BREAKING NEWS

PM मोदी ने पूरी ओलंपिक टीम को बतौर 'स्पेशल गेस्ट' स्वतंत्रता दिवस समारोह पर किया आमंत्रित ◾कोरोना से जंग के बीच टीकाकरण अभियान जारी, राज्यों के पास 2.75 करोड़ खुराक उपलब्ध : केंद्र◾शिवराज का ऐलान- MP में जहरीली शराब बेचने वालों को होगा आजीवन कारावास या मौत की सजा◾दिल्ली सरकार ने विधायकों के वेतन में बढ़ोतरी को दी मंजूरी, अब 54 की जगह 90 हजार होगी सैलरी◾दिवंगत बाला साहेब ठाकरे से काफी प्रभावित है राहुल, वे जल्द महाराष्ट्र दौरे पर आएंगे: संजय राउत◾गरीबों का सशक्तीकरण है सर्वोच्च प्राथमिकता, लाखों परिवारों को फ्री राशन दे रही सरकार : PM मोदी◾CBSE 10th रिजल्ट : त्रिवेंद्रम क्षेत्र ने 99.99 फीसदी के साथ मारी बाजी, TOP-10 में सबसे नीचे दिल्ली◾संसद में पेगासस और कई मुद्दों को लेकर विपक्ष का हंगमा, राज्यसभा की बैठक स्थगित◾पेगासस पर नीतीश के बाद अब मांझी के भी विरोधी सुर- देश को पता चले कि कौन करवा रहा है जासूसी ◾जम्मू-कश्मीर : कठुआ में रणजीत सागर बांध के पास क्रैश हुआ भारतीय सेना का हेलीकॉप्टर◾CBSE बोर्ड 10वीं का रिजल्ट जारी, स्टूडेंट्स ऐसे कर सकेंगे चेक◾विपक्ष पर बरसे PM- संसद बाधित करना लोकतंत्र और संविधान का अपमान, माफी नहीं मांगना दर्शाता है अहंकार◾नीतीश की पेगासस मामले में जांच की मांग पर शिवसेना ने जताया आभार, राउत बोले-PM को अब सुन लेना चाहिए◾त्रिपुरा में उग्रवादियों का BSF पर हमला, सब इंस्पेक्टर सहित दो जवान शहीद◾भारत में कोरोना के मामलों में मिली बड़ी राहत, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 30,549 नए केस की हुई पुष्टि ◾राहुल की अगुवाई में संसद तक विपक्ष का साइकिल मार्च, ब्रेकफास्ट मीटिंग से दूर रहीं 'आप' और BSP◾अगस्त-सितंबर में हो सकती है सामान्य से अधिक बारिश, जानें कहां कैसा रहेगा मौसम◾ Tokyo Olympics : हॉकी में हार के बाद रेसलिंग में भी निराशा, भारतीय पहलवान सोनम पहले दौर में ही हारी◾World Corona Update : विश्व में संक्रमितों की संख्या 19.88 करोड़ के पार, 42.3 लाख लोगों ने गंवाई जान ◾ सेमीफाइनल में हॉकी टीम की हार पर बोले PM मोदी-हार जीत जीवन का हिस्सा, टीम ने किया सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

12th Board Exam : प्रियंका ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र, परीक्षा पर पुनर्विचार का किया आग्रह

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने सोमवार को केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक से आग्रह किया कि कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 12वीं कक्षा की परीक्षा कराने पर पुनर्विचार किया जाए।उन्होंने निशंक को पत्र लिखकर यह भी कहा कि बच्चों के जीवन को खतरे में डालना उनके साथ बहुत बड़ा अन्याय होगा।

पत्र में प्रियंका ने उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के बाद कई शिक्षकों की मौत होने और कोरोना संक्रमण के कथित तौर पर प्रसार होने का उल्लेख करते हुए कहा कि बोर्ड परीक्षा को लेकर बच्चों एवं अभिभावकों के सुझावों पर गंभीरता से विचार होना चाहिए।

उन्होंने अपने पास आए कई बच्चों एवं अभिभावकों के पत्रों का हवाला देते हुए कहा, ‘‘ बच्चों और अभिभावकों, दोनों का मानना है कि भीड़भाड़ वाले परीक्षा केंद्रों पर जाना असुरक्षित होगा। कुछ ने लिखकर कहा है कि उनके घरों पर बीमार रिश्तेदार या बुजुर्ग हैं तथा ऐसे में उनके जीवन को खतरे में डालना होगा। प्रियंका के मुताबिक, कई ने सुझाव दिया है कि कई अन्य देशों की तरह यहां भी आंतरिक मूल्यांकन होना चाहिए। कोरोना महामारी की दूसरी लहर को देखते हुए उनका डर और चिंता वाजिब है।

कांग्रेस महासचिव ने कहा, ‘‘कई छात्रों और अभिभावकों ने सुझाव दिया है कि परीक्षा में बैठने से पहले छात्रों को टीका लगाने के लिए एक समग्र रणनीति बननी चाहिए। मौजूदा सत्र के लिए बहुत देर हो चुकी है, लेकिन 2022 के सत्र के बच्चों के लिए इस आधार पर योजना बनाई जा सकती है।’’

उन्होंने इस बात पर जोर दिया, ‘‘छत्तीसगढ़ सरकार ने इस मुद्दे का कुछ दिलचस्प समाधान ढूंढा है। कई अभिभावकों का कहना है कि सीबीएसई भी यही तरीका अपना सकती है। घर पर ओपेन बुक परीक्षा का आयोजन हो तथा परीक्षा पुस्तिकाएं स्कूलों या परीक्षा केंद्रों से ली जाएं और कुछ दिनों के भीतर लौटा दी जाएं। इससे परीक्षा कराने का सुरक्षित माहौल मिलेगा।’’

उन्होंने कहा कि कई बच्चों ने कोरोना की दूसरी लहर में अपने प्रियजनों या माता-पिता को खोया है। उनसे परीक्षा की तैयारी करने और परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद करना निर्दयता एवं संवेदनहीनता होगी। भीड़भाड़ वाले परीक्षा केंद्रों पर बच्चों के लिए जाना भी उचित नहीं होगा। प्रियंका ने इस बात का उल्लेख किया, ‘‘एक बच्चे ने लिखा है कि परीक्षा कराना तीसरी लहर को प्रोत्साहित करना होगा...बहुत सारे बच्चे मानसिक रूप से परेशानियों का सामना कर रहे हैं। ऐसे में परीक्षा से जुड़े फैसले को लंबा खींचने से उनपर और दबाव बढ़ेगा।’’

उनके अनुसार, कुछ अभिभावकों ने कहा है कि अगर सरकार उनके बच्चों के जीवन को खतरे में डालने के लिए मजबूर करती है तो शिक्षा मंत्रालय, सीबीएसई और इस फैसले के लिए प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से जिम्मेदार लोगों को किसी भी अनहोनी के लिए कानूनी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

कांग्रेस नेता ने शिक्षा मंत्री से आग्रह किया, ‘‘बच्चों की सुरक्षा करना हमारी जिम्मेदारी एवं कर्तव्य है। मैं आपसे एक बार फिर आग्रह करती हूं कि 12वीं कक्षा की सीबीएसई बोर्ड परीक्षा कराने पर पुनर्विचार किया जाए तथा बच्चों एवं अभिभावकों की तरफ से दिए गए सुझावों पर गंभीरता से विचार किया जाए।’’ प्रियंका ने कहा, ‘‘अगर बच्चों के जीवन को खतरे में डालने वाले हालात की तरफ उन्हें धकेला जाता है जो यह बहुत बड़ा अन्याय होगा। ’’

बिहार में एक बार फिर बढ़ा लॉकडाउन, अब 8 जून तक जारी रहेगी पाबंदी, व्यापार के लिए मिलेगी छूट