BREAKING NEWS

अडाणी विवाद को लेकर बोलें शशि थरूर, कहा- संसद में चर्चा नहीं होने दे रही है सरकार◾त्रिपुरा चुनाव: वाम गठबंधन ने जारी किया घोषणापत्र, किए ये वादे ◾मनीष सिसोदिया ने बदले एक दर्जन से ज्यादा फोन, दूसरे नामों से खरीदे Sim cards, शराब घोटाले को लेकर ED ने किए कई बड़े दावे◾आर्थिक कंगाली के बीच अब 'पाकिस्तान 18 दिनों तक ही कर पाएगा अपना गुजारा' ◾पश्चिम बंगाल : चार बांग्लादेशी घुसपैठियों को सशस्त्र सीमा बल के जवानों ने दबोचा◾2019 से राष्ट्रपति की विदेश यात्राओं पर सवा छह करोड़ रुपये खर्च हुए◾भाजपा-ठाकरे गुट में तनातनी: संजय राउत ने 'आधारहीन आरोप' लगाने के लिए नारायण राणे को भेजा कानूनी नोटिस◾चीन: अमेरिकी वायु क्षेत्र में जासूसी गुब्बारा उड़ने की रिपोर्ट पर गौर कर रहे हैं◾ब्रिटेन के PM के रूप में 100 दिनों पर सुनक को औसत ग्रेड◾असम : बाल विवाह करने वालों की अब खैर नहीं, सरकार ने शुरू की मुहिम, 1,800 लोगों की हुई गिरफ़्तारी ◾कंझावला कांड : सच साबित हुई निधि की बात, हादसे के वक्त शराब के नशे में थी अंजलि, विसरा रिपोर्ट में हुआ खुलासा◾ संबंधों को सामान्य करने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे' 'इजराइल और सूडान◾SC ने किया BBC की Documentary पर तुरंत बैन हटाने से इनकार, केंद्र सरकार से मांगे Original दस्तावेज◾SC को जल्द मिलेंगे 5 नए जज, केंद्र सरकार ने कॉलेजियम की सिफारिश को मंजूरी देने का आश्वासन दिया ◾बढ़ती महंगाई के बीच देश में आटे की कीमत घटी, '6 फरवरी से नए दर पर मिलेगा आटा' ◾अडाणी ग्रुप को लेकर लोकसभा में विपक्ष का हंगामा, कार्यवाही हुई स्थगित◾अदाणी विवाद पर बोलें सभापति धनखड़, कहा- मेरे फैसले की लगातार अवहेलना हुई ◾Adani Enterprises अमेरिकी बाजार के Dow Jones Sustainability Index से बाहर, Share में 35 प्रतिशत की गिरावट◾हिंडनबर्ग-अदानी मुद्दे पर रणनीति बनाने के लिए 16 पार्टियों के सांसदों की हुई बैठक◾Shaligram Stone: राम लला की मूर्ति जिस शालिग्राम शिला से बनेगी, जाने उसकी खास बातें ◾

Covaxin की बूस्टर डोज काफी असरदार है Omicron के खिलाफ, ICMR के अध्ययन में खुलासा

कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन की बूस्टर डोज ओमिक्रॉन समेत SARS-CoV-2 वैरिएंट्स ऑफ कंसर्न्स के खिलाफ काफी असरदार है।कोविड-19 रोधी टीकाकरण के तहत पहली दो खुराकें लेने के छह महीने बाद कोवैक्सीन की बूस्टर खुराक लेने से ओमीक्रोन समेत सार्स-सीओवी-2 के चिंताजनक स्वरूप (वीओसी) के खिलाफ प्रतिरक्षा मजबूत होती है तथा गंभीर बीमारी से सुरक्षा मिलती है। 

वरिष्ठ  वैज्ञानिक डॉ. प्रज्ञा यादव ने कहा 

आईसीएमआर और भारत बायोटेक के एक अध्ययन में यह बात कही गई है। पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) में वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. प्रज्ञा यादव ने कहा कि ज्यादातर टीकों के लक्षित क्षेत्र के भीतर कम से कम 30 उत्परिवर्तन के साथ ओमीक्रोन फैलने से और टीके से उत्पन्न एंटीबॉडीज के इस पर असर न होने से इसका प्रसार बढ़ा तथा फिर से संक्रमण फैला।

एंटीबॉडी का असर कम होने की खबरों ने दुनियाभर में चिंता पैदा की

उन्होंने कहा कि इसके अलावा अन्य मान्यता प्राप्त टीकों के मामले में भी वायरस के चिंताजनक स्वरूप (वीओसी) पर एंटीबॉडी का असर कम होने की खबरों ने दुनियाभर में चिंता पैदा की। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और कोवैक्सीन के निर्माता भारत बायोटेक ने यह अध्ययन जनवरी में किया था और इसके नतीजे 24 मार्च को ‘जर्नल ऑफ ट्रैवल मेडिसिन’ में प्रकाशित हुए।

ओमीक्रोन स्वरूपों के लिए एंटीबॉडी प्रतिक्रिया अधिक देखी गयी

एनआईवी के एक अन्य वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. गजानन सकपाल ने कहा, ‘‘अध्ययन में शामिल जिन लोगों को बूस्टर खुराक दी गयी, उनमें बी.1 और वीओसी -डेल्टा, बीटा और ओमीक्रोन स्वरूपों के लिए एंटीबॉडी प्रतिक्रिया अधिक देखी गयी।’’ उन्होंने कहा कि इससे यह संकेत मिलता है कि कोवैक्सीन की बूस्टर खुराक विषाणु को निष्प्रभावी करने संबंधी एंटीबॉडी प्रतिक्रिया पैदा करती है और प्रभावी तरीके से सार्स-सीओवी-2 के कई स्वरूपों को नष्ट कर देती है।

सरकार ने शुक्रवार को घोषणा की कि 18 साल से अधिक आयु के लोग 10 अप्रैल से निजी टीकाकरण केंद्रों पर कोविड-19 रोधी टीके की एहतियाती खुराक ले सकते हैं।