BREAKING NEWS

मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर मराठा आरक्षण समर्थक और पूर्व विधायक विनायक मेटे की दुर्घटना में मौत◾शेयर बाजार के 'बिग बुल' राकेश झुनझुनवाला 62 वर्ष की उम्र में निधन , पीएम मोदी ने जताई संवेदना ◾सावधान ! चीनी मांझे का खतरा बरकरार, कुछ लोगों की जा चुकी है जान, कई लोग घायल◾उद्धव ने CM शिंदे पर साधा निशाना , कहा - शिवसेना कोई खुले में रखी चीज नहीं कि कोई उसे उठा ले जाए◾Independence Day : देशभक्ति के जोश में डूबी दिल्ली, तिरंगे से जगमगाती दिखी प्रतिष्ठित इमारतें◾दिल्ली में शनिवार को सामने आए कोरोना वायरस संक्रमण के 2,031 नए मामले, साथ ही दर्ज हुई नौ और मरीजों की मौत ◾स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को संबोधित करेंगी राष्ट्रपति मुर्मू◾आज का राशिफल (14 अगस्त 2022)◾‘हर घर तिरंगा’ मुहिम को मिली प्रतिक्रिया से बहुत खुश एवं गौरवान्वित हूं : PM मोदी◾हर घर तिरंगा अभियान : मोहन भागवत ने RSS मुख्यालय पर फहराया तिरंगा ◾CM योगी ने वीर जवानों की सराहना की , कहा - देश के लिए बलिदान देने की जरूरत पड़ी, तो जवानों ने कभी संकोच नहीं किया◾NGT चीफ और जयराम रमेश ने उपराष्ट्रपति धनखड़ से की मुलाकात ◾विपक्ष के 11 दलों ने ईवीएम, धनबल और मीडिया के ‘दुरुपयोग’ के खिलाफ लड़ने का किया संकल्प◾ पाक : बारूदी सुरंग हमले में एक जवान की मौत, दो घायल◾ केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बोलीं- लोगों से अपने घरों पर तिरंगा फहराने का आग्रह करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं मोदी ◾J-K News: जम्मू कश्मीर में आतंकियों का कहर! श्रीनगर में ग्रेनेड हमले में CRPF का एक जवान घायल◾जयराम ठाकुर ने कहा- पुरानी पेंशन योजना बहाल करने की मांग से केंद्र को अवगत कराऊंगा◾ उपराज्यपाल सिन्हा का दावा - आतंकवाद के ताबूत में आखिरी कील ठोकेगी सरकार◾Delhi: सिसोदिया ने कहा- स्कूलों के छात्र उद्यमिता......... कम उम्र में स्टार्ट-अप स्थापित कर रहे◾16 को होगा महागठबंधन सरकार का शपथ ग्रहण समारोह, कांग्रेस की भागीदारी तय ◾

वित्तीय संकट के कारण 3 लाख छात्र एग्जाम फीस भरने में असमर्थ,लोगों के सहयोग से अभिभावक संगठन करेंगे मदद

वित्तीय संकट और माता-पिता की नौकरी छूटने के कारण, दसवीं और बारहवीं कक्षा के लगभग 3 लाख छात्र ऐसे हैं जो बोर्ड परीक्षा शुल्क का भुगतान करने में आर्थिक रूप से सक्षम नहीं हैं। अब अभिभावक संगठन ऐसे छात्रों का ब्यौरा एकत्र कर रहे हैं। प्रबुद्ध व्यक्तियों, विभिन्न गैर सरकारी संगठनों, संस्थाओं, व्यक्तियों द्वारा सीधे स्कूलों में इन छात्रों की बोर्ड की भरने का प्रयास किया जाएगा।

ऑल इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं दिल्ली विश्वविद्यालय एग्जीक्यूटिव काउंसिल के सदस्य अशोक अग्रवाल के मुताबिक ऐसे बच्चों की बोर्ड फीस सीधे स्कूल में जमा कराने की कोशिश की जा रही है। अशोक अग्रवाल ने कहा, "10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों की औसत बोर्ड फीस लगभग 2500 रुपये प्रति छात्र है। जो लोग गरीब छात्रों की सीबीएसई परीक्षा शुल्क का भुगतान करके दिल्ली के दसवीं और बारहवीं कक्षा के छात्रों की आर्थिक रूप से मदद करने में सक्षम हैं, वे पास के सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल से संपर्क कर सकते हैं। सरकारी स्कूलों में सीधे परीक्षा शुल्क का भुगतान किया जा सकता है।"

अशोक अग्रवाल ने कहा, "हमारे पास ऐसे लगभग 3,15,000 छात्र हैं। इन छात्रों की मदद के लिए ऑल इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन की ओर से अपील भी जारी की गई है।" गौरतलब है कि प्रथम चरण की सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं नवंबर व दिसंबर महीने में ली जाएंगी। 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षा से पहले सीबीएसई ने भी कोरोना से प्रभावित छात्रों को राहत देने की योजना बनाई है। सीबीएसई के मुताबिक कोविड-19 महामारी के कारण जिन छात्रों के माता पिता की मृत्यु हो गई है, ऐसे छात्रों के लिए बोर्ड परीक्षा की फीस माफ कर दी गई है। सीबीएसई बोर्ड के मुताबिक कोरोना महामारी के कारण जिन छात्रों के कानूनी अभिभावक की मृत्यु हुई है, उनसे भी बोर्ड परीक्षा की फीस नहीं ली जाएगी। सीबीएसई बोर्ड ने ऐसे सभी छात्रों की रजिस्ट्रेशन फीस भी माफ करने का निर्णय लिया है।

सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने इस विषय पर कहा, "कोरोना ने काफी बुरी तरह प्रभावित किया है। छात्रों पर इसके विपरीत प्रभाव के मद्देनजर बोर्ड ने मौजूदा सत्र में छात्रों को यह राहत देने का निर्णय लिया है।" संयम भारद्वाज ने कहा, "बोर्ड ऐसे छात्रों से न तो परीक्षा की फीस लेगा, न ही रजिस्ट्रेशन फीस ली जाएगी। 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए छात्रों की सूची तैयार करते ऐसे सभी छात्रों का सत्यापित ब्यौरा दर्ज किया जाएगा।"

सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षाओं के लिए लिस्ट आफ केंडिडेट (एलओसी) एकत्र करना शुरू कर दिया है। एलओसी के बाद बोर्ड 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के पहले चरण की डेट शीट की घोषणा करेगा। सीबीएसई बोर्ड फिलहाल 10वीं एवं 12वीं कक्षा के छात्रों का ब्यौरा एकत्र कर रहा है।

इस संदर्भ में सीबीएसई बोर्ड ने देशभर के स्कूलों के लिए एक नोटिस जारी किया है। नोटिस में सीबीएसई ने स्पष्ट किया है कि सभी स्कूलों को तय समय में छात्रों की जानकारी 'लिस्ट ऑफ कैडिडेट्स' यानी एलओसी बनाकर बोर्ड को भेजनी है। यह प्रक्रिया 30 सितंबर तक चलेगी।

डल लेक पर वायुसेना के विमानों ने किया शक्ति प्रदर्शन, 'अपने सपनों को पंख दो' विषय के साथ युवाओं को किया प्रेरित