BREAKING NEWS

उन्नाव रेप मामला : पूर्व बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर 16 दिसंबर को कोर्ट सुनाएगा फैसला◾सीएबी बिल पर उद्धव ठाकरे बोले- जब तक कुछ बातें स्पष्ट नहीं होतीं, हम नहीं करेंगे समर्थन◾दिल्ली से लेकर असम तक CAB के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन, मालीगांव में सुरक्षाबलों से भिड़े लोग◾नागरिकता विधेयक का समर्थन करना भारत की बुनियाद को नष्ट करने का प्रयास होगा : राहुल गांधी◾दिल्ली हाई कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ आपराधिक मानहानि मामले की सुनवाई पर लगाई रोक◾लोकसभा में बोले शाह- J&K में हिरासत में लिए गए नेताओं को छोड़ने का निर्णय स्थानीय प्रशासन लेगा◾पीएमओ में सत्ता का केंद्रीकरण अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं : शिवसेना◾दिल्ली : किराड़ी इलाके के गोदाम में लगी आग, मौके पर पहुंची 8 दमकल की गाड़ियां◾'असंवैधानिक' नागरिकता विधेयक पर लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में होगी : चिदंबरम◾हरियाणा : होमवर्क पूरा न करने पर दलित लड़की का मुंह काला कर स्कूल में घुमाया गया ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को JDU के समर्थन से प्रशांत किशोर निराश◾अनुच्छेद 370 को खत्म किये जाने के खिलाफ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट आज से करेगा सुनवाई ◾PM मोदी ने की शाह की तारीफ, बोले- नागरिकता विधेयक समावेश करने की भारत की सदियों पुरानी प्रकृति के अनुरूप◾नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में आज छात्र संगठनों की तरफ से पूर्वात्तर भारत में बंद ◾लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पारित, पक्ष में पड़े 311 वोट, विपक्ष में 80◾जब तक मोदी प्रधानमंत्री हैं, किसी भी धर्म के लोगों को डरने की जरूरत नहीं : शाह ◾महिलाओं के खिलाफ अत्याचार, चिंताजनक और शर्मनाक : नायडू ◾ओवैसी ने लोकसभा में नागरिकता विधेयक की प्रति फाड़ी भाजपा सदस्यों ने संसद का अपमान बताया ◾पूर्वोत्तर के अधिकतर राज्यों के दलों ने नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन किया ◾अनुच्छेद 370 को रद्द किये जाने के खिलाफ याचिकाओं पर संविधान पीठ कल से करेगी सुनवाई ◾

देश

चीन के साथ 1962 के युद्ध ने विश्व मंच पर भारत की स्थिति को काफी नुकसान पहुंचाया : जयशंकर

 s jaishankar

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बृहस्पतिवार को कहा कि अतीत में पाकिस्तान से निपटने के तौर तरीकों से कई प्रश्न खड़े होते हैं तथा 1972 के शिमला समझौते के फलस्वरूप पाकिस्तान प्रतिशोध की भावना में डूब गया और जम्मू कश्मीर में दिक्कतें होने लगीं। जयशंकर ने पाकिस्तान से निपटने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘साहसिक कदमों’ की सराहना की। 

विदेश मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान से निपटने के लिए निरंतर उस पर दबाव बनाये रखना बहुत जरूरी है, उसने ‘‘आतंक का उद्योग’’ खड़ा कर लिया है।

जयशंकर ने यहां चौथे ‘रामनाथ गोयनका स्मृति व्याख्यान’ देते हुए एक ऐसी विदेश नीति की वकालत की जो यथास्थितिवादी नहीं बल्कि बदलाव की सराहना करती हो और उन्होंने इस संदर्भ में 1962 में चीन के साथ लड़ाई, शिमला समझौते, मुम्बई हमले के बाद प्रतिक्रिया नहीं जताने जैसे भारतीय इतिहास की अहम घटनाओं का जिक्र किया और उसकी तुलना में 2014 के बाद भारत के अधिक गतिशील रूख को पेश किया। 

उन्होंने कहा कि विश्व मंच पर भारत की स्थिति लगभग तय थी लेकिन चीन के साथ 1962 के युद्ध ने उसे काफी नुकसान पहुंचाया। 

उन्होंने कहा, ‘‘अगर (आज) दुनिया बदल गयी है तो हमें उसी के अनुसार, सोचने, बात करने और सम्पर्क बनाने की जरूरत है। पीछे हटने से मदद मिलने की उम्मीद नहीं है।’’ उन्होंने साथ ही कहा कि ‘‘राष्ट्रीय हितों का उद्देश्यपूर्ण अनुसरण, वैश्विक गति को बदल रहा है।’’ 

उन्होंने आतंकवाद से निपटने में भारत के नये रुख को रेखांकित करते हुए मुम्बई आतंकवादी हमले पर ‘‘प्रतिक्रिया की कमी’’ की तुलना, उरी और पुलवामा हमलों पर की गई कार्रवाई से की। 

क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) से भारत के अलग होने पर विदेश मंत्री ने कहा कि खराब समझौते से कोई समझौता नहीं होना बेहतर है। 

उन्होंने भू राजनीतिक मुद्दों का ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य प्रस्तुत करते हुए कहा, ‘‘वर्षों से भारत की विश्व मंच पर स्थिति लगभग तय नजर आ रही थी लेकिन 1962 में चीन के साथ युद्ध ने उसे काफी नुकसान पहुंचाया।’’ रामनाथ गोयनका स्मृति व्याख्यान का आयोजन इंडियन एक्सप्रेस समूह ग्रुप द्वारा किया गया।