BREAKING NEWS

भारत ड्रोन का इस्तेमाल वैक्सीन पहुंचाने के लिए करता है, केंद्रीय मंत्री ने साधा पाकिस्तान पर निशाना ◾सोमवार से दिल्ली में फिर खुलेंगे स्कूल, उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने दी जानकारी◾UP: प्रतिज्ञा रैली में BJP पर जमकर गरजी प्रियंका, बोली- 'इनका काम केवल झूठा प्रचार करना'◾राजनाथ ने मायावती और अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा- उप्र को न बुआ और न बबुआ चाहिए, सिर्फ बाबा चाहिए◾कांग्रेस नेता आजाद ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- केंद्र शासित प्रदेश बनने से DGP को थानेदार और सीएम को MLA... ◾ट्रेक्टर मार्च रद्द करने के बाद इन मुद्दों पर अड़ा संयुक्त किसान मोर्चा, कहा - विरोध जारी रहेगा ◾ओमिक्रोन कोरोना का डर! PM मोदी बोले- अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले की फिर हो समीक्षा◾अक्षर और अश्विन की फिरकी के जाल में फंसा न्यूजीलैंड, पहली पारी में 296 रनों पर सिमटी कीवी टीम ◾'जिहाद यूनिवर्सिटी': पाकिस्तान का वो मदरसा जिसके पास है अफगानिस्तान में काबिज तालिबान की डोर◾अखिलेश यादव ने किए कई चुनावी ऐलान, बोले- अब जनता BJP का कर देगी सफाया ◾संसद में बिल पेश होने से पहले किसानों का बड़ा फैसला, स्थगित किया गया ट्रैक्टर मार्च◾दक्षिण अफ्रीका में बढ़ते नए कोरोना वेरिएंट के मामलों के बीच पीएम मोदी ने की बैठक, ये अधिकारी हुए शमिल ◾कोरोना के नए वैरिएंट को राहुल ने बताया 'गंभीर' खतरा, कहा-टीकाकरण के लिए गंभीर हो सरकार◾बेंगलुरू से पटना जा रहे विमान की नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग, 139 यात्री और क्रू मेंबर थे सवार ◾कृषि कानूनों को रद्द करने की घोषणा के बाद आंदोलन का कोई औचित्य नहीं : नरेंद्र सिंह तोमर ◾NEET PG काउंसलिंग में देरी को लेकर रेजिडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल, दिल्ली में ठप पड़ी 3 अस्पतालों की OPD सेवांए◾नवाब मलिक ने किया दावा, बोले- अनिल देशमुख की तरह मुझे भी फंसाना चाहते हैं कुछ लोग◾वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर में श्रद्धालुओं को जबरन चंदन-टीका लगाकर मांगते थे दक्षिणा, प्रशासन ने लगाई रोक ◾दिल्ली : MCD कर्मियों को मुर्गा बनाने वाले पूर्व MLA आसिफ मोहम्मद खान गिरफ्तार◾छत्तीसगढ़ : दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने उखाड़ा रेलवे ट्रैक, पटरी से उतरे 3 इंजन और 20 डिब्बे ◾

देशभर में लॉकडाउन के दौरान सादगी से मनाई गयी ईद, लोगों ने घरों में ही अदा की नमाज

देशभर में लॉकडाउन के दौरान सोमवार को ईद उल फितर का त्यौहार बहुत सादगी से मनाया गया। मस्जिदों में सामूहिक रूप से नमाज नहीं हुई और लोगों ने अपने घरों में ही इस त्यौहार को मनाया। मुस्लिम धर्मगुरुओं ने लोगों से अपील की थी कि कोरोना वायरस महामारी के चलते वे एक दूसरे से दूरी बनाये रखने के नियम का पालन करें। 

दिल्ली में इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण लागू लॉकडाउन में ईद का रंग पहले की अपेक्षा थोड़ा हल्का रहा और इस दौरान मस्जिदें और ईदगाह बंद होने की वजह से लोगों ने घर पर ही नमाज अदा की। लोगों ने अपने करीबियों को ऑनलाइन ही ईद की बधाइयां दीं तो जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने ऑनलाइन ईद मिलन कार्यक्रम आयोजित किया।

इस बार लोगों को ईद के मौके पर होने वाली सामुदायिक प्रार्थना या सामूहिक भोज की कमी जरूर खली होगी क्योंकि सामाजिक दूरी के नियमों के चलते लोगों के एक जगह इकट्ठा होने पर रोक है। ऐतिहासिक जामा मस्जिद और फतेहपुरी मस्जिद के प्रांगण में जहां हर साल हजारों की संख्या में लोग ईद की नमाज पढ़ने पहुंचते थे, इस बार वहां सन्नाटा पसरा था। सिर्फ शाही इमाम और मस्जिद से संबंधित कर्मचारी परंपरागत प्रार्थना का हिस्सा बने।

मध्यप्रदेश में ईद का त्योहार सादे तरीके से मनाया गया। मुस्लिम समाज के लोगों ने इस बार ईद के अवसर पर मस्जिदों में न जाकर अपने घरों में ही नमाज अदा की। लॉकडाउन की वजह से हमेशा की तरह मुस्लिम समाज के लोगों द्वारा ईद के त्योहार पर मस्जिदों और खुले मैदानों में बड़ी तादाद पर नमाज अदा करने की दृश्य इस बार नहीं देखे गये।

वहीं, पंजाब और हरियाणा के कई इलाकों में ईद का जश्न फीका रहा क्योंकि कोरोना वायरस लॉकडाउन के मद्देनजर लोगों ने अपने घर पर ही नमाज अदा की। ईद-उल-फितर के मौके पर मुस्लिम विद्वानों ने लोगों को मुबारकबाद दी। इसी के साथ महीने भर से चल रहे रोजे खत्म हो गए। लुधियाना, गुरदासपुर के कादियां, मलेरकोटला समेत कई स्थानों पर लोगों ने घरों के अंदर ही नमाज अदा की।लुधियाना की जामा मस्जिद में इमाम मौलाना हबीब-उर-रहमान सानी लुधियानवी के नेतृत्व में नमाज पढ़ी गई और लोगों को ईद की मुबारकबाद दी।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी को ईद उल फितर का त्यौहार बहुत सादगी से मनाया गया। लॉकडाउन के चलते मस्जिदों में सामूहिक रूप से नमाज नहीं हुई और लोगों ने अपने घरों में ही इस त्यौहार को मनाया। ईदगाह में चंद लोगों द्वारा विशेष नमाज पढ़े जाने के बाद फरंगी महली ने कहा कि इस बार हर वर्ष की तरह त्यौहार का उत्साह नहीं है लेकिन कोविड-19 के चलते यह सब हो रहा है । ईदगाह के मैदान पर हर साल ईद और बकरीद के मौके पर हुजूम उमड़ता था लेकिन आज के जो हालात हैं उसे भी गंभीरता से लेने की जरूरत है। ईद के दिन शहरे लखनऊ की जिन गलियों में लोगों का हुजूम उमड़ पड़ता था, सोमवार को उन गलियों में सन्नाटा पसरा था। शहर में चौक, अमीनाबाद, नजीराबाद, फतेहगंज, लाटूश रोड और कैसरबाग जैसे गुलजार रहने वाले बाजार बंद थे। प्रदेश के अन्य जिलों से जो खबरें मिल रही हैं उनके मुताबिक लॉकडाउन के चलते मुस्लिम धर्मगुरुओं की अपील पर अमल करते हुए लोगों ने घरों में रहकर ही ईद का त्यौहार मनाया।

ईद-उल-फितर का जश्न इस बार कोलकाता और आसपास के जिलों में पहले के मुकाबले फीका रहा और लोगों ने ईद की नमाज अपने घर पर ही रहकर पढ़ी। शहर के अल्पसंख्यक बहुल इलाकों में ईद पर दिखने वाली रौनक व चहल-पहल भी सोमवार को नहीं दिखी। सरकारी अधिकारी हाल में आए ‘अम्फान’ चक्रवात के बाद गिरे पेड़ों और बिजली के खंभों को हटाने में व्यस्त दिखे। इस तूफान के कारण शहर के कई इलाकों में सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। पार्क सर्कस और किद्दरपोर में हर साल जहां इस त्योहार पर काफी गहमागहमी रहती थी वहां भी इस बार दुकानें ज्यादातर बंद हैं और सड़कों पर सन्नाटा है। कुछ ही लोग यहां अनाज और अन्य सामान की खरीदारी करते दिखे।

तेलंगाना में हैदराबाद और अन्य जगहों पर इस बार कोविड-19 के चलते ईद पर पहले जैसी रौनक नहीं दिखी। ईद पर हर साल हैदराबाद, खासकर पुराने शहर में काफी रौनक होती थी और बाजार गुलजार रहते थे, लेकिन इस बार वैश्विक महामारी और उसके चलते लागू लॉकडाउन के कारण लोगों ने ईद अपने घरों में रहकर सादगी के साथ मनाई। ईदगाहों और मस्जिदों में नमाज के लिए नमाजियों की भीड़ नहीं दिखी।