिंह पर लगाए आरोपों पर भड़के नीतीश, कहा-अगर इधर-उधर का मन है तो अपना सोचें◾Maharashtra: अवैध शराब पर राज्य के गृह विभाग को वासुदेव के खिलाफ रिपोर्ट मिली, जल्द होगा निलंबित.....बोले फडणवीस ◾Gujarat News: AAP पार्टी का मास्टर प्लान! गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए 9 उम्मीदवारों की दूसरी सूची सांझा की ◾नीतीश के एक और मंत्री विवादों में, कृषि मंत्री सुधाकर सिंह पर लगा भ्रष्टाचार का आरोप◾Defamation Case : मुंबई कोर्ट का आदेश- संजय राउत को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए किया जाए पेश ◾फेक न्यूज पर मोदी सरकार का एक्शन, एक पाकिस्तानी समेत 8 YouTube चैनल किए ब्लॉक ◾बाहुबली मुख्तार अंसारी पर बड़ी कार्रवाई, दिल्ली और UP में कई ठिकानों पर ED की रेड◾पश्चिम बंगाल : टेरर कनेक्शन पर एक्शन, STF ने अलकायदा के 2 आतंकियों को किया गिरफ्तार◾

Indian Railways का बड़ा फैसला, कोयले की सप्लाई के लिए रेलवे ने रद्द कीं 42 यात्री ट्रेनें

देश में बिजली की खपत बढ़ने और कोयले की कमी को देखते हुए रेलवे ने देशभर के अलग-अलग जोन में 42 पैसेंजर ट्रेनें रद्द की हैं ताकि उनकी जगह मालगाड़ियों के फेरे बढ़ाए जाएं और बिजली उत्पादन संयंत्रों तक कोयले की आपूर्ति जल्द से जल्द की जा सके। मालूम हो कि देश के कई राज्यों में ब्लैकआउट और आउटेज के बीच बिजली संकट गहरा रहा है।

कोयले का स्टॉक तेजी से घट रहा है

मीड़िया रिपोर्ट्स के अनुसार रेलवे ने एक अधिकार बयान में कहा कि थर्मल पावर प्लांटों में कोयले का स्टॉक तेजी से घट रहा है। रेलवे कोयले के परिवहन के लिए "युद्धस्तर पर" कदम उठाने की कोशिश कर रहा है और कोयले को बिजली संयंत्रों में ले जाने में लगने वाले समय में भी कटौती कर रहा है।

स्थिति सामान्य होते ही यात्री सेवाएं दौबारा शुरु हो जाएंगी

आपको बता दें कि भारतीय रेलवे के मुताबिक ये  यह कदम (ट्रेनों को रद्द करने के लिए) अस्थायी है और स्थिति सामान्य होते ही यात्री सेवाएं दौबारा शुरु हो जाएंगी। वहीं, स्थानीय सांसदों के विरोध के बाद पहले रद्द की गई छत्तीसगढ़ की तीन ट्रेनों को बहाल कर दिया गया है। हालांकि कई राज्यों ने घटते कोयले के भंडार के संकट को देखते हुए ट्रेन रद्द करने के फैसले को हरी झंडी दिखाई है।

देश में गहरा रहा कोयला संकट

सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी (सीईए) की डेली कोल स्टॉक रिपोर्ट के मुताबिक, 165 थर्मल पावर स्टेशनों में से 56 में 10% या उससे कम कोयला बचा है। कम से कम 26 के पास पांच फीसदी से भी कम स्टॉक बचा है।

 केजरीवाल ने भी कोयला संकट पर बयान दे चुके

इसके चलते दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी कोयला संकट पर बयान दे चुके हैं। उन्होंने ट्वीट किया, "पूरे भारत में स्थिति विकट है। हमें सामूहिक रूप से जल्द ही एक समाधान निकालना होगा। इस स्थिति को हल करने के लिए ठोस कदमों की तत्काल आवश्यकता है।" एक अभूतपूर्व गर्मी की लहर के बीच भारत के कई हिस्सों में ब्लैकआउट और बिजली कटौती ने जीवन और उद्योग को प्रभावित किया है।

कोयला संकट के चलते उत्पादन में कटौती

 इस महीने की शुरुआत से भारत के बिजली संयंत्रों में कोयले के भंडार में लगभग 17% की गिरावट आई है और यह आवश्यक स्तरों का मुश्किल से एक तिहाई है। बता दें कि  कुछ उद्योग कोयले की कमी के कारण उत्पादन में कटौती कर रहे हैं, ऐसे समय में आर्थिक सुधार की धमकी दे रही है जब सरकार यूक्रेन पर रूस के आक्रमण से ईंधन की उच्च ऊर्जा कीमतों से निपट रही है।

बताते चलें कि भारत की लगभग 70 प्रतिशत बिजली कोयले से उत्पन्न होती है। गाड़ियों की कमी के कारण लंबी दूरी तक कोयला ले जाना मुश्किल हो जाता है। यात्री ट्रेनों से भीड़भाड़ वाले रूट अक्सर शिपमेंट में देरी करते हैं।

चार दिनों की गिरावट देखी

मालूम हो कि  पिछले साल, इसी तरह के संकट ने कोयले के स्टॉक में औसतन चार दिनों की गिरावट देखी थी, जिसके कारण कई राज्यों में ब्लैकआउट हो गया। उधर, रिकॉर्ड हीट वेव में बिजली की मांग में तेजी आई है।