BREAKING NEWS

दिल्ली : 24 घंटे में कोरोना से 35 लोगों की मौत, 1606 नए मामले◾राजस्थान में सियासी घमासान के बीच पायलट ने कहा-राम राम सा! तो विश्वेंद्र व मीणा ने पूछा क्या गलती की?◾राजस्थान: सियासी उठापटक के बीच कल सुबह दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे सचिन पायलट ◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2.67 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,741 नए केस◾कानपुर शूटआउट : गिरफ्तार शशिकांत पांडेय का खुलासा, विकास के कहने पर ही हुई 8 पुलिसकर्मियों की हत्या◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में कोरोना के 50 फीसदी मामले महाराष्ट्र और तमिलनाडु से◾बिहार में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए 16 से 31 जुलाई तक लगाया गया लॉकडाउन ◾राज्यपाल से मुलाकात के बाद बोले गहलोत- कुछ लोग 'आ बैल मुझे मार' रवैये के साथ कर रहे थे काम◾सचिन पायलट की अध्यक्ष पद से बर्खास्ती के बाद गोविंद सिंह डोटासरा को सौंपा गया कार्यभार◾कांग्रेस के एक्शन के बाद सचिन पायलट ने किया ट्वीट- सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं ◾पूर्वी लद्दाख विवाद : भारत और चीन ने पैंगोग झील, देपसांग से सैनिकों को हटाने पर की वार्ता ◾कांग्रेस का सचिन पायलट पर बड़ा एक्शन, प्रदेश अध्यक्ष पद और उपमुख्यमंत्री के पद से किया बर्खास्त◾राजस्थान के मौजूदा संकट के लिए उमा भारती ने कांग्रेस और राहुल को बताया जिम्मेदार◾केजरीवाल ने प्लाज्मा बैंक का किया उद्धाटन, बोले- दिल्ली में कोरोना पीड़ित जरूरतमंदों को प्लाज्मा मिला ◾CBSE 10वीं का रिजल्ट कल होगा जारी, HRD मंत्री पोखरियाल ने की घोषणा ◾अमेरिका ने दक्षिण चीन सागर पर चीन के दावे को किया खारिज, कही ये बात◾पायलट का गहलोत के खिलाफ बगावती सुर बरकरार, मनाने में जुटा कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व◾कानपुर मुठभेड़ : एक और आरोपी शशिकांत गिरफ्तार, पुलिस को विकास दुबे के घर पर मिली AK-47◾भगवान राम को नेपाली बताने वाले बयान पर भड़के सिंघवी, बोले-ओली का बिगड़ गया है मानसिक संतुलन◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 9 लाख के पार, अब तक 24 हजार के करीब लोगों ने गंवाई जान ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

देशभर में लॉकडाउन के दौरान सादगी से मनाई गयी ईद, लोगों ने घरों में ही अदा की नमाज

देशभर में लॉकडाउन के दौरान सोमवार को ईद उल फितर का त्यौहार बहुत सादगी से मनाया गया। मस्जिदों में सामूहिक रूप से नमाज नहीं हुई और लोगों ने अपने घरों में ही इस त्यौहार को मनाया। मुस्लिम धर्मगुरुओं ने लोगों से अपील की थी कि कोरोना वायरस महामारी के चलते वे एक दूसरे से दूरी बनाये रखने के नियम का पालन करें। 

दिल्ली में इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण लागू लॉकडाउन में ईद का रंग पहले की अपेक्षा थोड़ा हल्का रहा और इस दौरान मस्जिदें और ईदगाह बंद होने की वजह से लोगों ने घर पर ही नमाज अदा की। लोगों ने अपने करीबियों को ऑनलाइन ही ईद की बधाइयां दीं तो जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने ऑनलाइन ईद मिलन कार्यक्रम आयोजित किया।

इस बार लोगों को ईद के मौके पर होने वाली सामुदायिक प्रार्थना या सामूहिक भोज की कमी जरूर खली होगी क्योंकि सामाजिक दूरी के नियमों के चलते लोगों के एक जगह इकट्ठा होने पर रोक है। ऐतिहासिक जामा मस्जिद और फतेहपुरी मस्जिद के प्रांगण में जहां हर साल हजारों की संख्या में लोग ईद की नमाज पढ़ने पहुंचते थे, इस बार वहां सन्नाटा पसरा था। सिर्फ शाही इमाम और मस्जिद से संबंधित कर्मचारी परंपरागत प्रार्थना का हिस्सा बने।

मध्यप्रदेश में ईद का त्योहार सादे तरीके से मनाया गया। मुस्लिम समाज के लोगों ने इस बार ईद के अवसर पर मस्जिदों में न जाकर अपने घरों में ही नमाज अदा की। लॉकडाउन की वजह से हमेशा की तरह मुस्लिम समाज के लोगों द्वारा ईद के त्योहार पर मस्जिदों और खुले मैदानों में बड़ी तादाद पर नमाज अदा करने की दृश्य इस बार नहीं देखे गये।

वहीं, पंजाब और हरियाणा के कई इलाकों में ईद का जश्न फीका रहा क्योंकि कोरोना वायरस लॉकडाउन के मद्देनजर लोगों ने अपने घर पर ही नमाज अदा की। ईद-उल-फितर के मौके पर मुस्लिम विद्वानों ने लोगों को मुबारकबाद दी। इसी के साथ महीने भर से चल रहे रोजे खत्म हो गए। लुधियाना, गुरदासपुर के कादियां, मलेरकोटला समेत कई स्थानों पर लोगों ने घरों के अंदर ही नमाज अदा की।लुधियाना की जामा मस्जिद में इमाम मौलाना हबीब-उर-रहमान सानी लुधियानवी के नेतृत्व में नमाज पढ़ी गई और लोगों को ईद की मुबारकबाद दी।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी को ईद उल फितर का त्यौहार बहुत सादगी से मनाया गया। लॉकडाउन के चलते मस्जिदों में सामूहिक रूप से नमाज नहीं हुई और लोगों ने अपने घरों में ही इस त्यौहार को मनाया। ईदगाह में चंद लोगों द्वारा विशेष नमाज पढ़े जाने के बाद फरंगी महली ने कहा कि इस बार हर वर्ष की तरह त्यौहार का उत्साह नहीं है लेकिन कोविड-19 के चलते यह सब हो रहा है । ईदगाह के मैदान पर हर साल ईद और बकरीद के मौके पर हुजूम उमड़ता था लेकिन आज के जो हालात हैं उसे भी गंभीरता से लेने की जरूरत है। ईद के दिन शहरे लखनऊ की जिन गलियों में लोगों का हुजूम उमड़ पड़ता था, सोमवार को उन गलियों में सन्नाटा पसरा था। शहर में चौक, अमीनाबाद, नजीराबाद, फतेहगंज, लाटूश रोड और कैसरबाग जैसे गुलजार रहने वाले बाजार बंद थे। प्रदेश के अन्य जिलों से जो खबरें मिल रही हैं उनके मुताबिक लॉकडाउन के चलते मुस्लिम धर्मगुरुओं की अपील पर अमल करते हुए लोगों ने घरों में रहकर ही ईद का त्यौहार मनाया।

ईद-उल-फितर का जश्न इस बार कोलकाता और आसपास के जिलों में पहले के मुकाबले फीका रहा और लोगों ने ईद की नमाज अपने घर पर ही रहकर पढ़ी। शहर के अल्पसंख्यक बहुल इलाकों में ईद पर दिखने वाली रौनक व चहल-पहल भी सोमवार को नहीं दिखी। सरकारी अधिकारी हाल में आए ‘अम्फान’ चक्रवात के बाद गिरे पेड़ों और बिजली के खंभों को हटाने में व्यस्त दिखे। इस तूफान के कारण शहर के कई इलाकों में सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। पार्क सर्कस और किद्दरपोर में हर साल जहां इस त्योहार पर काफी गहमागहमी रहती थी वहां भी इस बार दुकानें ज्यादातर बंद हैं और सड़कों पर सन्नाटा है। कुछ ही लोग यहां अनाज और अन्य सामान की खरीदारी करते दिखे।

तेलंगाना में हैदराबाद और अन्य जगहों पर इस बार कोविड-19 के चलते ईद पर पहले जैसी रौनक नहीं दिखी। ईद पर हर साल हैदराबाद, खासकर पुराने शहर में काफी रौनक होती थी और बाजार गुलजार रहते थे, लेकिन इस बार वैश्विक महामारी और उसके चलते लागू लॉकडाउन के कारण लोगों ने ईद अपने घरों में रहकर सादगी के साथ मनाई। ईदगाहों और मस्जिदों में नमाज के लिए नमाजियों की भीड़ नहीं दिखी।