BREAKING NEWS

एक्सप्रेस ट्रेन और मालगाड़ी में जोरदार टक्कर,चार पहिए पटरी से उतरे, मची अफरा-तफरी ◾महाराष्ट्र : आज से शुरू होगा विधानसभा का मानसून सत्र, पहली बार विपक्ष में बैठेंगे आदित्य ठाकरे◾Coronavirus : 24 घंटे में दर्ज हुए 9 हजार केस, 2.49% रहा डेली पॉजिटिविटी रेट◾Jammu Kashmir: सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड फेंक फरार हुए आतंकी, सर्च अभियान में हथियार-गोलाबारूद बरामद◾मुश्किलों में फंस सकते है कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल, सीबीआई कसेगी शिकंजा ◾आज का राशिफल (17 अगस्त 2022)◾बिहार में मिशन 35 प्लस के लक्ष्य के साथ नीतीश-तेजस्वी सरकार के खिलाफ मैदान में उतरेगी भाजपा◾PM मोदी और मैक्रों ने भू-राजनीतिक चुनौतियों, असैन्य परमाणु ऊर्जा सहयोग पर चर्चा की◾अपने अंतिम दिनों में, ठाकरे सरकार ने जल्दबाजी में लिए फैसले : CM शिंदे◾ चीनी पोत पहुंचा श्रीलंका हम्बनटोटा बंदरगाह , भारत ने जताई जासूसी की आशंका◾चीनी ‘जासूसी पोत’ पहुंचा श्रीलंकाई बंदरगाह , बीजिंग बोला-जहाज किसी के सुरक्षा हितों के लिए खतरा नहीं◾दिल्ली में फिर से आया कोरोना, 917 नए मामले आये सामने , तीन की मौत◾कांग्रेस संगठन में बड़ा बदलाव, रसूल वानी बने जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के अध्यक्ष◾AAP सरकार के पांच महीने पूरे होने पर 5 मंत्रियों ने पेश किया रिपोर्ट कार्ड◾मुंबई पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, गुजरात की फैक्ट्री में मारा छापा, 1026 करोड़ का नशीला पदार्थ जब्त◾गुजरात दंगों में बिल्कीस बानो दुष्कर्म के दोषी जेल से रिहा, राजनीति का शिकार होने का किया बड़ा दावा◾दिल्ली सरकार ने कोविड संबंधी आंकड़ों के प्रबंधन के लिए बनाई दो टीम, एक सरकारी आदेश में दी जानकारी ◾टारगेट किलिंग पर ओवैसी का फूटा गुस्सा, केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा- पंडितों को सुरक्षा प्रदान करने में विफल रहा◾ Haryana: मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर बोले- विदेशी निवेशकों की पहली पसंद बन रहा है हरियाणा◾Mother Dairy hikes Today: मदर डेयर दूध के भी बढ़े दाम, दो रूपये लीटर की हुई बढ़ोतरी, कल से होगा लागू◾

हिन्दू समाज को संगठित करने के लिये ‘समता’ अनिवार्य पहलू है : भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने बृहस्पतिवार को कहा कि सामाजिक समता और हिन्दू समाज समानार्थक है और उसे (हिन्दू समाज) संगठित करने के लिये समता अनिवार्य पहलू है। उन्होंने कहा कि सत्य, अहिंसा, समता आदि की बात काफी लोग करते हैं, इसके बारे में भाषण देते हैं, लेकिन इसके आधार पर चलने एवं आचरण करने की जरूरत है।

शांति सभी को चाहिए उससे समृध्दि आती हैं 

सांवली मूर्ति मंदिर में यहां अपने संबोधन में भागवत ने कहा, ‘‘ सत्य, अहिंसा, शांति और सम ता...ये धर्म के चार स्तम्भ हैं । संघ के स्वयंसेवकों का समर्थन हमेशा से ऐसे कार्यो के लिये रहा है।’’

उन्होंने कहा कि सत्य एवं करुणा का संबंध मन एवं वाणी की पवित्रता से जुड़ा होता है और इसके लिये तपस्या करनी पड़ती है। उन्होंने कहा कि खुद भी जिएं और दूसरों को भी जीने दें, यह अहिंसा है तथा शांति सभी को चाहिए और उससे समृद्धि आती है ।

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि परिवार से राष्ट्र तक कोई छोटा या बड़ा न हो, इसका नाता समता से है। उन्होंने कहा, ‘‘आज 14 अप्रैल को हम जिनका (बी आर आंबेडकर का) जन्मदिवस मना रहे हैं, उनका संबंध भी समानता एवं समता से है और उन्होंने सामाजिक जीवन में विषमता समाप्त करने के लिये योगदान दिया। 

भारत धर्मपरायण देश

उन्होंने कहा, ‘‘ सामाजिक समता और हिन्दू समाज समानार्थक है और इसे (हिन्दू समाज को) संगठित करने के लिये समता अनिवार्य पहलू है।’’

भागवत ने कहा कि भारत धर्मपरायण देश है, ऐसे में इन चार बातों को ध्यान में रखना चाहिए और इसके अनुरूप आचरण होना चाहिए । उन्होंने कहा कि इसका विरोध करना मनुष्यता के विरूद्ध है।